News Nation Logo
Quick Heal चुनाव 2022

ताइवान पर खुलकर आया अमेरिका, कहा- चीन ने किया हमला तो.....

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा है कि अगर ताइवान पर चीन हमला करता है तो अमेरिका उसकी रक्षा करने आगे आएगा. अमेरिका ने कहा है कि ताइवान की रक्षा करना एक प्रतिबद्धता है.

News Nation Bureau | Edited By : Vijay Shankar | Updated on: 22 Oct 2021, 03:31:45 PM
America taiwan

America taiwan (Photo Credit: File Photo)

highlights

  • अमेरिका के राष्ट्रपति ने ताइवान का किया समर्थन
  • बाइडेन ने कहा, ताइवान की रक्षा करना एक प्रतिबद्धता है
  • चीन का लंबे समय से ताइवान के साथ खराब हैं रिश्ते

वाशिंगटन:

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा है कि अगर ताइवान पर चीन हमला करता है तो अमेरिका उसकी रक्षा करने आगे आएगा. अमेरिका ने कहा है कि ताइवान की रक्षा करना एक प्रतिबद्धता है. गौरतलब है कि ताइवान को लेकर चीन अपने क्षेत्र के रूप में दावा करता रहा है. अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन से सीएनएन टाउन हॉल में जब यह पूछा गया कि क्या अमेरिका ताइवान की रक्षा के लिए आगे आएगा, जिसने चीनी संप्रभुता को स्वीकार करने के लिए बीजिंग से बढ़ते सैन्य और राजनीतिक दबाव की शिकायत की है. इसके जवाब में राष्ट्रपति ने कहा कि हां, हमारे पास ऐसा करने की प्रतिबद्धता है.

यह भी पढ़ें : ताइवान ने अमेरिका से मांगे F-16,चीन के खिलाफ लामबंद हुआ ताइवान

अमेरिका का ताइवान के साथ कोई आधिकारिक राजनयिक संबंध नहीं है, लेकिन वह अपने ताइवान संबंध अधिनियम के तहत इस क्षेत्र के लिए हथियार बेचता है, जिसमें कहा गया है कि अमेरिका को ताइवान को अपनी रक्षा करने में मदद करनी चाहिए. चीन ताइवान को एक अलग प्रांत के रूप में देखता है, जिसे वह बलपूर्वक वापस हथियाने की कोशिश कर रहा है जबकि ताइवान का दावा है कि वह एक संप्रभु राज्य है. हाल के दिनों में बीजिंग द्वारा ताइवान के वायु रक्षा क्षेत्र में दर्जनों युद्धक विमानों के उड़ान भरने के बाद से दोनों के बीच तनाव बढ़ गया है. 

अगस्त महीने में भी बिडेन प्रशासन के एक अधिकारी ने कहा था कि ताइवान पर अमेरिकी नीति नहीं बदली थी क्योंकि राष्ट्रपति ने सुझाव दिया था कि संयुक्त राज्य अमेरिका हमला होने पर ताइवान की रक्षा करेगा. बाइडेन ने कहा कि लोगों को वाशिंगटन की सैन्य ताकत के बारे में चिंता नहीं करनी चाहिए क्योंकि चीन, रूस और बाकी दुनिया जानती है कि हम दुनिया के इतिहास में सबसे शक्तिशाली सेना हैं. बिडेन ने कहा, "आपको इस बारे में चिंता करने की ज़रूरत है कि क्या वे ऐसी गतिविधियों में शामिल होने जा रहे हैं जो उन्हें ऐसी स्थिति में डाल दें जहां वे एक गंभीर गलती कर सकते हैं. मैं चीन के साथ शीत युद्ध नहीं चाहता. मैं चाहता हूं कि चीन यह समझे कि हम पीछे हटने वाले नहीं हैं. हम अपने किसी भी विचार को नहीं बदलने जा रहे हैं.

चीन-ताइवान में पिछले 40 वर्षों से तनाव

ताइवान और चीन के बीच सैन्य तनाव 40 से अधिक वर्षों में सबसे खराब स्थिति में है. ताइवान के रक्षा मंत्री चिउ कुओ-चेंग ने इस महीने कहा था कि चीन 2025 तक पूरी तरह आक्रमण करने में सक्षम होगा.  ताइवान का कहना है कि यह एक स्वतंत्र देश है और अपनी स्वतंत्रता और लोकतंत्र की रक्षा करेगा. चीन का कहना है कि ताइवान संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ अपने संबंधों में सबसे संवेदनशील और महत्वपूर्ण मुद्दा है. चीन ने वाशिंगटन और ताइपे के बीच मिलीभगत की निंदा की है.

अमेरिका के साथ आने पर चीन भड़का

पत्रकारों से बात करते हुए चीन के संयुक्त राष्ट्र के राजदूत झांग जून ने गुरुवार को कहा कि वे ताइवान के साथ "शांतिपूर्ण तरीके से बातचीत के प्रयास कर रहे हैं और इसकी सत्तारूढ़ डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी द्वारा "अलगाववादी प्रयासों" का जवाब दे रहे हैं. उन्होंने कहा कि हम संकटमोचक नहीं हैं. इसके विपरीत, कुछ देश विशेष रूप से अमेरिका खतरनाक कार्रवाई की अग्रसर हैं जिससे ताइवान जलडमरूमध्य की स्थिति एक खतरनाक दिशा में ले जा रही है. उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि इस समय हमें जो कहना चाहिए वह यह है कि संयुक्त राज्य अमेरिका इस तरह के अभ्यास को रोक दे. ताइवान को युद्ध में घसीटना निश्चित रूप से किसी के हित में नहीं है. मुझे नहीं लगता कि संयुक्त राज्य अमेरिका को इससे कुछ हासिल होगा. 

First Published : 22 Oct 2021, 10:46:16 AM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.