News Nation Logo
Banner

Indo-UK युवा ने संसद को संबोधित किया, जलवायु परिवर्तन पर की चर्चा

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 01 Dec 2022, 08:29:53 PM
UNEP

(source : IANS) (Photo Credit: Twitter )

लंदन:  

लंदन में एक 17 वर्षीय ब्रिटिश-भारतीय एक्टिविस्ट ने हाउस ऑफ कॉमन्स को संबोधित किया है. इस दौरान एक्टिविस्ट ने स्वास्थ्य पर इसके प्रतिकूल प्रभावों को रोकने के लिए जलवायु परिवर्तन पर तेजी से कार्रवाई करने की अपील की है.  रिपोर्ट के अनुसार, 17 वर्षीय देव शर्मा पूरे यूके से युवा संसद के उन 250 सदस्यों में शामिल थे जिन्हें हाल ही में चैंबर में स्वास्थ्य से संबंधित विषयों पर बहस के लिए बुलाया गया था. देव शर्मा ने संबोधित के दौरान कहा कि आइए स्पष्ट करें कि हम वर्तमान जलवायु आपदा की वजह नहीं हैं. लेकिन हम स्वास्थ्य प्रभावों का सामना कर रहे हैं, भले ही हमने इस आपदा को शुरू नहीं किया हो. हमें इसका समाधान करना चाहिए.

लीसेस्टरशायर के यूथ पार्लियामेंट के सदस्य देव ने कहा कि हम आपको देखते हैं और पूछते हैं कि हमारे पास सांस लेने के लिए स्वच्छ हवा क्यों नहीं है? दुनिया के बड़े हिस्से क्यों डूब गए हैं और आप कार्रवाई क्यों नहीं करते हैं. उन्होंने कहा कि प्लीज उस हवा की रक्षा करें जिसमें हम सांस लेते हैं, जो भोजन हम खाते हैं, जो पानी हम पीते हैं और उम्मीदें और सपने जो हमारे जीवन को बनाए रखते हैं.

देव ने कहा कि बंटवारे, डिस्ट्रैक्शन और विनाश के लिए वोट न करें, भविष्य की पीढ़ी द्वारा उन्हें रहने योग्य ग्रह से वंचित करने के लिए न्याय न करें. युवा सांसदों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि आइए अपने सांसदों की पैरवी करने और अपने उद्देश्य को जारी रखें रखने के लिए कार्य करें.

इसके अलावा उन्होंने कहा कि पर्यावरण और स्वास्थ्य को अपना राष्ट्रीय अभियान बनाएं. अपने संबोधन के बाद देव ने ट्वीट करते हुए लिखा कि संसद में बोलना एक वास्तविक अनुभव था. मैं इस तरह के महत्वपूर्ण विषय पर बहस शुरू करने के लिए इससे अधिक आभारी नहीं हो सकता था.

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 01 Dec 2022, 08:29:53 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.