logo-image
लोकसभा चुनाव

रूस की वोल्खोव नदी में डूबे चार भारतीय छात्र, नोवगोरोड स्टेट यूनिवर्सिटी में कर रहे थे मेडिकल की पढ़ाई

रूस की एक मेडिकल कॉलेज में पढ़ाई कर रहे चार भारतीय छात्रों की नदी में डूबने से मौत हो गई. चारों छात्र महाराष्ट्र के रहने वाले थे. मरने वाले छात्रों में दो सगे भाई बहन बताए जा रहे हैं.

Updated on: 07 Jun 2024, 03:03 PM

New Delhi:

रूस में मेडिकल की पढ़ाई करने गए चार भारतीय छात्रों की एक नदी में डूबकर मौत हो गई. जबकि एक छात्र को बचा लिया गया है. जिसके इलाज चल रहा है. विदेश मंत्रालय ने छात्रों की मौत की पुष्टि की है. विदेश मंत्रालय के मुताबिक, रूस की वोल्खोव नदी में डूबने से चार भारतीय मेडिकल छात्रों की मौत हो गई. ये सभी छात्र रूस की एरोस्लाव-द-वाइज नोवगोरोड स्टेट यूनिवर्सिटी में पढ़ाई करने गए थे. मरने वाले चार छात्रों में से एक की पहचान जिशान अशपाक पिंजरी के रूप में की गई है. जो घटना के दौरान वीडियो कॉल पर अपने घरवालों से बात कर रहा था. मृतक छात्र के परिजनों ने इस बारे में जानकारी दी है.

ये भी पढ़ें: Train Derailed: फरीदाबाद में पटरी से उतरे ट्रेन के दो डिब्बे, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

सभी छात्रों की हुई पहचान

वहीं तीन अन्य छात्रों की पहचान हर्षल अनंतराव देसाले, जिया फिरोज पिंजारी और मलिक गुलामगौस मोहम्मद याकूब के रूप में की गई है. बताया जा रहा है कि ये सभी छात्र नदी के पास घूम रहे थे, इस दौरान वे अचानक से पानी में चले गए. उनके अलावा एक अन्य छात्रा निशा भुपेश सोनावणे की इस हादसे में जान बच गई. फिलहाल उसका अस्पताल में इलाज चल रहा है.

भारत लाए जा रहे छात्रों के शव

सभी मृतक छात्र महाराष्ट्र के रहने वाले थे. महाराष्ट्र में जलगांव के जिला कलेक्टर आयुश प्रसाद ने बताया कि शवों को भारत वापस लाने की व्यवस्था की जा रही है. उन्होंने कहा कि, "एक छात्र का शव बरामद किया गया है. तीन अन्य छात्रों की तलाश जारी है. हमने विदेश मंत्रालय की मदद के लिए रूस में भारतीय दूतावास और पीटर्सबर्ग में महावाणिज्य दूतावास के संपर्क किया है. वे परिवार के लिए सहयोगी रहे हैं. हादसे में जिस छात्र की जान बच गई, उसके लिए बेस्ट मेडिकल सुविधा का इंतजाम किया गया. उन्होंने कहा कि हम उम्मीद कर रहे हैं कि शवों को अंतरराष्ट्रीय प्रोटोकॉल के अनुसार भारत वापस भेजा जाएगा.

ये भी पढ़ें: NDA Meeting: एनडीए के नेतृत्व में 'अगले 10 साल में' बदल जाएगी भारत की तस्वीर, मोदी के भाषण की बड़ी बातें

जिशान और जिया सगे भाई बहन

जानकारी के मुताबिक, हादसे में जान गंवाने वाले जिशान और जिया भाई-बहन हैं. वे जलगांव के अमलनेर के रहने वाले थे. उनके परिजनों का कहना है कि, "जिशान जब वोल्खोव नदी के पास पहुंचा, तब उसने परिवार को वीडियो कॉल किया. उसके पिता और परिवार के अन्य सदस्य सभी को नदी से दूर जाने के लिए कह रहे थे, तभी एक तेज लहर उठी और सभी उसमें बह गए."