News Nation Logo
भारत में अब तक कोविड के 3.46 करोड़ मामले सामने आए हैं: लोकसभा में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हरियाणा में अगले आदेश तक गुरुग्राम, सोनीपत, फरीदाबाद और झज्जर के स्कूलों को बंद करने का आदेश Omicron Update: 31 देशों में 400 से ज्यादा संक्रमण के मामले मलेशिया में ओमीक्रॉन के पहले मामले की पुष्टि अमेरिका में ओमीक्रॉन से संक्रमण के मामले बढ़कर 8 हुए केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: CCTV के मामले में दिल्ली दुनिया में नंबर 1 केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: दिल्ली में महिलाएं पूरी तरह सुरक्षित केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: दिल्ली में 1.40 कैमरे और लगाए जाएंगे थोड़ी देर में ओमीक्रॉन पर जवाब देंगे स्वास्थ्य मंत्री IMF की पहली उप प्रबंध निदेशक के रूप में ओकामोटो की जगह लेंगी गीता गोपीनाथ 12 राज्यसभा सांसदों के निलंबन को लेकर विपक्षी दलों के सांसदों का गांधी प्रतिमा के पास विरोध-प्रदर्शन यमुना एक्‍सप्रेसवे पर सुबह सुबह बड़ा हादसा, मप्र पुलिस के दो जवानों समेत चार की मौत जयपुर में दक्षिण अफ्रीका से लौटे एक ही परिवार के चार लोग कोरोना संक्रमित

राष्ट्रीय बहुमत की सरकार बनाना चाहते हैं इराकी मौलवी

राष्ट्रीय बहुमत की सरकार बनाना चाहते हैं इराकी मौलवी

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 19 Nov 2021, 02:45:01 PM
Iraqi cleric

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

बगदाद: इराक के प्रमुख शिया धर्मगुरु मुक्तदा अल-सदर ने देश की राजनीतिक प्रक्रिया के लिए एक रोडमैप तैयार किया है, जिसमें राष्ट्रीय बहुमत वाली सरकार का गठन और अनियंत्रित सशस्त्र समूहों का विघटन शामिल है।

सिन्हुआ समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, अल-सदर की पार्टी 10 अक्टूबर को हुए चुनावों में सबसे आगे दिखाई दी। उन्होंने शिया पवित्र शहर नजफ से एक टेलीविजन प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि हमारे पास एकमात्र विकल्प या तो राष्ट्रीय बहुमत वाली सरकार या राष्ट्रीय विपक्ष (संसद में) है।

अल-सदर ने चुनावों में हारने वाले राजनीतिक दलों को संबोधित करते हुए कहा, दुनिया ने चुनावों की अखंडता देखी है और आपका नुकसान इराक में लोकतांत्रिक प्रक्रिया को समाप्त करने और बर्बाद करने का प्रस्ताव नहीं होना चाहिए।

मौलवी ने रोडमैप में कई शर्तें निर्धारित कीं है, जिनमें सरकार में भाग लेने की इच्छा रखने वाले दलों को अपने संदिग्ध भ्रष्ट लोगों को जवाबदेह ठहराना चाहिए। साथ ही अनियंत्रित सशस्त्र समूहों को समाप्त करना शामिल है, जिन्हें अपने हथियार हशद शाबी बलों को सौंपने होंगे, जो निवर्तमान प्रधानमंत्री मुस्तफा अल-कदीमी की देखरेख में, इराकी सेना के कमांडर-इन-चीफ भी हैं।

उन्होंने यह भी निर्धारित किया कि पार्टियों को अपने सभी विदेशी संबंधों को इस तरह से गंभीर करना चाहिए जो इराक की प्रतिष्ठा और स्वतंत्रता को बनाए रखता है और पड़ोसी देशों के मामलों में इराक को युद्धों से बचाने के लिए हस्तक्षेप नहीं करता है।

इराक में 10 अक्टूबर को प्रारंभिक संसदीय चुनाव हुए, जिसमें दिखाया गया कि अल-सदर के नेतृत्व में सदरवादी आंदोलन ने 70 से ज्यादा सीटों के साथ बढ़त हासिल की, जबकि अल-फतेह गठबंधन (विजय) जिसमें हशद शाबी के कुछ शिया मिलिशिया शामिल थे, उन्होंने 2018 के संसदीय चुनावों में 47 सीटों की तुलना में केवल 17 सीटें हासिल कीं।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 19 Nov 2021, 02:45:01 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.