News Nation Logo

OBOR: चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग बोले, सभी देश एक दूसरे की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता का रखें ख्याल

भारत ने इस विवादित आर्थिक गलियारे को लेकर अपनी चिंताओं के चलते इस फोरम का बहिष्कार किया है।

News Nation Bureau | Edited By : Deepak Kumar | Updated on: 14 May 2017, 11:16:12 PM

नई दिल्ली:

चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने 'बेल्ट एंड रोड फोरम' सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए कहा कि सभी देशों को एक दूसरे की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान करना चाहिए।

बता दें कि भारत ने पाक अधिकृत कश्मीर से हो कर गुजरने वाले इस विवादित आर्थिक गलियारे को लेकर अपनी चिंताओं के चलते इस फोरम का बहिष्कार किया है।

एक-दूसरे से जुड़ी हुई नयी दुनिया और अपने महत्वकांक्षी बेल्ट एंड रोड (बीएंडआर) कदम पर चीन के दृष्टिकोण का जिक्र करते हुए अपने उद्घाटन भाषण में शी ने पहले के सिल्क रुट का उदाहरण दिया और 'सिंधु और गंगा सभ्यताओं सहित' विभिन्न सभ्यताओं के महत्व पर अपनी बात रखी।

लेकिन उन्होंने 50 अरब डॉलर की लागत से बन रहे चीन भारत आर्थिक गलियारे (सीपीईसी) पर भारत की आपत्ति का कोई जिक्र नहीं किया। बीएंडआर के तहत यह महत्वाकांक्षी परियोजना पाकिस्तानी कब्जे वाले गिलगिट और बाल्टिस्तान से होकर गुजरती है।

चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा सभी देशों के लिए खुला, मुद्दे का राजनीतिकरण ग़लत: नवाज़ शरीफ़

भारत पूरे जम्मू-कश्मीर को अपना अभिन्न अंग मानता है।

हालांकि चीनी राष्ट्रपति शी ने कहा, 'सभी देशों को एक दूसरे की संप्रभुता, मर्यादा और क्षेत्रीय अखंडता का, एक दूसरे के विकास के रास्तों का, सामाजिक प्रणालियों का और एक दूसरे के प्रमुख हितों तथा बड़ी चिंताओं का सम्मान करना चाहिए।'

भारत ने शनिवार को ही स्पष्ट कर दिया था कि वह सीपीईसी को लेकर अपनी संप्रभुता संबंधी चिंताओं के चलते बीजिंग में रविवार से शुरू हुए सम्मेलन में हिस्सा नहीं लेगा। भारत के फैसले के बाद शी ने रविवार को 45 मिनट लंबा उद्घाटन भाषण दिया।

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने नई सिल्क रोड के लिए दिए 124 अरब डॉलर

भारत ने शनिवार रात आधिकारिक बयान जारी कर अपने बहिष्कार का स्पष्ट संकेत दे दिया था और साफ कर दिया था कि भारत ऐसी परियोजना को स्वीकार नहीं कर सकता जो उसकी सम्प्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता का उल्लंघन करता हो।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने एक बयान में कहा, 'कोई देश ऐसी परियोजना को स्वीकार नहीं कर सकता जो सम्प्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता पर उसकी मुख्य चिंताओं को नजरअंदाज करती हो।'

और पढ़ेंः वन बेल्ट वन रोड प्रोजेक्ट पर अलग-थलग पड़ा भारत, शिखर बैठक का किया बहिष्कार

हालांकि, दो दिवसीय इस सम्मेलन के उद्घाटन सत्र में कुछ भारतीय विद्वानों ने हिस्सा लिया। बीजिंग में हो रहे इस सम्मेलन में 29 देशों के नेता शामिल हुए। सम्मेलन में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ संभवत: सबसे बड़े शिष्टमंडल.. चार मुख्यमंत्रियों और पांच संघीय मंत्रियों.. के साथ आये हैं।

शी ने कहा कि 'बेल्ट एंड रोड' 'इस सदी की परियोजना है' जिससे पूरी दुनिया के लोगों को लाभ होगा।

और पढ़ेंः सीपीईसी की वजह से चीन के 'बेल्ट एंड रोड फोरम' से दूर रहेगा भारत

आईपीएल 10 से जुड़ी हर बड़ी खबर के लिए यहां क्लिक करें

मनोरंजन की खबर के लिए यहां क्लिक करें

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 14 May 2017, 09:49:00 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

Related Tags:

OBOR Xi Jinping