News Nation Logo
Banner

कोरोना वायरस से जुड़ी सच्चाई छिपा रहा था चीन, मजबूरी में करना पड़ा ये बड़ा खुलासा

कोरोना वायरस (Corona Virus) से जुड़ी जानकारी और असली डेटा छिपाने को लेकर चीन पर लगातार आरोप लगाए जा रहे हैं.

News Nation Bureau | Edited By : Deepak Pandey | Updated on: 31 Mar 2020, 07:09:06 PM
xi jinping

चीन (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

कोरोना वायरस (Corona Virus) से जुड़ी जानकारी और असली डेटा छिपाने को लेकर चीन (China) पर लगातार आरोप लगाए जा रहे हैं. घरेलू और अंतरराष्ट्रीय दबाव में आकर चीन ने अब जाकर इसका राज खोला है. चीन ने कहा कि उसके यहां कोरोना वायरस से संक्रमित 1541 ऐसे मामले हैं जिनमें कोई लक्षण नहीं दिखे हैं. दुनिया में चीन में बिना लक्षण वाले कोरोना के मामले को लेकर चिंता जताई जा रही है, क्योंकि ये चुपचाप फैलता है.

यह भी पढे़ंःJIO ग्राहकों के लिए बड़ी खुशखबरी- 17 अप्रैल तक मिलेगी फ्री कॉलिंग और SMS, बस करना पड़ेगा ये काम

चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की वेबसाइट द्वारा जारी किए गए बयान के अनुसार, चीन में बिना किसी लक्षण के कुल 1541 केस सामने आए हैं, जिनमें से 205 मामले दूसरे देशों से आए लोगों के हैं. हालांकि, बयान में यह नहीं किया गया है कि इसमें रिकवर हुए लोगों को शामिल किया गया है या नहीं. आपको बता दें कि अब तक चीन में कोरोना वायरस के 81000 मामलों की पुष्टि हो चुकी है, लेकिन इनमें से ज्यादातर रिकवर हो चुके हैं. 30 मार्च तक चीन के अस्पतालों में कुल 2161 केस थे.

चीनी आंकड़ों पर इसलिए भी सवाल खड़े हो रहे थे कि वह बिना लक्षण वाले मरीजों को कोरोना के मामलों में शामिल ही नहीं करता है. अगर किसी में कोरोना वायरस संक्रमण का कोई लक्षण नजर नहीं आता है और वह टेस्ट में पॉजिटिव आता है तो चीन उसे कन्फर्म केस नहीं मानता है. हालांकि, दक्षिण कोरिया, जापान और सिंगापुर जैसे देशों में कोरोना टेस्ट में पॉजिटिव पाए गए सभी मरीजों को आंकड़े में शामिल किया जाता है.

चीनी प्रीमियर ली केकियांग के स्थानीय अधिकारियों से बिना लक्षण वाले मामलों को ट्रैक करने और स्क्रीनिंग बढ़ाने के निर्देश के एक दिन बाद यह आंकड़ा जारी किया गया है. चीन ने बताया कि वह बिना लक्षण वाले कोरोना के मामलों को ट्रैक करता है. जब उनमें लक्षण दिखाई देना शुरू हो जाते हैं तो वह उन्हें कोरोना के पुष्ट मामलों में शामिल कर लेता है. शोधकर्ताओं ने शोध में पाया कि ऐसे मरीज दूसरों तक संक्रमण फैलाने में अहम भूमिका निभाते हैं, इसीलिए चीन के गैर-लक्षण वाले मामलों का खुलासा न करने को लेकर दुनियाभर में चिंता जाहिर की जा रही थी.

यह भी पढे़ंःPM मोदी की मां हीराबेन ने पीएम केयर्स में 25000 रुपये दान किए

इस आंकड़े के सामने आने के बाद यह भी संदेह पैदा हुआ कि दिसंबर 2019 में चीन के वुहान शहर से शुरू हुई कोरोना वायरस की महामारी वाकई खत्म हुई भी है या नहीं. कुछ विश्लेषकों का मानना है कि चीन में ये महामारी खत्म नहीं हुई है, बल्कि अब दूसरे तरीके से फैल रही है. बताया जा रहा है कि चीन में दो सप्ताह पहले कोरोना वायरस के जीरो नए मामले होने का दावा किया गया था. चीन की मैगजीन कैक्सिन ने एक रिपोर्ट में कहा था कि चीन में अब बिना लक्षण वाले संक्रमण के मामले सामने आ रहे हैं.

इसी माह साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट में छपी रिपोर्ट के अनुसार, चीन में कोरोना वायरस पॉजिटिव पाए गए एक-तिहाई लोगों में या तो देरी से लक्षण दिखाए दिए या फिर लक्षण दिखाई ही नहीं दिए. गैर लक्षण वाले संक्रमण के केसों का पता टेस्टिंग से ही लगाया जा सकता है, लेकिन कई देशों में टेस्ट सिर्फ लक्षण दिखाई देने पर ही किए जा रहे हैं. ऐसे में इनकी पहचान करना मुश्किल हो रहा.

First Published : 31 Mar 2020, 07:05:22 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×