News Nation Logo
Banner

कोलंबो से दूर एमवी एक्स-प्रेस पर्ल में लगी आग, भारतीय तटरक्षक बुझाने में जुटे

भारतीय तटरक्षक ने कहा कि कोलंबो में एमवी एक्स-प्रेस पर्ल में लगी आग को बुझाने के लिए श्रीलंका के साथ संयुक्त अग्निशमन प्रयासों को जारी रखते हुए, भारतीय तटरक्षक (आईसीजी) के जहाज वैभव और वज्र भारी-भरकम बाहरी अग्निशमन प्रणाली के माध्यम से फोम समाधान/समुद्री जल का लगातार छिड़काव कर रहे हैं

News Nation Bureau | Edited By : Shailendra Kumar | Updated on: 28 May 2021, 11:25:28 PM
MV X Press Pearl off Colombo

कोलंबो से दूर एमवी एक्स-प्रेस पर्ल में लगी आग (Photo Credit: @ANI)

highlights

  • कोलंबो के पास मर्चेंट शिप में लगी आग
  • बुझाने में जुटा भारतीय तटरक्षक बल
  • तेल रिसाव की स्थिति को लेकर तैयारियां पूरी

नई दिल्ली:

भारतीय तटरक्षक ने कहा कि कोलंबो में एमवी एक्स-प्रेस पर्ल में लगी आग को बुझाने के लिए श्रीलंका के साथ संयुक्त अग्निशमन प्रयासों को जारी रखते हुए, भारतीय तटरक्षक (आईसीजी) के जहाज वैभव और वज्र भारी-भरकम बाहरी अग्निशमन प्रणाली के माध्यम से फोम समाधान/समुद्री जल का लगातार छिड़काव कर रहे हैं. श्रीलंका में कोलंबो के पास समुद्र में कंटेनर पोत एमवी एक्स-प्रेस पर्ल में लगी आग पर काबू पाने के लिए भारतीय तटरक्षक (आईसीजी) के प्रयास जोरों पर हैं. श्रीलंकाई अधिकारियों के अनुरोध के बाद भारत सरकार के निर्देशों पर आईसीजी ने एमवी एक्स-प्रेस पर्ल को तत्काल सहायता प्रदान करने के लिए अपने संसाधनों को फौरन तैनात किया. जहां समुद्री गश्ती पर आईसीजी के जहाज वैभव को दिनांक 25 मई, 2021 को घटनास्थल तक पहुंचने के लिए तुरंत डायवर्ट किया गया था, वहीं आईसीजी जहाज वज्र, जो तूतीकोरिन से भेजा गया था, दिनांक 26 मई, 2021 की सुबह घटना स्थल पर पहुंचा. वर्तमान में दोनों जहाज प्रतिकूल मौसमी परिस्थितियों का सामना करते हुए बाह्य अग्निशमन प्रणाली का उपयोग करते हुए जहाज पर लगी तीव्र आग का मुकाबला कर रहे हैं.

आईसीजी जहाज समुद्र प्रहरी, जो एक विशेष प्रदूषण प्रतिक्रिया (पीआर) पोत है, को भी प्रदूषण प्रतिक्रिया के दृष्टिकोण से भेजा गया है ताकि अग्निशमन प्रयासों को बढ़ाया जा सके एवं तेल के रिसाव की स्थिति से निपटा जा सके. आईसीजी डोर्नियर विमान ने इस इलाके की हवाई टोह ली है. तेल रिसाव की कोई सूचना नहीं है . मुसीबतज़दा पोत एमवी एक्स-प्रेस पर्ल नाइट्रिक एसिड एवं अन्य खतरनाक आईएमडीजी कोड रसायनों के 1486 कंटेनर ले जा रहा था. अत्यधिक आग, कंटेनरों को हुई हानि और फिलहाल चल रहे खराब मौसम के कारण पोत स्टारबोर्ड की ओर झुक गया जिसके फलस्वरूप कंटेनर पानी में गिर गए हैं. आईसीजी के दो जहाज और श्रीलंका के चार टग्स द्वारा आग बुझाने के लिए संयुक्त रूप से ठोस प्रयास किए जा रहे हैं .

आईसीजी ने प्रदूषण प्रतिक्रिया की दिशा में तत्काल सहायता के लिए कोच्चि, चेन्नई और तूतीकोरिन में अपने संसाधन भी स्टैंडबाय पर रखे हैं. एमवी एक्स-प्रेस पर्ल में आग को रोकने की दिशा में कुल मिलाकर उठाए जा रहे कदमों एवं अभियानों में बढ़ोतरी के लिए श्रीलंकाई तटरक्षक तथा अन्य श्रीलंकाई प्राधिकारियों के साथ निरंतर समन्वय बनाए रखा जा रहा है.

First Published : 28 May 2021, 10:47:21 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.