News Nation Logo

ED अपने फैसले करने के लिए स्वतंत्र, कोई राजनीतिक हथियार नहींः सीतारमण

Written By : मोहित सक्सेना | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 16 Oct 2022, 08:03:18 AM
Nirmala

वॉशिंगटन दौरे के दौरान वित्त मंत्री ने 24 बैठकों में लिया हिस्सा. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने वॉशिंगटन में की 24 बैठकें
  • प्रवर्तन निदेशालय पर विपक्ष के आरोपों को किया खारिज
  • जी20 अध्यक्षता और चुनौतियों पर भी की विस्तार से चर्चा

वॉशिंगटन:  

केंद्रीय वित्त और कॉर्पोरेट मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने प्रवर्तन निदेशालय का बचाव करते हुए विपक्ष के इस आरोप को सिरे से खारिज कर दिया कि इसे एक राजनीतिक हथियार के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है. अपनी अमेरिकी यात्रा पर मीडिया ब्रीफिंग में उन्होंने कहा, 'प्रवर्तन निदेशालय (ED) जो करता है उसमें वह पूरी तरह से स्वतंत्र है. यह एक ऐसी एजेंसी है जो विधेय अपराधों का पालन करती है.' प्रवर्तन निदेशालय और आयकर विभाग (Income Tax) के कुछ चुनिंदा पूंजीपतियों के साथ-साथ सिविल सोसाइटी के खिलाफ इस्तेमाल से जुड़े सवाल पर उन्होंने कहा, 'अपराध की पहले-पहल सूचना पर सीबीआई या अन्य एजेंसी ही कदम उठाती है. फिर कुछ हाथ लगने पर प्रवर्तन निदेशालय आगे की जांच करता हैं. ईडी अपनी तरफ से पहले कोई कदम नहीं उठाती. ऐसे एक नहीं बल्कि कई उदाहरण हैं, जहां प्रथम दृष्टया साक्ष्य के आधार पर आगे की कार्यवाही की गई यह साक्ष्य जब्त किए गए धन, सोना और आभूषण होते हैं.'

जी20 की चुनौतियों पर भी की चर्चा
निर्मला सीतारमण ने भू-राजनीतिक तनाव की वजह से जी20 के समक्ष पैदा हुईं चुनौतियों पर भी बात की. उन्होंने स्पष्ट शब्दों में बताया कि भारत इस माहौल से निपटने की कैसी योजना बना रहा है. उन्होंने कहा, 'हमने कई जी20 सदस्य देशों के साथ चर्चा की और बैठकों के दौरान आने वाले पूरे वर्ष को लेकर चिंता व्यक्त की. मसलन इंडोनेशिया बहुत कठिन दौर से गुजरा है. जिस पर इस बैठक में भी चर्चा हुई.' भारत के जी20  अध्यक्षता पर उन्होंने कहा, 'हम ऐसे समय में जी20 की अध्यक्षता कर रहे हैं, जब सामने ढेरों चुनौतियां विद्यमान हैं. हमें इनसे निपटने के लिए सदस्य देशों के साथ मिलकर काम करना होगा.' गौरतलब है कि अपने अमनेरिकी दौरे के दौरान वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 24 बैठकों में भाग लिया. 

यह भी पढ़ेंः अमूल के बाद अब मदर डेयरी ने बढ़ाए दूध के दाम, खरीदने से पहले जान लें नए रेट

विश्व बैंक से जी20 को सतत सहयोग की जताई उम्मीद
उन्होंने वॉशिंगटन में विश्व बैंक के अध्यक्ष डेविड मलपास से भी मुलाकात की. दोनों नेताओं ने भारत की जी20 अध्यक्षता, एमडीबी के पूंजी पर्याप्तता ढांचे में सुधार, ऋण कमजोरियों को दूर करने और नॉलेज एक्सचेंज समेत एमआईजीए के माध्यम से भारत के साथ डब्ल्यूबीजी के जुड़ाव को बढ़ाने जैसे विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की. विश्व बैंक अध्यक्ष डेविड मलपास से बैठक के दौरान वित्त मंत्री ने उम्मीद जताई कि जी20 की अध्यक्षता के दौरान विश्व बैंक का सतत् सहयोग मिलता रहेगा. वित्त मंत्री ने खासतौर परउल्लेख किया कि विश्व बैंक अपनी स्थापना के बाद से जी20 का मूल्यवान साझेदार रहा है. इस बैठक में भारत सरकार के वित्तीय समावेशन और गरीबों के बीच डिजिटलीकरण की पहल की त्वरित और गहरी पैठ से प्रभावित मलपास ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को आश्वस्त किया कि वह अन्य वित्त मंत्रियों को भारत का उदाहरण समझाने की कोशिश करें कि सरकार ऐसे चुनौतीपूर्ण समय में गरीबों की किस तरह से प्रभावी मदद कर सकती है. 

First Published : 16 Oct 2022, 08:02:19 AM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.