News Nation Logo
Quick Heal चुनाव 2022

कोरोना उत्पत्ति पर अमेरिका की चीन को धमकी, जांच करो वर्ना...

यदि बीजिंग की ओर से कोरोना वायरस के कथित लीक मामले में सहयोग नहीं किया गया तो उसे अंतरराष्ट्रीय समुदाय में अलग-थलग रहना होगा.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 21 Jun 2021, 03:40:38 PM
Jack Suvillan

अमेरिका ने कोरोना उत्पत्ति की जांच के लिए चीन पर बढ़ाया दबाव. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • कोरोना की उत्पत्ति पर जो बाइडन प्रशासन का रवैया चीन पर सख्त
  • सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन ने कोरोना उत्पत्ति पर दी धमकी
  • जांच में सहयोग करें वर्ना वैश्विक आइसोलेशन के लिए तैयार रहें

वॉशिंगटन:

कोरोना संक्रमण (Corona Epidemic) की तीसरी लहर की आशंका के बीच कोरोना उत्पत्ति को लेकर चीन दुनिया के निशाने पर है. सबसे पहले अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने चीन को कठघरे में खड़ा किया था. उनके बाद इस साल आए जो बाइडन (Joe Biden) प्रशासन ने भी बीजिंग पर इस मामले में लगाम कमजोर नहीं पड़ने दी है. इस कड़ी में अब अमेरिकी सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन (Jake Sullivan) ने चीन को धमकी दी है कि यदि बीजिंग की ओर से कोरोना वायरस के कथित लीक मामले में सहयोग नहीं किया गया तो उसे अंतरराष्ट्रीय समुदाय में अलग-थलग रहना होगा. 

चीन को झेलना पड़ सकता है वैश्विक आइसोलेशन
जेक सुलिवन ने दो-टूक कहा, 'सहयोग न करने पर चीन को वैश्विक स्तर पर आइसोलेशन झेलना होगा.' फॉक्स न्यूज के साथ इंटरव्यू में सुलिवन ने राष्ट्रपति जो बाइडन के कदम की सराहना की जिसके तहत उन्होंने अपने जी-7 सहयोगी नेताओं से चीन पर इस बात के लिए दबाव बनाने का आग्रह किया है. गौरतलब है कि कोरोना वायरस की उत्पत्ति पर अब तक रहस्य बरकरार है, जिसका पहला मामला चीन के वुहान में सामने आया था. सुलिवन ने कहा, 'इस सप्ताह यूरोप में बाइडन ने पहली बार कोविड महामारी के मामले पर सभी देशों को एकजुट किया. पूर्व राष्ट्रपति ट्रंप ऐसा नहीं कर पाए थे. राष्ट्रपति बाइडन ने कर दिखाया. जी-7 के सभी सदस्य देशों ने चीन के खिलाफ आवाज उठाई और कहा कि उसे देश में जांच की अनुमति देनी चाहिए.'

यह भी पढ़ेंः लालच दे 1000 से अधिक का कराया धर्मपरिवर्तन, गिरोह चढ़ा UP ATS के हत्थे

चीन पर दबाव बनाने के लिए काफी कुछ करना बाकी
जेक सुलिवन ने जी-7 बैठक का हवाला देते हुए कहा कि चीन पर कोरोना उत्पत्ति की जांच के लिए दबाव बनाने के लिए वैश्विक कूटनीतिक स्तर पर अभी काफी कुछ करना बाकी है. दुनिया के अन्य देशों के राजनीतिक और कूटनीतिक दबाव के बाद ही चीन इस दिशा में सहयोग कर सकता है. चीन के पास कोरोना लीक की जांच में सहयोग के अलावा और कोई चारा नहीं है. ऐसा नहीं करने पर उसे दिक्कतों भरे समय के लिए तैयार रहना चाहिए. चीन जांच समूह की मदद करे वर्ना अंतरराष्ट्रीय समुदाय में अलग-थलग होने के लिए तैयार रहे. 

यह भी पढ़ेंः बंगाल हिंसा की NHRC जांच पर ममता को झटका, HC ने बरकरार रखा फैसला

चीन पर बाइडन भी अपना रहे सख्त रवैया
गौरतलब है कि जेक सुलिवन की इस साफ चेतावनी से पहले एक प्रेस कांफ्रेंस में बाइडन ने कहा, 'चीन खुद को काफी अग्रणी व बहुत जिम्मेदार देश की तरह पेश करने की कोशिश कर रहा है. वह कोविड-19 और वैक्सीन को लेकर दुनिया को कैसे मदद कर रहा है, इसे जताने की काफी हद तक कोशिश कर रहा है.' बाइडन ने कहा, 'मुझे लगता है कि मानवाधिकार व पारदर्शिता के मुद्दे पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चीन को अधिक जिम्मेदारी से काम करने की शुरुआत कर देनी चाहिए.'

First Published : 21 Jun 2021, 02:36:55 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो