News Nation Logo
Banner

भारत (India) ने चीन (China) को चेताया, कश्मीर मुद्दे (Kashmir Issue) पर किसी की नहीं सुनेंगे

चाइना के राष्ट्रपति शी जिनपिंग का शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के साथ दूसरी अनौपचारिक शिखर बैठक का कार्यक्रम है.

By : Vikas Kumar | Updated on: 10 Oct 2019, 07:32:54 AM
Pm Modi and Xi Jinping

Pm Modi and Xi Jinping (Photo Credit: File Photo)

highlights

  • पाक-चीन वार्ता में जम्मू कश्मीर पर बातचीत पर भारत ने दी कड़ी प्रतिक्रिया. 
  • भारत ने अपना रुख किया साफ, जम्मू कश्मीर भारत का आंतरिक मसला. 
  • इसके पहले चीन ने पाकिस्तान को कश्मीर मुद्दे पर साथ देने की बात कही थी.

नई दिल्ली:

चीन (China) के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) के कश्मीर (Kashmir) पर चर्चा करने की खबरों पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए भारत (India) ने अपना रुख साफ कर दिया है कि कश्मीर का मुद्दा भारत का आंतरिक मुद्दा है और इस मसले पर भारत किसी बाहरी देश की बात को नहीं सुनेगा, चाहे वो पाकिस्तान हो या चीन.

दरअसल चीनी सरकारी मीडिया में पहले ही शोर था कि शी जिनपिंग और इमरान खान के बीच एक बैठक में कश्मीर पर चर्चा कर सकते हैं जिसके बाद भारत ने पहले ही इस बारे में अपना रुख साफ कर दिया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बैठक में शी ने इमरान खान से कहा कि कश्मीर में स्थिति पर चीन की नजर बनी हुई है और उसने आशा जताई कि ‘संबद्ध पक्ष’ शांतिपूर्ण वार्ता के जरिये मुद्दे का हल कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें: Exclusive: चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग और पीएम मोदी इन मुद्दों पर करेंगे बातचीत

भारतीय विदेश मंत्रालय (Ministry of External Affairs) के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि हमने शी जिनपिंग की इमरान खान के साथ बैठक के बारे में खबर पर संज्ञान लिया है जिसमें कश्मीर पर उनके बीच हुई चर्चा का भी जिक्र किया गया है. भारत की ओर से हमने अपना रुख स्पष्ट किया है कि जम्मू कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है. चीन हमारे रुख से अच्छी तरह से अवगत है. भारत के आंतरिक मामलों पर अन्य देश टिप्पणी नहीं करें.
शी का शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के साथ दूसरी अनौपचारिक शिखर बैठक है. इसके पहले चीनी राष्ट्रपति ने इमरान खान को एक बैठक के दौरान भरोसा दिलाया था कि अंतरराष्ट्रीय एवं क्षेत्रीय हालात में बदलावों के बावजूद चीन और पाकिस्तान के बीच मित्रता अटूट तथा चट्टान की तरह मजबूत है.

यह भी पढ़ें: डांस और ड्रेस के कारण कट्टरपंथियों के निशाने पर आईं पाकिस्तानी अदाकारा, जानें किसने क्या कहा

सरकारी चाइना ग्लोबल टेलीविजन नेटवर्क की खबर के मुताबिक, राष्ट्रपति शी ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को भरोसा दिलाया है कि चीन कश्मीर में स्थिति की निगरानी कर रहा है. शी ने कहा कि अपने वैध हितों की हिफाजत करने में चीन पाकिस्तान का समर्थन करता है और उम्मीद करता है कि संबद्ध पक्ष शांतिपूर्ण वार्ता के जरिये विवाद को हल कर सकते हैं.
चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने मंगलवार को कहा था कि कश्मीर मुद्दे का हल द्विपक्षीय तरीके से करना चाहिए. हालांकि, चीन का यह रुख अनुच्छेद 370 (Article 370) पर भारत के कदम के बाद के हफ्तों में कश्मीर पर चीन के रुख में अहम बदलाव का संकेत देता है.

यह भी पढ़ें: दिवाली से पहले इन 8 चीजों को घर से दिखाएं बाहर का रास्‍ता, बरसेंगी लक्ष्मी

बता दें कि 5 अगस्त को भारत के केंद्र सरकार ने जम्मू कश्मीर राज्य का विशेष दर्जा खत्म कर दिया था और लद्दाख को जम्मू कश्मीर से अलग करते हुए इसे केंद्र शासित प्रदेश घोषित कर दिया था. जिसके बाद से ही पाकिस्तान को बुखार चढ़ गया और वो हर बड़े मंच पर जाकर ये कह रहा है कि भारत कश्मीर के लोगों के साथ ज्यादती कर रहा है. इस पर पाकिस्तान को केवल चाइना का साथ ही मिल सका था जबकि पूरी दुनिया के देश भारत के पक्ष में खड़े दिखाई दिए. 

First Published : 10 Oct 2019, 06:41:56 AM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×