News Nation Logo

अमेरिका ने अब इजरायल को साधा, ट्रंप ने ईरान को दी 52 जगह हमले की चेतावनी

पश्चिम एशिया में गहराते संकट के बीच अमेरिकी विदेश मंत्री माइप पोंपियो ने रविवार को इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्यहू से ईरान की बदनीयत और क्षेत्रीय सुरक्षा को खतरे पर बातचीत की.

News State | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 05 Jan 2020, 09:13:56 AM
ईरान से गहराते संकट के बीच अमेरिका ने साधा इजरायल को.

ईरान से गहराते संकट के बीच अमेरिका ने साधा इजरायल को. (Photo Credit: न्यूज स्टेट)

highlights

  • अमेरिकी विदेश मंत्री माइप पोंपियो ने इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्यहू से बात की.
  • डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान के 52 ठिकानों को निशाना बनाने की कड़ी चेतावनी दी.
  • ईरान के बगदाद में अमेरिकी दूतावास पर मिसाइले दागने से हालात और तनावपूर्ण हुए.

नई दिल्ली:  

पश्चिम एशिया में गहराते संकट के बीच अमेरिकी विदेश मंत्री माइप पोंपियो ने रविवार को इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्यहू से ईरान की बदनीयत और क्षेत्रीय सुरक्षा को खतरे पर बातचीत की. इस बीच ईरान के बगदाद में अमेरिकी दूतावास पर मिसाइले दागने से हालात और तनावपूर्ण हो गए हैं. इस पर प्रतिक्रिया जताते हुए अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान को दो टूक चेतावनी दी है कि अगर ईरान ने हमला किया तो उसके 52 ठिकानों को निशाना बनाया जाएगा. उन्होंने ये भी कहा है कि अमेरिका 52 ठिकानों पर इसलिए हमला करेगा कि ईरान ने अब तक 52 अमेरिकियों को बंदी बनाया है.

यह भी पढ़ेंः बगदाद में अमेरिकी दूतावास के पास 2 मिसाइलों से हमला, अमेरिकी सैनिक थे निशाने पर | 'हत्यारा था सुलेमानी'

पोंपियो ने इजरायल का जताया आभार
इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्यहू से बातचीत करने के बाद माइक पोंपियो ने एक बयान जारी करते हुए कहा कि हमारी बातचीत का केंद्र ईरान की बदनीयती और क्षेत्रीय सुरक्षा पर मंडराता खतरा था. इसके साथ ही माइक पोंपियो ने आतंकवाद को पराजित करने के काम में इजरायल के तत्पर सहयोग का आभार भी जताया. उन्होंने कहा कि अमेरिका और इजरायल के रिश्ते कभी नहीं टूटेंगे. गौरतलब है कि इराक पर अमेरिकी ड्रोन हमले के बाद इजरायल खुलकर ट्रंप प्रशासन के पक्ष में आ खड़ा हुआ था. शीर्ष ईरानी कमांडर कासिम सुलेमानी के मारे जाने पर इजरायल ने बयान जारी कर कहा था कि अमेरिका को आत्मरक्षा का अधिकार है.

यह भी पढ़ेंः कश्मीर में नेताओं की स्थिति आगे कुआं पीछे खाई वाली, नजरबंदी हटी तो गिरफ्तारी तय

इजरायल खुलकर साथ आया अमेरिका के
गौरतलब है कि इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्यहू ने कहा था, 'जिस तरह इजरायल को आत्मरक्षा का अधिकार है, वही अधिकार अमेरिका को भी है. कासिम सुलेमानी अमेरिकी नागरिकों समेत कई और निर्दोष लोगों की मौत का जिम्मेदार था. वह और भी ऐसे ही हमलों का साजिश रच रहा था.' हालांकि ईरान ने शनिवार देर रात बगदाद में अमेरिकी दूतावास के पास मिसाइल हमले कर अपने इरादे जाहिर कर दिए हैं कि वह चुप बैठने वाला नहीं है. इसके बाद से पश्चिम एशिया के हालात और तनावपूर्ण हो गए हैं.

यह भी पढ़ेंः Fact Check: क्या असम में जबरन लोगों को घरों से उठा रही है पुलिस? क्या है इस वीडियो का सच

ट्रंप ने ईरान को दी नई चेतावनी
इस पर प्रतिक्रिया देते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति ने ट्वीट कर कहा, 'ईरान बदला लेने की धमकी दे रहा है. मैं ईरान को चेतावनी देना चाहता हूं कि अगर उसने किसी अमेरिकी या अमेरिकी ठिकाने पर हमला किया तो हमने ईरान के 52 ठिकानों की पहचान की है. (ईरान द्वारा बंधक बनाए गए 52 अमेरिकी बंदियों की याद में). इन 52 ईरानी ठिकानों में कई उच्‍च स्‍तर के हैं और ईरान और उसकी संस्‍कृति के लिए बेहद अहम हैं. इन ठिकानों पर बहुत तेजी से और बहुत विध्‍वंसक तरीके से निशाना बनाया जाएगा. इसलिए अमेरिका को और ज्‍यादा धमकी नहीं चाहिए'

First Published : 05 Jan 2020, 09:13:56 AM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.