News Nation Logo
Banner

पाकिस्तान के दोस्त चीन ने भारत को घेरने के लिए एक बार फिर UNSC में कश्मीर मुद्दे को उठाया

पाकिस्तान के हमराह और घनिष्ट दोस्त चीन ने एक बार फिर कश्मीर मुद्दे को लेकर भारत को घेरने की कोशिश की है.

News Nation Bureau | Edited By : Deepak Pandey | Updated on: 15 Jan 2020, 09:30:12 PM
पीएम नरेंद्र मोदी और इमरान खान

पीएम नरेंद्र मोदी और इमरान खान (Photo Credit: न्यूज स्टेट)

नई दिल्‍ली:

पाकिस्तान के हमराह और घनिष्ट दोस्त चीन ने एक बार फिर कश्मीर मुद्दे को लेकर भारत को घेरने की कोशिश की है. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में बुधवार रात कश्मीर मुद्दे पर बंद कमरे में चर्चा होगी. चीन की मांग के मद्देनजर यह चर्चा की जा रही है. इससे पहले फ्रांसीसी राजनयिक के एक सूत्र ने कहा है कि कश्मीर मुद्दे पर चर्चा के लिए चीन की मांग को यूएनएससी में स्वीकार कर लिया गया है. उन्होंने कहा कि कश्मीर मुद्दे पर फ्रांस का रुख साफ है कि यह मुद्दा द्विपक्षीय स्तर पर ही सुलझाया जाना चाहिए.

यह भी पढ़ेंःसंजय राउत का बड़ा दावा- इंदिरा गांधी गैंगस्टर करीम लाला से मिला करती थीं, क्योंकि...

पी-5 देशों में से एक चीन ने मांग की थी कि कश्मीर मुद्दे पर बंद कमरे पर चर्चा बुलाई जाए. इससे पहले सभी पी-5 देशों ने साफ कर दिया है कि यह कश्मीर का आंतरिक मुद्दा है. बताया जा रहा है कि यह बैठक परिणामहीन ही रहने वाली है, क्योंकि भारत कश्मीर को देश का आंतरिक मुद्दा मानता है. साथ ही किसी भी विदेशी राष्ट्र के हस्तक्षेप से मना करता है. पी5 चीन, फ्रांस, रूस, यूनाइटेड किंगडम और यूनाइटेड स्टेट्स का संगठन है.

चीन ने एनी अदर बिजनेस के तहत यह डिमांड रखी थी. पाकिस्तान ने चीन से पहले ही मांग की थी कि इस मुद्दे पर चर्चा की जाए. पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने दिसंबर 2019 में चीन के सामने यह मांग रखी थी. यह बैठक पहले 24 दिसंबर को होने वाली थी, लेकिन किन्हीं कारणों से यह बैठक पूरी नहीं हो सकी थी.

यह भी पढ़ेंःइमरान खान ने PoK का किया दौरा, हिमस्खलन प्रभावित लोगों के मुलाकात की

न्यूयॉर्क में 15 सदस्यीय एक टीम भारतीय समयानुसार रात 9 बजकर 30 मिनट पर बैठक करेगी. इस बैठक में लागू पाबंदियों के साथ-साथ राजनेताओं की गिरफ्तारी का मुद्दा उठाया जाएगा. इंडिया टुडे को मिली जानकारी के मुताबिक, पांच स्थाई सदस्यों के अतिरिक्त अन्य दस देश भी शामिल होंगे. ज्यादातर देश कश्मीर पर चर्चा के पक्षधर नहीं हैं, इसलिए इस मीटिंग का कोई परिणाम सामने नहीं आ सकता है.

First Published : 15 Jan 2020, 08:13:26 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.