News Nation Logo

आर्थिक तंगी की मार झेल रहे पीएम इमरान खान के लिए बुरी खबर, अब विदेशों से सामान खरीदना हुआ मुश्किल

आर्थिक तंगी की मार झेल रहे पाकिस्तान को बचाने के लिए पीएम इमरान खान (Imran Khan) लगातार प्रयास कर रहे हैं, लेकिन इसका असर पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था पर नहीं दिख रहा है.

न्यूज स्टेट ब्यूरो | Edited By : Deepak Pandey | Updated on: 11 Oct 2019, 06:25:38 PM
पाकिस्तान के पीएम इमरान खान

नई दिल्ली:  

आर्थिक तंगी की मार झेल रहे पाकिस्तान को बचाने के लिए पीएम इमरान खान (Imran Khan) लगातार प्रयास कर रहे हैं, लेकिन इसका असर पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था पर नहीं दिख रहा है. अब इमरान खान के लिए विदेशों से सामान खरीदना भी मुश्किल हो गया है. दरअसल, फॉरेन रिजर्व यानी विदेशी मुद्रा भंडार में बड़ी गिरावट आई है.

यह भी पढ़ेंःइस साल पाकिस्तान कर चुका है 2317 बार सीजफायर उल्लंघन, सेना ने 147 आंतकियों किया ढेर

स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, 4 अक्टूबर तक पाकिस्तान की लिक्विड फॉरेन रिजर्व 14.992 अरब डॉलर ही बचा है. इससे पहले 27 सितंबर तक पाकिस्तान का कुल फॉरेन रिजर्व 15.003 अरब डॉलर था. आपको बता दें कि मुद्रा भंडार कम होने से पाकिस्तान के लिए विदेशों से सामान खरीदना बहुत मुश्किल हो जाएगा. ऐसे में घरेलू महंगाई और बढ़ेगी.

बता दें कि विदेशी मुद्रा भंडार किसी भी देश के सेंट्रल बैंक द्वारा रखी गई धनराशि या अन्य एसेट्स होते हैं, ताकि जरूरत पड़ने पर वह अपनी देनदारियों (कर्ज) का भुगतान कर सकें. इस तरह की करेंसी सेंट्रल बैंक जारी करता है. साथ ही सरकार और अन्य वित्तीय संस्थानों की तरफ से केंद्रीय बैंक के पास जमा किए गई राशि होती है.

यह भी पढ़ेंःचेन पुलिंग मामले में सनी देओल और करिश्मा कपूर को कोर्ट से मिली बड़ी राहत

यह भंडार एक या एक से अधिक मुद्राओं में रखे जाते हैं. ज्यादातर डॉलर और कुछ हद तक यूरो में विदेशी मुद्रा भंडार में शामिल होता है. विदेशी मुद्रा भंडार को फॉरेक्स रिजर्व या एफएक्स रिजर्व भी कहा जाता है. इमरान सरकार के पहले पाकिस्तान ने साल में रिकॉर्ड कर्ज लिया है. नया पाकिस्तान बनाने के वादे के साथ सत्ता में आई इमरान सरकार के एक साल के ही शासनकाल में देश की इतनी दुर्गति हो चुकी है, जितनी कभी नहीं हुई थी.

First Published : 11 Oct 2019, 06:25:38 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.