News Nation Logo

चीन नेपाल में मधेसियों के बीच पैर जमाने की कर रहा कोशिश

चीन नेपाल में मधेसियों के बीच पैर जमाने की कर रहा कोशिश

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 21 Dec 2021, 11:15:01 PM
China preuried

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: नेपाली राजनीतिक प्रतिष्ठान के साथ सक्रिय जुड़ाव और नेपाली कम्युनिस्ट पार्टियों के साथ स्वस्थ संबंधों के बावजूद चीन ने नेपाल में राजनीतिक मोर्चे पर ज्यादा प्रगति नहीं की है और यह महसूस किया है कि नेपाली राजनीति का परिदृश्य वास्तव में जटिल है, जिसे समझना अभी भी चीनियों के लिए चुनौतीपूर्ण बना हुआ है।

यह तथ्य कि चीनियों के समर्थन और आशीर्वाद से नेपाली कम्युनिस्ट पार्टी का गठन हुआ और दो वर्षो के भीतर पार्टी विभाजित हो गई। जब नेपाली कांग्रेस को राजनीतिक स्थान मिला, तब चीनियों को नेपाली राजनीति को समझने में अपनी भूल का एहसास हुआ।

चीन अब गैर-पहाड़ी आबादी का प्रतिनिधित्व करने वाले विभिन्न राजनीतिक निर्वाचन क्षेत्रों और प्रतिनिधि निकायों/संगठनों को शामिल करने की कोशिश कर रहा है, विशेष रूप से उत्तर प्रदेश और बिहार से सटे तराई क्षेत्र में रहने वाले मधेसियों के बीच।

इस सिलसिले में नेपाल में सिन्हुआ समाचार एजेंसी के प्रतिनिधि झोउ शेंगपिंग ने इस समुदाय की राजनीतिक क्षमता का लाभ उठाने के उद्देश्य से 26 और 29 नवंबर को मधेसी समुदाय के युवाओं के साथ दो अलग-अलग संवाद कार्यक्रम आयोजित किए।

मधेसियों को पारंपरिक रूप से भारत के साथ जुड़े होने के रूप में पहचाना जाता है, क्योंकि भारत उनका मूल स्थान है। हालांकि, नेपाल में अपने राजनीतिक झमेलों को झेलने के बाद चीनियों को यह एहसास हो गया है कि मधेसियों के साथ तालमेल उनकी राजनीतिक गति को बनाए रखने के लिए जरूरी है।

मधेसी नेपाली आबादी का 30 प्रतिशत प्रतिनिधित्व करते हैं और पहाड़ी लोगों की तुलना में तेजी से बढ़ती आबादी के साथ मधेसियों ने नेपाल में एक महत्वपूर्ण निर्वाचन क्षेत्र बनाया है।

अतीत में, चीन द्वारा मधेसी राजनीतिक दलों को निशाना बनाए जाने के प्रयासों से उतना लाभ नहीं हुआ और इस तरह की व्यस्तता ज्यादातर चुनिंदा आधार पर रही है। चीनियों ने मधेसी नेताओं को चीन के दौरे पर आमंत्रित करने का प्रयास किया है, लेकिन इन यात्राओं से बहुत कुछ हासिल नहीं हो सका है। इस प्रकार चीन ने मधेसी युवाओं को दीर्घकालिक लाभ सुनिश्चित करने के लिए मधेसी युवाओं को लक्षित करने का निर्णय लिया है।

नेपालगंज में 29 नवंबर को एक बैठक में झोउ शेंगपिंग ने मधेसी समुदाय के 15 लोगों से मुलाकात की, जो सीपीएन (एमसी), जेएसपीएन और यूएमएल जैसे विभिन्न राजनीतिक दलों का प्रतिनिधित्व करते थे। नेपाल में राजनीतिक दलों के बीच स्पष्ट रूप से अस्वस्थ प्रतिस्पर्धा और मधेसी लोगों की आकांक्षाओं/मांगों की अनदेखी पर चर्चा हुई।

अपनी पहचान स्थापित करने के लिए मधेसी लोगों के संघर्ष और मधेसी मामलों में भारत के हस्तक्षेप पर भी झोउ शेंगपिंग के साथ मधेसियों से जुड़े कई मुद्दों, जैसे वायु प्रदूषण, वनों की कटाई, गरीबी, आय असमानता आदि पर चिंता व्यक्त करते हुए चर्चा की गई। भारत-नेपाल सीमा पर सीमा प्रबंधन, मानव तस्करी और तस्करी भी चर्चा का हिस्सा बने।

सिन्हुआ के प्रतिनिधि ने प्रतिभागियों को मधेस और मधेसी लोगों द्वारा सामना की जाने वाली पारंपरिक समस्याओं पर अपने मन की बात कहने के लिए प्रोत्साहित किया और उनसे यह जानने की कोशिश की कि चीन इन समस्याओं में से कुछ से निपटने में कैसे योगदान दे सकता है और मधेसी लोगों के लिए रणनीति विकसित कर सकता है।

उन्होंने दोहराया कि चूंकि चीन मधेस के समग्र विकास में सकारात्मक भूमिका निभाना चाहता है, इसलिए किसी अन्य देश को इन मुद्दों पर कोई आरक्षण और हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए।

झोउ शेंगपिंग ने यह भी सुझाव दिया कि चीन मधेस और पहाड़ी क्षेत्र के लोगों के बीच भेदभाव के बिना पूरे नेपाल को एक राष्ट्र के रूप में मानता है। इसके अलावा, चीन मधेस क्षेत्र के लिए सतत विकास परियोजनाएं प्रदान करने और कुछ प्रमुख शहरों जैसे हेटौड़ा, बीरगंज, विराटनगर आदि में उद्योगों को पुनर्जीवित करने के लिए तैयार है।

झोउ ने सुझाव दिया कि वह मधेसी युवाओं के लिए चीन में अध्ययन करने के लिए छात्रवृत्ति में वृद्धि की सिफारिश करेंगे। उन्होंने मधेसी युवाओं के लिए रोजगार पैदा करने के मकसद से मधेस क्षेत्र में लघु उद्योग स्थापित करने की उत्सुकता प्रकट की।

गौरतलब है कि झोउ ने जिक्र किया कि चीन मधेस को लुंबिनी में बुद्ध और जनकपुर में सीता जैसे देवताओं की भूमि मानता है। उन्होंने यह भी उल्लेख किया कि चीन को विश्वास है कि मधेस को चीनी पर्यटकों के लिए एक आकर्षक स्थान के रूप में विकसित किया जा सकता है।

इससे पहले, 26 नवंबर को काठमांडू में एक बैठक में झोउ ने विभिन्न राजनीतिक दलों का प्रतिनिधित्व करने वाले मधेसी युवाओं के एक अन्य समूह से मुलाकात की थी।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 21 Dec 2021, 11:15:01 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.