News Nation Logo
Banner

पाकिस्तान में आजादी मार्च खत्म, अब इमरान खान को घेरने के लिए Plan-B पर करेगा काम

पाकिस्तान (Pakistab) में विपक्षी दल जमीयत उलेमाए इस्लाम-एफ (जेयूआई-एफ) (Fazal-ur-Rehman) ने कहा कि इस्लामाबाद में धरना समाप्त करते हुए अपने प्लान 'बी' पर करेंगे.

By : Deepak Pandey | Updated on: 13 Nov 2019, 09:04:14 PM
मौलाना फजलुर रहमान

मौलाना फजलुर रहमान (Photo Credit: न्यूज स्टेट)

नई दिल्ली:

पाकिस्तान में विपक्षी दल जमीयत उलेमाए इस्लाम-एफ (जेयूआई-एफ) ने इस्लामाबाद में धरना समाप्त करते हुए अपने प्लान 'बी' के तहत अब आंदोलन को पूरे पाकिस्तान में फैलाने का फैसला किया है. प्लान 'बी' के तहत बुधवार को पार्टी सदस्यों ने देश में कई राजमार्गों को बाधित किया. इनमें बलोचिस्तान का रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण क्वेट-चमन राजमार्ग भी शामिल रहा.

यह भी पढ़ेंः महाराष्ट्र की राजनीति पर अमित शाह का बड़ा बयान, राष्ट्रपति शासन से BJP को हुआ सबसे ज्यादा नुकसान; देखें Video

मौलाना फजल ने बुधवार को प्रदर्शनकारियों को संबोधित करने के दौरान धरना खत्म करने का ऐलान किया. साथ ही कहा कि अब यह धरना-प्रदर्शन पूरे देश में होगा. उन्होंने कहा कि सरकार चाहती थी कि हम यहां से उठें और उसे सुकून मिले, लेकिन अब तो उसके लिए और भी मुसीबत है क्योंकि अब हम गली-गली फैलेंगे.

मौलाना ने कहा, "हम आज ही यहां से जाएंगे और उन साथियों के साथ जा मिलेंगे जो अन्य जगहों पर सड़कें ब्लॉक कर रहे हैं. प्लान बी के तहत सूबों में हमारे साथी सड़कों पर निकल आए हैं. हम गिरती दीवार को एक धक्का और देंगे." इससे पहले बुधवार को जेयूआई-एफ की केंद्रीय कार्यसमिति की बैठक हुई जिसमें इस्लामाबाद में धरने को समाप्त कर 'प्लान बी' के तहत पूरे देश में धरने और सड़कों को बाधित करने का फैसला किया गया.

यह भी पढ़ेंः फिल्म 'पानीपत' पर पाकिस्तान का ऐतराज, कहा- मुसलमान शासक को जालिस दिखाने के लिए ये किया गया

मौलाना फजल ने मंगलवार को ही प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए कहा था कि बुधवार से प्लान बी पर अमल शुरू होगा जिसके तहत महत्वपूर्ण मार्गों को बाधित किया जाएगा. उन्होंने पार्टी समर्थकों से हिंसा से दूर रहने को भी कहा था. जेयूआई-एफ सदस्यों ने बुधवार को क्वेटा-चमन राजमार्ग बाधित कर दिया. इससे राजमार्ग पर वाहनों की लंबी कतारें लग गईं. इस राजमार्ग से होकर अफगानिस्तान में नाटो सैनिकों के लिए सप्लाई जाती है। इसे बंद करने की वजह से इस सप्लाई पर भी असर पड़ा.

जेयूआई-एफ इमरान सरकार के इस्तीफे की मांग कर रही है. मौलाना फजलुर रहमान ने साफ कर दिया है कि उन्हें प्रधानमंत्री इमरान खान के इस्तीफे से कम कुछ भी मंजूर नहीं है. पार्टी ने 27 अक्टूबर से आजादी मार्च निकालना शुरू किया था और बीते 14 दिन से इसके सदस्य राजधानी इस्लामाबाद में धरने पर डटे हुए थे.

First Published : 13 Nov 2019, 09:03:06 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×