News Nation Logo
Banner

AyodhyaVerdict: पाकिस्तान को रास नहीं आया अयोध्या में मंदिर निर्माण का फैसला, मंत्री के बिगड़े बोल

पाकिस्तान के मंत्री फव्वाद हुसैन को इस फैसले से सबसे ज्यादा मिर्ची लगी है. उन्होंने एक ट्वीट के जरिये भारत के सर्वोच्च न्यायालय के फैसले को अनर्गल और अनैतिक बताते हुए ऐसी टिप्पणी की है, जो उनकी बौखलाहट को ही साबित करती है.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 09 Nov 2019, 12:43:28 PM
फव्वाद चौधरी के बिगड़े बोल

फव्वाद चौधरी के बिगड़े बोल (Photo Credit: (फाइल फोटो))

highlights

  • फव्वाद हुसैन ने अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को बताया अनैतिक.
  • इसके पहले भी कई मसलों पर दे चुके हैं बेतुके बयान.
  • सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को किया राम मंदिर निर्माण का रास्ता साफ.

New Delhi:

अयोध्या मसले पर सुप्रीम कोर्ट के आए फैसले से जहां देश के सभी वर्ग संतुष्ट नजर आ रहे हैं और फैसले को देश के सांस्कृतिक सद्भाव और ताने-बाने के अनुरूप ले रहे हैं, वहीं पाकिस्तान के मंत्री फव्वाद हुसैन को इस फैसले से सबसे ज्यादा मिर्ची लगी है. उन्होंने एक ट्वीट के जरिये भारत के सर्वोच्च न्यायालय के फैसले को अनर्गल और अनैतिक बताते हुए ऐसी टिप्पणी की है, जो उनकी बौखलाहट को ही साबित करती है.

यह भी पढ़ेंः AyodhyaVerdict: निर्णय हमारी अपेक्षाओं के अनुरूप नहीं, कई मसलों से संतुष्ट नहीं-जफरयाब जिलानी

पहले भी कर चुके हैं बेतुकी टिप्पणी
इसके पहले भी फव्वाद हुसैन भारत के चंद्रयान-2 और कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने पर बेतुकी बयानबाजी कर ट्रोल हो चुके हैं. इसके बावजूद वह बेवकफी भरी बातों से बाज नहीं आ रहे हैं. शनिवार को अयोध्या मसले पर सुप्रीम कोर्ट के आए फैसले से जुड़ी ट्वीट को रि-ट्वीट करते हुए उन्होंने उसे शर्मनाक, अनैतिक और बेतुका करार दिया.

यह भी पढ़ेंः Kartarpur Corridor Live: PM मोदी ने कहा- करतारपुर कॉरिडोर के लिए इमरान खान का धन्यवाद

सुप्रीम कोर्ट का फैसला
गौरतलब है कि शनिवार को सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों की खंडपीठ ने एकमत से फैसला दिया. इसके तहत सर्वोच्च न्यायालय ने अब तक विवादित कही जा रही जमीन को केंद्र के हवाले कर तीन महीने के अंदर मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट बनाने का निर्देश दिया. इसके साथ ही अदालत ने यह भी कहा कि अयोध्या में मस्जिद के लिए महत्वपूर्ण स्थान पर 5 एकड़ जमीन उपलब्ध कराने की बात कही. अदालत ने स्पष्ट करते हुए कहा था कि आस्था और विश्वास को दरकिनार नहीं किया जा सकता है, लेकिन अदालत किसी धर्म को दूसरे से कमतर नहीं आंक सकती है.

First Published : 09 Nov 2019, 12:42:41 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×