News Nation Logo

आंग सान सू ची पर भ्रष्टाचार का आरोप, लिए 6 लाख डॉलर और सोना

सू ची के वकीलों ने पहले ही इन आरोपों को खारिज कर दिया था जब सैन्य सरकार ने पहली बार तीन महीने पहले इन मुद्दों को उठाया था.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 11 Jun 2021, 02:31:39 PM
Aung San Suu Kyi

दोषी पाए जाने पर नहीं लड़ सकेंगी चुनाव. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • रियल एस्टेट सौदों में पद के दुरुपयोग औऱ रिश्वत का आरोप
  • बतौर रिश्वत लिए 6 लाख डॉलर और सोने की सात छड़े
  • अधिकतम 15 साल की सजा का प्रावधान, नहीं लड़ सकेंगी चुनाव

नेपीडॉ:

सैन्य शासित म्यांमार में भ्रष्टाचार रोधी आयोग ने कहा कि सत्ता से बेदखल की गई नेता आंग सान सू ची ने रियल एस्टेट सौदों में फायदे के लिए अपने पद का दुरुपयोग किया और रिश्वत ली. सू ची के वकीलों ने पहले ही इन आरोपों को खारिज कर दिया था जब सैन्य सरकार ने पहली बार तीन महीने पहले इन मुद्दों को उठाया था. सेना ने लोकतांत्रिक रूप से निर्वाचित सरकार का फरवरी में तख्तापलट कर दिया था. सू ची के समर्थकों का कहना है कि सभी आरोप राजनीति से प्रेरित हैं और उनकी छवि को खराब करने तथा सेना के सत्ता छीनने को वैध बनाने की कोशिश है. म्यांमार के लोग इस तख्तापलट को लेकर नाखुश हैं और उन्होंने पिछले आम चुनावों में सू ची की नेशनल लीग फॉर डेमोक्रेसी पार्टी को भारी संख्या में वोट दिया था.

दोषी पाए जाने पर नहीं लड़ सकेंगी चुनाव
किसी भी अपराध में दोषी पाए जाने पर सू ची को अगला चुनाव लड़ने से प्रतिबंधित किया जा सकता है. जुंटा ने दावा किया कि वह अगले साल या दो साल के भीतर नए चुनाव कराएगा, लेकिन देश की सेना का चुनाव कराने का वादा करने और फिर ऐसा न करने का लंबा इतिहास रहा है. फरवरी के तख्तापलट के बाद से ही सू ची ऐसी सूचना फैलाने के आरोपों का सामना कर रही हैं जिससे अशांति पैदा हो सकती थी. वह 2020 के चुनाव प्रचार अभियान के दौरान कोविड-19 महामारी संबंधी पाबंदियों को कथित तौर पर तोड़ने के लिए प्राकृतिक आपदा प्रबंधन कानून के उल्लंघन के आरोपों का भी सामना कर रही हैं. साथ ही उन पर औपनिवेशिक काल के शासकीय गोपनीयता कानून के उल्लंघन का भी आरोप है.

यह भी पढ़ेंः Corona को संक्रामक बनाया गया ताकि तेजी से ले सके इंसानों को चपेट में 

हो सकती है 15 साल की जेल
सरकारी ग्लोबल न्यू लाइट ऑफ म्यांमार अखबार में बृहस्पतिवार को प्रकाशित एक खबर में कहा गया है कि भ्रष्टाचार रोधी आयोग की जांच पर आधारित शिकायतें बुधवार को संबंधित पुलिस थानों में दर्ज करायी गयी. सरकारी टेलीविजन एमआरटीवी समेत अन्य मीडिया संगठनों ने भी ऐसी ही खबर दी है. खबर में कहा गया है कि सू ची पर भ्रष्टाचार रोधी कानून की धारा 55 के तहत आरोप लगाए गए हैं जिसमें उन्हें अधिकतम 15 साल की जेल हो सकती है. सू ची और उनकी पार्टी की वकील की विन ने कहा कि उनकी कानूनी टीम सू ची के साथ इन पर तब चर्चा करेगी जब वह अन्य आरोपों पर अदालत की अगली सुनवाई में मिलेंगे.

यह भी पढ़ेंः कुलभूषण जाधव को मिला अपील का अधिकार, PAK नेशनल असेंबली में बिल पास 

6 लाख डॉलर औऱ सोने की 7 छड़ लेने का आरोप
बृहस्पतिवार को आयी खबर में कहा गया है कि भ्रष्टाचार रोधी आयोग ने पाया कि सू ची ने यंगून क्षेत्र के पूर्व मुख्यमंत्री से गैरकानूनी तौर पर 6,00,000 डॉलर की घूस और सोने की सात छड़ें लीं. साथ ही इसमें कहा गया है कि सू ची ने अपनी मां के नाम पर बने एक परमार्थ फाउंडेशन के लिए बाजार से कम कीमत पर किराये की संपत्ति लेने के लिए अपने पद का दुरुपयोग किया.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 11 Jun 2021, 02:31:39 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.