News Nation Logo
संसद में हमने पेगासस का मुद्दा उठाया था: राहुल गांधी पेगासस देश पर, देश के संस्थानों पर एक हमला है: राहुल गांधी पेगासस को कोई प्राइवेट पार्टी नहीं खरीद सकती: राहुल गांधी आर्यन की जमानत पर सुनवाई जारी हिमाचल प्रदेश के कुल्लू में हुआ अग्निकांड अत्यंत दुखद है: पीएम मोदी मलाणा गांव में त्रासदी के सभी पीड़ित परिवारों के प्रति पीएम मोदी ने संवेदना व्यक्त की राज्य सरकार और स्थानीय प्रशासन राहत और बचाव के काम में पूरी तत्परता से जुटे NCB के DDG ज्ञानेश्वर सिंह समेत NCB की 5 सदस्यीय टीम दिल्ली से मुंबई पहुंची प्रभाकर मुंबई के क्रूज़ ड्रग्स मामले में एक गवाह है दिल्ली में 1 नवंबर से खुल सकेंगे सभी स्कूल: मनीष सिसोदिया भारत सभी देशों के अधिकारों का सम्मान करता है: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह हम अपने समुद्रों और विशेष आर्थिक क्षेत्र की रक्षा हर कीमत पर करेंगे: राजनाथ सिंह लालू ने सोनिया से समान विचारधारा वाले लोगों और पार्टियों को एक मंच पर लाने की बात कही सोनिया जी एक मजबूत विकल्प (सत्तारूढ़ पार्टी का) देने की दिशा में काम करें: लालू प्रसाद यादव मैंने सोनिया गांधी से बात की, उन्होंने मुझसे मेरी कुशलक्षेम पूछी: राजद नेता लालू प्रसाद यादव कांग्रेस महासचिव और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी ने दिल्ली में बुलाई हाई लेवल बैठक पटना के गांधी मैदान बम ब्लास्ट मामले का एक आरोपी फखरुद्दीन को रिहा पटना के गांधी मैदान बम ब्लास्ट मामले में सजा 1 नवंबर को सुनाई जाएगी NIA की स्पेशल कोर्ट ने 10 आरोपियों में से नौ को दोषी करार दिया सीएम तीर्थयात्रा योजना में अयोध्या शामिल: अरविंद केजरीवाल, सीएम दिल्ली दिल्ली के लोग रामलला के दर्शन कर सकेंगे: अरविंद केजरीवाल, सीएम दिल्ली कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किया नई पार्टी बनाने का ऐलान, कहा- सभी 117 सीटों पर लड़ेंगे चुनाव

विद्युत मोहन भी बने UN के यंग चैम्पियंस ऑफ द अर्थ

'यंग चैम्पियंस ऑफ द अर्थ' के सात विजेताओं में 29 वर्षीय एक भारतीय उद्यमी भी शामिल है.

IANS/News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 17 Dec 2020, 01:25:19 PM
Vidyut Mohan

भारतीय उद्यमी विद्युत मोहन बने यंग चैंपियंस ऑफ द अर्थ. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

संयुक्त राष्ट्र:

संयुक्त राष्ट्र की पर्यावरण एजेंसी द्वारा दिए जाने वाले विशिष्ट पुरस्कार 'यंग चैम्पियंस ऑफ द अर्थ' के सात विजेताओं में 29 वर्षीय एक भारतीय उद्यमी भी शामिल है. नए विचारों और नवोन्मेषी कदमों के जरिए पर्यावरण से जुड़ी चुनौतियों के समाधान की दिशा में काम करने वालों को यह पुरस्कार दिया जाता है. 

संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (यूएनईपी) ने एक बयान में बताया कि टेकाचार कंपनी के सह संस्थापक और पेशे से इंजीनियर विद्युत मोहन ने अपने सामाजिक उद्यम के जरिए किसानों को अपनी फसल का अपशिष्ट नहीं जलाने के लिए समझाया और इन अपशिष्टों का इस्तेमाल करते हुए उन्हें अतिरक्त आमदनी के उपाए बताए. बयान में मोहन के हवाले से बताया गया, टमैं हमेशा से ऊर्जा तक पहुंच और गरीब समुदायों के लिए आमदनी के अवसर मुहैया कराने के विषय पर काम करना चाहता था.ट

उन्होंने कहा, 'विकासशील देशों में आर्थिक विकास और पर्यावरण पर होने वाले दुष्प्रभावों को रोकने के लिए संतुलन बनाने के सवालों का जवाब तलाश करना चाहता था.' संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने एक संदेश में कहा कि कोरोना वायरस महामारी के दौरान समाज की दिक्कतें बढ़ी हैं, अर्थव्यवस्था पर भी असर पड़ा है. उन्होंने कहा, 'हमें प्रकृति को हुए नुकसान के लिए तुरंत ठोस कदम उठाने और टिकाऊ विकास के रास्ते पर आगे बढ़ने की जरूरत है.' उन्होंने कहा कि 'यंग चैम्पियंस ऑफ द अर्थ' लोगों को प्रेरित करने और इस दिशा में आगे बढ़ाने का काम कर रहे हैं.

यूएनईपी की कार्यकारी निदेशक इंगर एंडरसन ने कहा कि जलवायु परिवर्तन, जैव विविधता को हुए नुकसान के सार्थक समाधान के लिए युवा अग्रणी भूमिका निभा रहे हैं. टेकाचार किसानों से धान की भूसी, पराली और नारियल के छिलके लेकर उन्हें चारकोल में बदलती है और किसानों को अपशिष्ट जलाने से रोकने के लिए प्रेरित करती है. वर्ष 2018 में शुरुआत के बाद से मोहन और कंपनी के सह संस्थापक केविन कुंग ने 4500 किसानों के साथ मिलकर काम किया और 30,000 टन अपशिष्ट का निपटारा किया.

First Published : 17 Dec 2020, 01:25:19 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.