News Nation Logo

पाकिस्तान के पैंतरे से भारत सतर्क, FATF बैठक से पहले हाफिज सईद पर फैसला छलावा

भारत की तरफ से कहा गया है कि पाकिस्तान की एक अदालत ने आतंकी वित्तपोषण मामले में संयुक्त राष्ट्र द्वारा नामित और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अभियुक्त आतंकवादी हाफिज सईद को सजा सुनाई है

News Nation Bureau | Edited By : Aditi Sharma | Updated on: 13 Feb 2020, 10:00:31 AM
हाफिज सईद

हाफिज सईद (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

FATF की बैठक से ठीक पहले पाकिस्तान की आतंकवाद रोधी अदालत (Anti Terror Court) ने आतंकवाद के लिए आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने के दो मामलों में मुंबई हमले (Mumbai Blasts) के मास्टरमाइंड हाफिज सईद (Hafiz Saeed) को दोषी करार देते हुए साढ़े पांच साल- साढ़े पांच साल कैद और दोनों मामलों में 15-15 हजार रुपए के जुर्माने की सजा सुनायी है. इस भारत की ओर काफी सधी हउई प्रतिक्रिया दी गई है. सरकार की तरफ से कहा गया है कि यह फैसला FATF की बैठक से पहले लिया गया है जिसपर ध्यान देना काफी जरूरी है.

भारत की तरफ से कहा गया है कि  पाकिस्तान की एक अदालत ने आतंकी वित्तपोषण मामले में संयुक्त राष्ट्र द्वारा नामित और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अभियुक्त आतंकवादी हाफिज सईद को सजा सुनाई है. यह पाकिस्तान के लंबे समय से लंबित अंतरराष्ट्रीय दायित्व का हिस्सा है ताकि आतंकवाद का समर्थन किये जाने पर रोक लग सके. 

यह भी पढ़ें:  दिल्ली में हार के बाद ट्विटर पर खामोश हुए भाजपा के 'बयानवीर नेता'

सरकारी सूत्रों ने कहा, यह भी देखा जाना चाहिए कि क्या पाकिस्तान अपने नियंत्रण में आने वाले सभी आतंकवादी संगठनों और क्षेत्रों से काम करने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई करेगा और मुंबई और पठानकोट सहित सीमा पार आतंकवादी हमलों के अपराधियों को त्वरित न्याय दिलाएगा. सरकार की तरफ से कहा गया है कि यह फैसला FATF की बैठक से पहले लिया गया है. जिसे नोट किया जाना है.

यह भी पढ़ें:  अहमदाबाद में डोनाल्ड ट्रंप रोडशो मे शामिल होंगे, होगा 'हाउडी मोदी' जैसा कार्यक्रम

बता दें, इसके पहले एंटी टेररिज्म कोर्ट ने पिछले सप्ताह 8 फरवरी यानि की शनिवार को अदालत ने सईद के मामले पर सुनवाई पूरी कर ली थी जिसके बाद बुधवार को एंटी टेररिज्म कोर्ट ने हाफिज सईद पर अपना फैसला सुनाया.

आपको बता दें कि शनिवार को सुनवाई पूरी होने के बावजूद हाफिज सईद के अनुरोध पर कोर्ट ने ऐसा किया और मामले की सुनवाई मंगलवार तक के लिए स्थगित कर दी. आतंकवाद रोधी अदालत (ATC) लाहौर के न्यायाधीश अरशद हुसैन भुट्टा ने आतंकवाद के लिए धन मुहैया कराने के दो मामलों में जमात उद दावा के प्रमुख के खिलाफ फैसले को सुरक्षित रख लिया था.

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

First Published : 13 Feb 2020, 09:54:06 AM