News Nation Logo
Banner

केन्या ने असुरक्षा के बीच उत्तरी क्षेत्र में लगाया रात का कर्फ्यू

केन्या ने असुरक्षा के बीच उत्तरी क्षेत्र में लगाया रात का कर्फ्यू

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 03 May 2022, 01:10:01 PM
Kenyan Interior

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नैरोबी:   केन्या की सरकार ने बढ़ती असुरक्षा को लेकर सुरक्षा निरस्त्रीकरण अभ्यास को बढ़ाने के लिए देश के उत्तरी हिस्से में मरसाबिट काउंटी में एक महीने के रात के कर्फ्यू और सुरक्षा अभियानों की घोषणा की है।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, आंतरिक कैबिनेट सचिव फ्रेड मटियांगी ने यह भी कहा कि पड़ोसी इसियोलो काउंटी में कोमू सब काउंटी और केन्या-इथियोपिया सीमा के पास सोलोलो क्षेत्र भी शाम से सुबह तक कर्फ्यू से प्रभावित होंगे।

उन्होंने केन्या की राजधानी नैरोबी में पत्रकारों से कहा, हमने मरसाबिट में बंदूकों के प्रसार और कोमू में अराजकता देखी है, जहां अवैध खनन गतिविधियां चल रही हैं।

मटियांगी ने कहा कि शाम 6 बजे से सुबह 6 बजे तक का कर्फ्यू 30 दिनों तक चलेगा, जिसमें अवैध बंदूकों और गोला-बारूद को टारगेट करने वाले निरस्त्रीकरण अभ्यास किए जाएंगे।

अधिकारी ने कहा कि सरकार ने पिछले सप्ताह ऑपरेशन के लिए पर्याप्त कर्मियों को इक्ठ्ठा किया है।

मटियांगी ने कहा कि ऑपरेशन को तब तक बढ़ाया जा सकता है जब तक कि वे वहां तबाही मचा रहे लोगों से छुटकारा नहीं पा लेते। साथ ही कुछ नेताओं पर क्षेत्र में असुरक्षा का आरोप लग रहा है, जो अपने कबीलों से लोगों को हथियार मुहैया करा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि विशेष बल उन लोगों में शामिल हैं जो कोमू उप-काउंटी, मेर्टी, इसियोलो में और सीमा के पास सोलोलो के कुछ हिस्सों को प्रभावित करने के लिए ऑपरेशन का संचालन कर रहे हैं।

यह इस आशंका के कारण है कि कुछ आतंकवादी समूह राजधानी नैरोबी जैसे अन्य स्थानों पर हमलों के लिए अपने हथियारों के परिवहन के लिए इस क्षेत्र का उपयोग एक मार्ग के रूप में कर रहे हैं।

उन्होंने कहा, हमारे देश में मरसाबिट में सुरक्षा चुनौतियां लचर रही हैं। आप नेताओं और हमारे आम नागरिकों के जीवन को जानते हैं जिन्हें हमने इन चुनौतियों के कारण खो दिया है।

मटियांगी ने कहा, हम सुरक्षा क्षेत्र में इन चुनौतियों के कारण लगभग हर दूसरे दिन नुकसान झेल रहे हैं। हम इस ऑपरेशन पर तब तक बने रहेंगे जब तक कि हम ये सब रोक नहीं देते हैं।

सरकार ने स्थानीय लोगों को समाधान निकालने या सबसे बड़े काउंटी में एक अभियान शुरू करने के लिए 3 महीने का समय दिया।

लेकिन हमले जारी हैं। 28 अप्रैल को लाइसामिस में बंदूकधारियों द्वारा घात लगाकर किए गए हमले में 6 लोग मारे गए और 4 घायल हो गए।

मटियांगी ने कहा, ये विस्तारवाद की राजनीति, सूखे, उबड़-खाबड़ और बड़े इलाके और झरझरा सीमाओं के माध्यम से हथियारों की वजह से बढ़ गई है। पड़ोसी देशों में राजनीतिक अस्थिरता और परेशानी भी हथियारों तक पहुंच को आसान बनाती है।

उत्तरी केन्या में बोराना और गरबा पशुधन चराने वाले समुदायों के बीच अंतर-सांप्रदायिक संघर्ष ने हाल के महीनों में चारागाह और मवेशियों की प्रतिद्वंद्विता से जुड़े विरोध के हमलों में सैकड़ों लोगों को मार डाला और हजारों लोगों को विस्थापित कर दिया है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 03 May 2022, 01:10:01 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.