News Nation Logo

BREAKING

कोरोना वायरस के डर से भारतीय छात्रों ने ब्रिटेन में उच्चायोग परिसर में शरण ली

उन्होंने कोरोना वायरस (Corona Virus) वैश्विक महामारी के मद्देनजर यात्रा पाबंदियों के बावजूद विमान से भारत (India) भेजे जाने की मांग की है.

By : Nihar Saxena | Updated on: 22 Mar 2020, 12:45:04 PM
Britain Indian Students

ब्रिटेन में भारतीय दूतावास से मदद मांग रहे हैं भारतीय छात्र. (Photo Credit: न्यूज स्टेट)

highlights

  • भारतीय छात्रों के एक समूह ने लंदन में भारतीय उच्चायोग में शरण मांगी.
  • उच्चायोग में भोजन, पानी तथा अस्थायी आवास मुहैया कराया गया.
  • फंसे छात्रों को कोरोना आव्रजन हेल्पलाइन से सहायता मांगने की सलाह.

लंदन:

भारतीय छात्रों के एक समूह ने शनिवार रात को लंदन (London) में भारतीय उच्चायोग के परिसर में शरण मांगी. उन्होंने कोरोना वायरस (Corona Virus) वैश्विक महामारी के मद्देनजर यात्रा पाबंदियों के बावजूद विमान से भारत (India) भेजे जाने की मांग की है. भारतीय सामुदायिक समूहों की मदद से रहने की वैकल्पिक व्यवस्था की पेशकश को 19 छात्रों के इस समूह ने ठुकरा दिया. इनमें से ज्यादातर छात्र तेलंगाना (Telangana) के हैं. दरअसल भारत ने ब्रिटेन और यूरोप के यात्रियों पर इस महीने के अंत तक प्रतिबंध लगा रखा है. ब्रिटेन में शनिवार तक कोरोना वायरस के 5,018 मामले सामने आए और 233 लोगों की मौत हो चुकी है.

यह भी पढ़ेंः राजस्थान के बाद अब पंजाब के कई जिलों में 31 तक लॉकडाउन, सिर्फ जरूरी चीजें ही मिलेंगी

वैकल्पिक आवास दिए गए
फंसे हुए छात्रों के लिए व्यवस्था करने पर काम कर रहे समुदाय के एक नेता ने कहा, 'भारतीय समुदाय ने उनकी मदद करने की कोशिश की और शुरुआत में यह 59 छात्रों का समूह था जिनमें से 40 को वैकल्पिक आवास की सुविधा आवंटित की गई लेकिन बाकी के 19 ने वहां जाने से इनकार कर दिया.' इनमें से कई ने इस महीने भारत के लिए विमान की टिकट बुक कराई थी. हालांकि भारत ने इस सप्ताह यात्रा परामर्श जारी कर कहा कि 18 मार्च को आधी रात के बाद से 31 मार्च तक भारत में किसी भी यात्री को प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी.

यह भी पढ़ेंः कोरोना वायरस से भारत में 6वीं मौत, पटना में 38 साल के युवक ने तोड़ा दम

आखिरी क्षण विमान टिकट रद्द
उन्होंने कहा, 'कोई विमान नहीं है और हम इस मौके पर उनकी जिंदगियों को खतरे में नहीं डाल सकते. उन्हें उच्चायोग की इमारत में प्रवेश करने दिया गया और भोजन, पानी तथा अस्थायी आवास मुहैया कराया गया लेकिन वे अपने बैग और सामान के साथ बाहर रह रहे हैं.' आखिरी मिनट में विमान की टिकटें रद्द होने से कई छात्रों ने भारतीय उच्चायोग से सोशल मीडिया पर सहायता मांगी थी. भारतीय मिशन ने ऑनलाइन पंजीकरण प्रणाली शुरू की और भारतीय समुदाय के समूहों के लिए संर्पक की सूचना भी साझा की.

यह भी पढ़ेंः Janta Curfew Live Updates: कश्मीर से कन्याकुमारी तक सड़कें हुईं वीरान, कोरोना मरीजों की तादाद बढ़कर 341 | क्या करें क्या ना करें

उच्चायोग से लगाई मदद की गुहार
एक छात्र ने उच्चायोग से अपील की, 'मैं भारतीय नागरिक हूं और अभी छात्र वीजा पर ब्रिटेन के न्यूकैसल में हूं. मेरी वीजा की अवधि 24 मार्च 2020 को समाप्त हो गई. मुझे 23 मार्च 2020 को भारत की यात्रा करनी थी और भारतीय नियम के अनुसार कोविड-19 के कारण सभी उड़ानें रद्द कर दी गई. मुझे क्या करना चाहिए.' ऐसे छात्रों को ब्रिटेन के गृह विभाग की कोरोना वायरस आव्रजन हेल्पलाइन से सहायता मांगने की सलाह दी जा रही है. इस बीच गृह विभाग ने कहा कि मौजूदा हालात असाधारण हैं और उन छात्रों या कर्मचारियों के खिलाफ कोई अनुपालन संबंधी कार्रवाई नहीं की जाएगी जो कोरोना वायरस के कारण अपनी पढ़ाई या काम नहीं कर पा रहे हैं.

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

First Published : 22 Mar 2020, 12:45:04 PM