News Nation Logo
Breaking
पहले बड़े मंगल के मौके पर लखनऊ में बजरंगबली के मंदिरों पर दर्शनार्थियों की भीड़ मैरिटल रेप का मामला SC पहुंचा, याचिकाकर्ता खुशबू सैफी ने दिल्ली HC के फैसले को SC में चुनौती दी मुंबई : कार्तिक चिदंबरम और उनसे जुडे ठिकानों पर सीबीआई की छापेमारी दिल्ली : कुतुबमीनार के कुव्वुतुल इस्लाम मस्जिद मामले की याचिका पर साकेत कोर्ट में सुनवाई टली मथुरा जिला अदालत में एक और याचिका, शाही ईदगाह मस्जिद को सील करने की मांग दाऊद के करीबी और 1993 मुंबई धमाकों के वॉन्टेड आरोपियों को गुजरात ATS ने पकड़ा हरिद्वार हेट स्पीच मामला : जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी उर्फ़ वसिम रिज़वी को 3 महीने की अंतरिम जमानत जम्मू : म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन में गैर कानूनी लाउडस्पीकर बैन के प्रस्ताव के पारित होने पर हंगामा चिंतन शिविर के बाद हरियाणा कांग्रेस की कोर टीम आज शाम राहुल गांधी से करेगी मुलाकात वाराणसी कोर्ट में आज ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट पेश नही होगी, तीन दिन का और समय मांगा जाएगा राजस्थान : पुलिस कांस्टेबल भर्ती में 14 मई की द्वितीय पारी की परीक्षा दोबारा ली जाएगी जम्मू कश्मीर : राजौरी इलाके के कई वन क्षेत्रों में भीषण आग, बुझाने में जुटे फायर टेंडर्स
Banner

इमरान खान ने टीएलपी के खिलाफ कार्रवाई का आदेश दिया, पाक सेना फैसले के ख्रिलाफ

इमरान खान ने टीएलपी के खिलाफ कार्रवाई का आदेश दिया, पाक सेना फैसले के ख्रिलाफ

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 10 Nov 2021, 12:45:02 PM
Imran Khan

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली:   प्रधानमंत्री इमरान खान ने तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (टीएलपी) के प्रदर्शनकारियों के खिलाफ बल प्रयोग करने की अनुमति दी है लेकिन पाकिस्तानी सेना इस फैसले से खुश नहीं है। डॉन की रिपोर्ट में इसकी जानकारी दी गई।

पाकिस्तान में तेजी से हो रहे घटनाक्रम की जानकारी रखने वाले सूत्रों के मुताबिक, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने टीएलपी मार्च करने वालों के खिलाफ बल प्रयोग को मंजूरी दी थी। एक बार जब इस आदेश को जारी कर दिया गया, तो पाकिस्तान के सैन्य नेतृत्व की ओर से इसका पालन किए जाने की उम्मीद थी। हालांकि, उन्होंने भीड़ के खिलाफ बल प्रयोग के संभावित परिणामों की समीक्षा की। उन्होंने इसका अनुमान लगाया कि मार्च करने वालों के खिलाफ बल लागू करने के लिए क्या करना होगा और कितने हताहत हो सकते हैं। यदि कानून लागू करने वाले अंतिम उपाय का उपयोग करते हैं और तितर-बितर होने से इनकार करने वालों पर गोलियां चलाते हैं। नेतृत्व ने इस गणना में हताहतों की संभावित प्रभावों और जनमत पर इसके प्रभाव का भी अध्यन किया।

सूत्रों के अनुसार, सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने 29 अक्टूबर को राष्ट्रीय सुरक्षा समिति की बैठक में इस मुद्दे पर चर्चा करने के लिए राजनीतिक और सैन्य नेतृत्व के एकत्र होने पर टीएलपी कार्यकर्ताओं के खिलाफ बल प्रयोग के सभी पक्ष और विपक्ष प्रस्तुत किए।

इस बैठक की जानकारी रखने वाले लोगों ने डॉन को इस बात की पुष्टि की है कि सेना प्रमुख ने कहा था कि यदि निर्णय लेने वाले टीएलपी के खिलाफ बल प्रयोग के लिए कीमत चुकाने के लिए तैयार थे, तो सेना आदेश के अनुसार करेगी।

जब तक यह बैठक हुई, तब तक सरकार सख्त रुख अपना चुकी थी और सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने 27 अक्टूबर को कैबिनेट को बताते हुए प्रधानमंत्री के हवाले से कहा था कि सरकार किसी को भी कानून अपने हाथ में लेने और चुनौती देने की अनुमति नहीं देगी।

राजनीतिक नेतृत्व को अपने साथ लेने के बाद, पाकिस्तान सरकार ने सैद्धांतिक रूप से टीएलपी के साथ हस्ताक्षरित समझौते को सार्वजनिक करने का फैसला किया है, लेकिन इसे तब तक गुप्त रखा गया जब तक कि इसका कार्यान्वयन अच्छी तरह से नहीं हो गया।

ब्रीफिंग के प्रतिभागियों ने डॉन को बताया कि वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों ने उन्हें बताया कि समझौता कैसे हुआ और इसे इतने लंबे समय तक गुप्त रखने का निर्णय क्यों लिया गया।

इन अधिकारियों के अनुसार, प्राथमिक उद्देश्य टीएलपी प्रदर्शनकारियों को सड़कों से हटाना था ताकि स्थिति सामान्य हो सके। इस संदर्भ में, एक चिंता थी कि प्रारंभिक चरण में समझौते की सामग्री का अनावरण करने से एक सार्वजनिक बहस शुरू हो सकती थी, जो इसके कार्यान्वयन में बाधा उत्पन्न कर सकती थी और जो बदले में विरोध के अंत से जुड़ी हुई थी।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 10 Nov 2021, 12:45:02 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.