News Nation Logo
कोविड के खिलाफ लड़ाई में भी भारत और रूस के बीच सहयोग: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत में 85 फीसदी पात्र आबादी को कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लगा दी गई है: मनसुख मंडाविया दिल्ली में इस साल डेंगू से अब तक 15 मरीजों की मौत बीते 6 साल में डेंगू से मौत का सबसे बड़ा आंकड़ा शाही ईदगाह मस्जिद की जगह पर भव्य श्रीकृष्ण मंदिर के निर्माण के लिए संकल्प यज्ञ किया गया ओमिक्रोन के अलर्ट के बीच पटना में 100 विदेशियों की तलाश भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से हराकर टेस्ट मैच श्रृंखला 1-0 से जीती टीम इंडिया ने घर में लगातार 14वीं टेस्ट सीरीज जीती न्यूजीलैंड पर 372 रनों से जीत रनों के लिहाज से भारत की टेस्ट मैचों में सबसे बड़ी जीत है उत्तराखंड के चमोली में देवल ब्लॉक के ब्रह्मताल ट्रेक मार्ग पर बर्फबारी हुई रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने भारत के विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर के साथ नई दिल्ली में बैठक की

अब इराक ने डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ खोला मोर्चा, US फौज को हटाने के लिए करेंगे ये काम

इराक की संसद में सैन्य ठिकानों से अमेरिका के सैनिकों को हटाने के लिए मतदान होने की संभावना है.

News Nation Bureau | Edited By : Deepak Pandey | Updated on: 05 Jan 2020, 06:43:04 PM
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Photo Credit: न्यूज स्टेट)

नई दिल्‍ली:

इराक की संसद में सैन्य ठिकानों से अमेरिका के सैनिकों को हटाने के लिए मतदान होने की संभावना है. अमेरिका के हमले में ईरान के कुद्स फोर्स के प्रमुख मेजर जनरल कासिम सुलेमानी की मौत के बाद तेहरान समर्थक गुटों से इन सैन्य ठिकानों पर हमले की आशंका बढ़ गई है. वहीं, डोनाल्ड ट्रंप की धमकी पर ईरान की सेना ने कहा कि अमेरिका में लड़ाई शुरू करने की हिम्मत नहीं है.

यह भी पढ़ेंःभारत ने पाकिस्तान में सिख युवक की हत्या की निंदा की, बोले- इमरान खान को तुरंत उठाना चाहिए ये बड़ा कदम

कातिब हिजबुल्ला धड़े का कहना है कि हम देश में सुरक्षाबलों से रविवार शाम पांच बजे से अमेरिकी बेस से कम से कम एक किलोमीटर दूर चले जाने को कहते हैं. संयोग से समय सीमा ऐसे वक्त निर्धारित की गई है, जब रविवार को संसद सत्र का समापन होगा, जिसमें अमेरिकी सैनिकों को देश से बाहर करने के लिए मतदान हो सकता है.

इस्लामिक स्टेट जिहादी समूह के उभार को रोकने के लिए स्थानीय सैनिकों को प्रशिक्षित देने के लिए इराकी बेस में करीब 5200 अमेरिकी सैनिक तैनात हैं. इन सैनिकों की तैनाती व्यापक अंतरराष्ट्रीय गठबंधन के तहत हुई थी, जिन्हें इराकी सरकार ने आईएस को इराकी क्षेत्र से खदेड़ने में मदद के लिए 2014 में बुलाया था.

यह भी पढ़ेंःराजस्थान: कोटा में नवजातों की मौत पर आपस में भिड़ी कांग्रेस सरकार, स्वास्थ्य मंत्री का सचिन पायलट पर पलटवार

हाशेड के शिया बहुल धड़ों का ईरान के साथ करीबी संबंध है और यह संगठन कई महीनों से अमेरिकी सैनिकों की मौजूदगी का विरोध कर रहा है. इराक की 329 सदस्यीय संसद की कार्यवाही स्थानीय समयानुसार अपराह्न एक बजे से शुरू होगी और कार्यसूची का कोई प्रकाशन नहीं हुआ है, लेकिन सांसद विदेशी सैनिकों पर वोटिंग कराना चाहते हैं.

First Published : 05 Jan 2020, 06:38:59 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो