News Nation Logo

चीन ने रुटोग में जमा किए बड़े पैमाने पर हथियार औऱ सैनिक

सैटलाइट तस्‍वीरों से साफ नजर आ रहा है कि चीन ने न केवल यहां सैनिक तैनात कर रखे हैं, बल्कि अपने रुटोग सैनिक अड्डे का तेजी से आधुनिकीकरण कर रहा है.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 16 May 2021, 02:30:19 PM
China Pangong

कोरोना में भारत को फंसा देख चीन बढ़ा रहा सैनिकों का जमावड़ा. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • रुटोग में बड़े पैमाने पर हथियार और सैनिक जमा करे
  • रुटोग सैनिक अड्डे का तेजी से आधुनिकीकरण कर रहा
  • अक्साई चीन में भी आधारभूत ढांचे को कर रहा मजबूत

बीजिंग:

एक तरफ भारत कोरोना की दूसीर लहर से निपटने में व्यस्त है. दूसरी तरफ चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है. पता चला है कि लद्दाख की पैंगोंग त्‍सो झील के फिंगर 4 से लेकर 8 तक सेना को हटाने वाले चीन ने पास में ही स्थित अपने सैन्‍य ठिकाने रुटोग में बड़े पैमाने पर हथियार और सैनिक जमा कर रखे हैं. सैटलाइट तस्‍वीरों से साफ नजर आ रहा है कि चीन ने न केवल यहां सैनिक तैनात कर रखे हैं, बल्कि अपने रुटोग सैनिक अड्डे का तेजी से आधुनिकीकरण कर रहा है. चीनी तैयारी से साफ नजर आ रहा है कि अगर उसे भारत की ओर से खतरे का अंदेशा हुआ तो वह तत्‍काल बड़े पैमाने पर सैनिक और हथियार पैंगोंग झील के पास भेज सकता है.

रुटोग में हथियारों का जखीरा
द इंटेलिजेंस की ओर से 11 मई को ली गई सैटलाइट तस्‍वीरों में नजर आ रहा है कि चीन ने रुटोग में युद्धक वाहन, हथियारों का जखीरा, जवानों को गरम रखने वाले टेंट लगा रखे हैं. चीन ने कई ऐसे बैरक बनाए हैं जिन्‍हें ऊपर ढंक रखा है ताकि सैटलाइट से उसके अंदर नहीं देखा जा सके. विशेषज्ञों का कहना है कि इसके अंदर चीन ने बड़े पैमाने पर हथियार छिपाकर रखे हैं. तस्‍वीर से चीनी सैन्‍य बेस काफी विशाल नजर आ रहा है.

चीन अक्‍साई चिन इलाके में नए हेलीपोर्ट और बैरक बना रहा
उधर, चीन अक्‍साई चिन इलाके में भी बहुत तेजी से आधारभूत‍ ढांचे को मजबूत कर रहा है. सैटलाइट तस्‍वीरों से पता चला है कि चीन अक्‍साई चिन इलाके में नए हेलीपोर्ट और बैरक बना रहा है. यही नहीं चीन भारत से सटे इलाकों में सड़कें और सैनिकों के आने जाने के लिए जरूरी आधारभूत ढांचे को मजबूत करने में जुट गया है. तस्‍वीर में चीन के उपकरण साफ नजर आ रहे हैं.

कई इलाकों में सैनिक जमा
चीन ने भारत के साथ सैनिकों को हटाने के समझौते के बाद भी देपसांग प्‍लेन, गलवान घाटी, हॉट स्प्रिंग और पैंगोंग झील के पास बड़ी तादाद में सैनिक जमा कर रखे हैं. यही नहीं, चीन अब देपासांग, हॉट स्प्रिंग गोगरा पोस्‍ट से सेना हटाने के आश्‍वासन से पीछे हट रहा है. भारत और चीन के बीच कई दौर की वार्ता हो चुकी है लेकिन अभी तक इसका हल होता नहीं दिख रहा है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 16 May 2021, 02:30:19 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो