News Nation Logo
Banner

चीनी अखबार की सलाह, बुलेट ट्रेन जैसे प्रोजेक्ट और रेल सेक्टर से चीन को दूर रखना भारत के लिये नुकसानदेह

हाईस्पीड ट्रेन यानि बुलेट ट्रेन के प्रॉजेक्ट्स में भारत भले ही जापान को साझेदार बना रहा है, लेकिन चीन ने कहा है कि उसे इस क्षेत्र में बाहर रखने से भारत का नुकसान होगा।

News Nation Bureau | Edited By : Pradeep Tripathi | Updated on: 28 Mar 2017, 09:20:10 PM

नई दिल्ली:

हाईस्पीड ट्रेन यानि बुलेट ट्रेन के प्रॉजेक्ट्स में भारत भले ही जापान को साझेदार बना रहा है, लेकिन चीन ने कहा है कि उसे इस क्षेत्र में बाहर रखने से भारत का नुकसान होगा।

चीन सरकार के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स ने सलाह दी है कि भारत को संरक्षणवादी नीतियां नहीं अपनानी चाहिए। उसने कहा है कि भारत को इस दिशा में संयम से फैसला लेना चाहिये। साथ ही कहा है कि भारत को चीन इस क्षेत्र में सुझाव और सहायता दोनों दे सकता है।

अखबार में कहा गया है, 'भारत चीन के प्रति कड़ा रुख अपनाते हुए इस प्रोजेक्ट में जापान का साझीदार बनाया है। जो संभवत: 2018 में शुरू होगा।'

अखबार ने कहा है, 'चीन को प्रजोक्ट से दूर रखना भारत के हित में होगा ऐसा नहीं लगता है। असल में चीन को भारत की जितनी जरूरत है, उससे कहीं अधिक भारत को चीन की जरूरत है। खासकर स्टील रेल मैन्युफैक्चरिंग और ट्रेन टेक्नॉलजी के मामले में चीन भारत की मदद कर सकता है।'

मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन परियोजना में जापान भारत को सहायता दे रहा है। इस प्रोजेक्ट के 2023 तक तैयार होने की संभावना है। इससे दोनों शहरो ंके बीच की यात्रा में समय कम हो जाएगा।

इस परियोजना में 97, 636 करोड़ रुपये का खर्च आने की संभावना है। जापान पूरी लागत का 81 प्रतिशत फंडिंग कम ब्याज दर पर भारत को उपलब्ध करा रहा है।

और पढ़ें: मोदी सरकार का फैसला, कश्मीर में उपद्रव पर पहले पावा शैल बाद में पैलेट गन होगा इस्तेमाल

अखबार ने कहा है, 'सीपीईसी और सिल्क रोड से ग्लोबल ट्रेड में बड़ा बदलाव देखा जाएगा। इससे जुड़े देशों की आर्थिक प्रगति के साथ ही चीन को भी फायदा हुआ है।'

इसमें भारत को सलाह दी गई है कि इस संबंध में एक उदार रुख अपनाते हुए भारतीय रेलवे में सुधार या फिर हाई स्पीड ट्रेन के क्षेत्र में चीन से सहयोग लेना चाहिये।

ये भी पढ़ें: कश्मीर: बडगाम मुठभेड़ के दौरान पत्थरबाजी, 3 की मौत, 63 जवान घायल

संपादकीय के मुताबिक, 'दुनिया के चौथे सबसे बड़े रेल नेटवर्क कहे जाने वाले भारतीय रेलवे को खासतौर पर सप्लाइ की समस्या से जूझना पड़ रहा है। ..... भारत के रेलवे के इंजीनिय़र चीन में भी ट्रेनिंग ले रहे हैं ऐसे में चीन बारत को इस क्षेत्र में सहायता दे सकता है।

और पढ़ें: मुलायम ने बुलाई समाजवादी पार्टी MLA की बैठक, अखिलेश ने कहा, नहीं जाना

और पढ़ें: महबूबा मुफ्ती ने कहा, अलगाववादियों से भी हो बात

First Published : 28 Mar 2017, 09:19:00 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×