News Nation Logo
Banner

कभी देखा है आपने भारत और चीन की सीमा पर दोनों देशों की सेनाओं का यह दोस्ताना मार्च

भारतीय कमांडर लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल को क्रॉस कर चीन के नियंत्रण वाले इलाके में दाखिल हो रहे हैं और उनका स्वागत चीनी सैन्य अधिकारी करते नजर आ रहे हैं.

By : Ravindra Singh | Updated on: 02 Oct 2019, 06:21:39 AM

नई दिल्ली:

चीन के रिपब्लिक डे के मौके पर भारत चीन की सेनाओ ने 5 सरहदी इलाकों पर बॉर्डर पर्सनल मीटिंग की. यह मीटिंग चीन के नियंत्रण वाले हिस्से में हुई जहां सीमा पर तनाव को कम करने के लिए आपसी सहमति बनी. न्यूज़ नेशन ने इस बैठक को चीन के नियंत्रण वाले बुमला पोस्ट से कवर किया जो अरुणाचल प्रदेश का चीन से लगा बॉर्डर है. भारतीय कमांडर लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल को क्रॉस कर चीन के नियंत्रण वाले इलाके में दाखिल हो रहे हैं और उनका स्वागत चीनी सैन्य अधिकारी करते नजर आ रहे हैं.

इस स्वागत समारोह के बाद चीनी हिस्से में ही दोनों देशों का झंडा एक साथ लहराया और फिर राष्ट्रधुन बजायी गयी. सैनिक एक दूसरे के गले मिलते नजर आए तो वहीं अधिकारियों ने भी सेलिब्रेशन में कोई कमी नहीं रखी. 15200 फ़ीट की ऊंचाई पर चीन के हिस्से में हुई इस बॉर्डर पर्सनल मीटिंग का मकसद है सीमा पर तनाव को कम करना और मैत्री के वातावरण को बनाना.

यह भी पढ़ें-दोगले पाकिस्तान ने फिर की नापाक हरकत, भारतीय सेना ने दिया मुंहतोड़ जवाब

अरुणाचल प्रदेश के बुमला पोस्ट को क्रॉस कर न्यूज़ नेशन की टीम भी चीन के नियंत्रण वाले हिस्से में पहुंचीं और इस बैठक का गवाह बनी. डोकलम विवाद के बाद यह पहला ऐसा मौका है जब भारत चीन की सीमा पर तनाव के बादल कुछ इस कदर छंट पाये इसके लिए कोशिश की जा रही है. इस कार्य्रकम में नागरिक संबंधों को बढ़ाने के लिए दोनों देशों के नागरिकों ने भी सांस्कृतिक कार्यक्रमों में हिस्सा लिया और बेहद उत्साहित दिखे.

यह भी पढ़ें-मोदी सरकार को एक बार फिर बड़ा झटका, सितंबर में गिरा GST कलेक्शन

1962 में अक्टूबर का ही महीना था जब चीनी सेना इसी जगह से यानी बुमला से भारतीय इलाके में घुस आई थी और बॉमडिला तक आ गई थी. हमारे सैनिकों ने कठिन परिस्थितियों और बिना इंफ्रास्ट्रक्चर के उनका न सिर्फ मुकाबला किया बल्कि उन्हें पीछे हटने पर भी मजबूर कर दिया था और साल 2019 का भी यह अक्टूबर है जब भारत और चीन की सेना भाईचारे का जश्न मना रही है. BPM की यह बैठक लद्दाख बॉर्डर से लेकर अरुणाचल बॉर्डर तक 5 स्थानों पर चीनी नियंत्रण वाले हिस्से में हुई. चीनी सेना का उत्साह देखकर ये माना जा रहा है कि चीन के राष्ट्रपति शी जिंगपिंग की इस महीने होने वाली भारत यात्रा के ठीक पहले यह आपसी संबंधों पर पड़ी बर्फ को पिघलाने की कवायद है. 

First Published : 01 Oct 2019, 07:27:37 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×