News Nation Logo

आतंक के आका पाकिस्तान पर UN को दी भारत ने बड़ी सलाह

भारत ने यह भी कहा कि इस्लामिक स्टेट पर संयुक्त राष्ट्र प्रमुख की रिपोर्ट में लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद की गतिविधियां भी होनी चाहिए

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 11 Feb 2021, 10:16:21 AM
Terrorists

पाकिस्तान को लश्कर और जैश से भी जोड़ा जाए. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

संयुक्त राष्ट्र:

आतंकवाद के खिलाफ जारी लड़ाई में भारत ने संयुक्त राष्ट्र में एक बार फिर आवाज उठा पाकिस्तान को घेरा है. भारत के मुताबिक हक्कानी नेटवर्क और उसके समर्थकों खासकर पाकिस्तान अधिकारियों ने दक्षिण एशिया में आतंकवादी संगठनों के साथ मिलकर जिस आसानी से काम किया है, उसकी अंतरराष्ट्रीय बिरादरी को अनदेखी नहीं करनी चाहिए. भारत ने यह भी कहा कि इस्लामिक स्टेट पर संयुक्त राष्ट्र प्रमुख की रिपोर्ट में लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद की गतिविधियां भी होनी चाहिए, जो पाकिस्तान में अपने पनाहगाहों से हमले करते हैं. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने 'आतंकवादी गतिविधियों से अंतरराष्ट्रीय शांति एवं सुरक्षा को खतरा पर चर्चा की और अंतरराष्ट्रीय शांति एवं सुरक्षा पर आईएसआईएल द्वारा उत्पन्न खतरे पर महासचिव एंतोनियो गुतारेस की 12वीं रिपेार्ट पर विचार किया. रिपोर्ट में कहा गया है कि आकलन है कि फिलहाल अफगानिस्तान में इस्लामिक स्टेट इन इराक एंड लेवांट खुरासन (आईएसआईएल-के) के 1000-2000 लड़ाके हैं.

हक्कानी नेटवर्क दे रहा आतंकी गतिविधियों को बढ़ावा
रिपोर्ट के अनुसार जून 2020 में इस संगठन के नये नेता घोषित किये गये शिहाब अल-मुहाजिर अफगानिस्तान, बांग्लादेश, भारत, मालदीव, पाकिस्तान, श्रीलंका और मध्य एशिया के देशों में आईएसआईएल की कथित रूप से अगुवाई करता है. बताया जाता है कि पहले उसका हक्कानी नेटवर्क के साथ संबंध रहा था. संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टी एस तिरूमूर्ति ने पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए कहा, 'जरूरी है कि प्रतिबंधित हक्कानी नेटवर्क और खासकर पाकिस्तानी अधिकारियों में उसके समर्थकों ने जिस आसानी से अलकायदा, आईएसआईएल-के, तहरीक-ए-तालिबान जैसे अहम आतंकवादी संगठनों के साथ काम किया है, उसे हम नजरों से ओझल होने नहीं दें.' 

पाकिस्तान बना हुआ है सभी का आका
उन्होंने कहा, 'अलकायदा, हक्कानी नेटवर्क, जैश-ए-मोहम्मद और लश्कर-ए-तैयबा अफगानिस्तान और पाकिस्तान में बिना किसी भय के फलते -फूलते और अपनी गतिविधियां चलाते हैं.' उन्होंने कहा कि भारत का मत है कि इस रिपोर्ट में आईएसआईएल और अलकायदा पाबंदी व्यवस्था के तहत आने वाले लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे प्रतिबंधित आतंकवादी संगठनों की हरकतें भी शामिल होनी चाहिए.  तिरुमूर्ति ने जनवरी में संसद में विदेश मंत्री एस जयशंकर के बयान को दोहराया, जिसमें उन्होंने राजनैतिक इच्छाशक्ति की बात कही थी. साथ विदेश मंत्री ने आतंकवाद पर कड़ी प्रतिक्रिया दी थी. उन्होंने कहा था कि आतंकवाद का समर्थन मत करो, आतंकवादियों का महिमामंडन मत करो. आतंकवादी, आतंकवादी हैं। कोई अच्छा या बुरा भेद नहीं बनाया जा सकता.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 11 Feb 2021, 10:16:21 AM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो