News Nation Logo

US: पूर्व प्रेसीडेंट डोनाल्ड ट्रंप के घर FBI का छापा, बोले-देश के लिए काला दिन

News Nation Bureau | Edited By : Shravan Shukla | Updated on: 09 Aug 2022, 07:46:48 AM
Donald Trump

Donald Trump (Photo Credit: File)

highlights

  • डोनाल्ड ट्रंप के घर पर FBI एजेंट्स का कब्जा!
  • ट्रंप ने बताया अमेरिकी इतिहास का सबसे काला दिन
  • एफबीआई की छापेमारी गलत, ये वामपंथियों की साजिश

नई दिल्ली:  

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Former US President Donald Trump) के घर पर एफबीआई (Federal Bureau of Investigation) की छापेमारी हुई है. एफबीआई ने डोनाल्ड ट्रंप के पॉम बीच (Palm Beach) स्थित 'मार-ए-लैगो' के शानदार घर को सीज कर दिया है. खुद डोनाल्ड ट्रंप ने इसकी जानकारी दी है और इसे अमेरिकी इतिहास का काला दिन करार दिया है. डोनाल्ड ट्रंप ने बताया कि उनके सुंदर 'मार-ए-लैगो' (Mar-a-Lago) घर को बड़ी संख्या में मौजूद एफबीआई एजेंट्स ने रेड डाली है और उस पर कब्जा कर लिया है.

ट्रंप के सेफ में घुसे एफबीआई एजेंट्स

ये छापेमारी अमेरिका की राजधानी में हुई हिंसा के मामले में हुआ था, जिसमें अमेरिका के उस समय राष्ट्रपति रहे डोनाल्ड ट्रंप ने उसे रोकने की बिल्कुल भी कोशिश नहीं की और न ही कोई हस्तक्षेप किया. हालांकि डोनाल्ड ट्रंप ने ये नहीं बताया कि उनके घर पर एफबीआई किस लिए छापेमारी कर रही है. उन्होंने कहा कि एफबीआई ने उनके सेफ हाउस तक में घुसपैठ कर ली. उन्होंने इसे अमेरिकी इतिहास का काला दिन करार दिया और कहा कि ये दिन 'अमेरिका के 45वें राष्ट्रपति' के घर को सीज करने के लिए जाना जाएगा.

मुझे रोकने के लिए वामपंथी कर रहे साजिश

डोनाल्ड ट्रंप ने कहा, 'अमेरिका के किसी भी राष्ट्रपति के साथ ऐसा नहीं हुआ. मैंने सभी एजेंसियों के साथ जांच में सहयोग किया. इसके बावजूद अचानक छापेमारी क्यों हुई, जबकि ये जरूरी और सही नहीं है. ये न्यायिय सिस्टम पर हमला है, ऐसा करने के पीछे हार्डकोर वामपंथी हैं, जो ये नहीं चाहते कि मैं किसी भी हाल में साल 2024 का राष्ट्रपति चुनाव लड़ूं. खासकर उन हालिया पोल्स के बाद, जिसमें मिड टर्म इलेक्शन की दशा में रिपब्लिकन आगे निकल रहे हैं.'

ये भी पढ़ें: BJP-JDU में तकरार के बीच अमित शाह ने संभाली कमान, नीतीश से की बात

कैपिटोल में हुई थी जमकर हिंसा

बता दें कि राष्ट्रपति चुनाव के बाद अमेरिकी राजधानी में जमकर हिंसा हुई थी. इसमें लोग भी मारे गए थे. वो चुनाव में धांधली का आरोप लगा रहे थे. आरोप है कि हिंसा करने वाले सभी लोग डोनाल्ड ट्रंप के समर्थक थे और उन्होंने पूरी राजधानी की सुरक्षा को खतरे में डाल दिया. राजधानी में आपातकाल लागू करना पड़ा था और बड़े पैमाने पर गिरफ्तारियां भी की गई थी.

First Published : 09 Aug 2022, 07:46:48 AM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.