News Nation Logo
Banner

कोरोना का कहर, भारत के बाद अब अमेरिका में भी पलायन को मजबूर हुए लोग

अमेरिका में ऐसे कई लोग हैं जो अच्छी नौकरी, बेहतर जीवन की तलाश में अमेरिका आए. लेकिन अब इस वायरस ने सब खत्म कर दिया और अब यही लोग वापस अपने घर जाने को आतुर नजर आ रहे हैं.

News Nation Bureau | Edited By : Aditi Sharma | Updated on: 29 Mar 2020, 01:50:31 PM
america

कोरोना के चलते अमेरिका में बंद होते स्टोर्स (Photo Credit: फोटो- ट्विटर)

नई दिल्ली:

पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले चुकी कोरोना वायरस नाम की महामारी का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है. एक तरफ जहां दनियाभर में लाखों की तादाद में लोग इसकी चपेट में आ रहे हैं तो वहीं दूसरी तरफ कई लोग ऐसे भी हैं जो भूख औऱ बेरोजगारी और महामारी के डर से पलायन कर रहे हैं. ये हाल सिर्फ भारत का का ही नहीं बल्कि बाहरी देशों का भी है. अमेरिका, जहां कोरोना का संक्रमण चरम पर है, अब लोगों के पलायन के चलते भी चर्चा का विषय बना हुआ है.

अमेरिका में ऐसे कई लोग हैं जो अच्छी नौकरी, बेहतर जीवन की तलाश में अमेरिका आए. लेकिन अब इस वायरस ने सब खत्म कर दिया और अब यही लोग वापस अपने घर जाने को आतुर नजर आ रहे हैं. कॉलेज के कई छात्र, कई युवा भी अपने घर जाने के लिए रवाना हो गए हैं. इसके अलावा मध्यम आयु वर्ग के लोग भी वापस अपने माता-पिता के रिटायरमेंट ग्रुप में जाते हुए दिख रहे है.

यह भी पढे़ं: सावधान! सूंघने और स्वाद की क्षमता खोना है कोरोना वायरस के शुरुआती लक्षण

पहाड़, रिजॉर्ट और समुद्री किनारे इस संक्रमण से बचने का बहुच अच्छा उपाय थे. ये वो जगहें थी जो घनी आबादी वाले शहरों से काफी दूर थीं लेकिन अब लोग शहरों को छोड़-छोड़ कर यहां भी घुस आए हैं और इन्हें रोकने के लिए जो प्रयास किए गए थे वो विफल होते नजर आ रहे हैं

कई शहरी प्रवासियों के आग्मन ने (थोड़े समय के लिए हों या लंबे समय के लिए) इन जगहों पर छुट्टियां मनाने आने वाले लोगों की चिंता बढ़ा दी है. यहां हालत इस कदर खराब हो गए हैं कि पुलिस को फेसबुक पोस्ट के जरिए लोगों से अपील करनी पड़ रही है कि अपने गर्मियों के घरों में जाने के लिए बाहर न निकलें और न ही अस्थायी रूप से घर किराय पर ले. पुलिस ने लोगों से अपील करते हुए कहा है कि भले ही ये इलाके सुंदर क्यों न हों, लेकिन यहां हमारे पास सुविधाओं की कमी है. यह समय अपने बच्चों को समुद्री किनारों पर भेजने का नहीं है. न ही ये कोई नया प्रोजेक्ट शुरू करने का समय है. रेहोबोथ बीच के मेयर ने कहा, लोग शहरी इलाकों को छोड़कर यहां आ रहे हैं जो उनका दूसरा घर है. लेकिन यहां गर्मियों में सप्ताहांत की आबादी 25,000 से अधिक हो सकती है.

दरअसल लोगों को लग रहा है कि एक तरफ जहां कोरोना अपने चरम पर है ऐसे में छोटे शहर जो आबादी से बहुत दूर, इस खतरनाक वायरस से बचने का विकल्प हो सकते हैं. एक यह भी वजह है कि भारी मात्रा में लोग शहरों से पलायन कर रहे हैं लेकिन इन छोटे शहरों के मेयर लोगों से अपील कर रहे हैं कि उनके पास सुविधाओं का अभाव है ऐसे में बेहतर होगा कि लोग पलायन करने के बजाय अपने घरों में ही सेल्फ क्वारंटाइन करे.

यह भी पढे़ं: अब कोरोना के खिलाफ जंग में आगे आया Google, किए ये बड़े वादे

अमेरिका में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या रिकॉर्ड ऊंचाई पर

बता दें, विश्व में कोरोना वायरस (Corona Virus) से संक्रमित सबसे ज्यादा लोग फिलहाल अमेरिका (America) में हैं और शनिवार को इस विषाणु से मरने वालों की संख्या रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गई. जॉन्स हॉपकिन्स विश्वविद्यालय के ट्रैकर ने ये आंकड़े सामने रखे हैं. देश में पिछले 24 घंटों में कोविड-19 (COVID-19) बीमारी के कारण 4,525 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई. रविवार को आधा दर्जन मौत के मामले सामने आए. वैश्विक महामारी फैलने के बाद से यहां अब तक 2,227 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. यह मामले मात्र तीन दिन में बढ़कर दोगुने हो गए हैं. मृतकों में एक नवजात भी शामिल है. इलिनोइस राज्य के अधिकारियों ने बताया कि वैश्विक महामारी के कारण एक साल से भी कम उम्र के बच्चे की कोविड-19 से मौत का यह दुर्लभ मामला है.

First Published : 29 Mar 2020, 01:45:11 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×