News Nation Logo
Banner

अफगानिस्तान: राष्ट्रपति भवन में तालिबान नेताओं के बीच हुआ था विवाद , क्या है विवाद का कारण

हाल के दिनों में मुल्ला बरादर के सार्वजनिक रूप से गायब होने के बाद से तालिबान नेतृत्व के भीतर असहमति की खबर चर्चा में है.

News Nation Bureau | Edited By : Pradeep Singh | Updated on: 15 Sep 2021, 11:43:38 AM
Mullah Abdul ghani baradar

मुल्ला अब्दुल गनी बरादर (Photo Credit: News Nation)

highlights

  • तालिबान के सबसे प्रसिद्ध चेहरों में से एक मुल्ला बरादर सार्वजनिक परिदृश्य से गायब हो गए हैं
  • मुल्ला अब्दुल गनी बरादर और खलील उर-रहमान हक्कानी के बीच राष्ट्रपति भवन में बहस हुई थी
  • बरादर 2020 में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के साथ टेलीफोन पर सीधे संवाद किया था

नई दिल्ली:  

अफगानिस्तान में अंतरिम सरकार का गठन हो चुका है. लेकिन इस नई सरकार के गठन के पहले अफगानिस्तान के राष्ट्रपति भवन में तालिबान नेताओं के बीच तीखी बहस हुई थी. मीडिया रिपोर्ट की माने तो  अफगानिस्तान में समूह की नई सरकार के गठन को लेकर तालिबान के नेताओं के बीच एक बड़ी बहस  छिड़ गया था. समूह के सह-संस्थापक मुल्ला अब्दुल गनी बरादर और एक कैबिनेट सदस्य के बीच राष्ट्रपति भवन में बहस हुई थी. तालिबान के अंदर असहमति की अपुष्ट खबरें आती रही हैं. हाल के दिनों में मुल्ला बरादर के सार्वजनिक रूप से गायब होने के बाद से तालिबान नेतृत्व के भीतर असहमति की खबर चर्चा में है. लेकिन तालिबान इसका आधिकारिक तौर पर खंडन कर रहा है.

तालिबान ने पिछले महीने अफगानिस्तान पर कब्जा कर लिया था, और तब से देश को "इस्लामिक अमीरात" घोषित कर दिया है. उनका नया अंतरिम मंत्रिमंडल पूरी तरह से पुरुष है और तालिबान के वरिष्ठ लोगों से बना है, जिनमें से कुछ पिछले दो दशकों में अमेरिकी सेना पर हमलों के लिए कुख्यात हैं.

तालिबान के एक सूत्र ने  मीडिया को बताया कि  बरादर और खलील उर-रहमान हक्कानी (शरणार्थियों के मंत्री और आतंकवादी हक्कानी नेटवर्क के प्रमुख व्यक्ति)  के बीच कड़े शब्दों में बातचीच हुई, क्योंकि उनके अनुयायी एक-दूसरे के साथ विवाद कर रहे थे.

कतर में स्थित तालिबान के एक वरिष्ठ सदस्य और इसमें शामिल लोगों से जुड़े एक व्यक्ति ने भी पुष्टि की कि पिछले सप्ताह के अंत में एक बहस हुई थी. बहस इसलिए छिड़ गई क्योंकि नए उप प्रधान मंत्री  बरादर अपनी अंतरिम सरकार के ढांचे से नाखुश थे. यह भी कहा गया है कि यह विवाद इस बात से उपजा है कि तालिबान में से किसे अफगानिस्तान में अपनी जीत का श्रेय लेना चाहिए.

कथित तौर पर मुल्ला बरादर यह मानते हैं कि उनके जैसे लोगों द्वारा की गई कूटनीति का यह नतीजा है, जबकि हक्कानी समूह के सदस्यों और उनके समर्थकों का कहना है कि यह जीत लड़ाई के माध्यम से हासिल किया गया.

यह भी पढ़ें:अमेरिकी सैन्य प्रमुख ने चीन पीपल्स लिबरेशन आर्मी के जनरल को क्यों किया था सीक्रेट फोनकॉल ?

बरादर पहले तालिबान नेता थे जिन्होंने 2020 में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के साथ टेलीफोन पर सीधे संवाद किया था. इससे पहले, उन्होंने तालिबान की ओर से अमेरिकी सैनिकों की वापसी पर दोहा समझौते पर हस्ताक्षर किए थे.

इस बीच, शक्तिशाली हक्कानी नेटवर्क हाल के वर्षों में अफगानिस्तान में अफगान बलों और उनके पश्चिमी सहयोगियों के खिलाफ हुए कुछ सबसे हिंसक हमलों से जुड़ा है. समूह को अमेरिका द्वारा एक आतंकवादी संगठन के रूप में नामित किया गया है. इसके नेता सिराजुद्दीन हक्कानी नई सरकार में गृह मंत्री हैं.

पिछले हफ्ते के अंत से एक अफवाहें फैली है कि तालिबान के सबसे प्रसिद्ध चेहरों में से एक मुल्ला बरादर सार्वजनिक परिदृश्य से गायब हो गए. सोशल मीडिया पर  उनकी मौत के कयास लगाए जा रहे थे.  तालिबान के सूत्रों का कहना है कि विवाद के बाद बरादर काबुल से कंधार चले गए थे.

इसके बाद सोमवार को जारी बरादर की एक ऑडियो रिकॉर्डिंग में बताया गया कि तालिबान के सह-संस्थापक दूर की यात्राओं पर गये थे. इस ऑडियो में उन्होंने कहा, "मैं इस समय जहां भी हूं, हम सब ठीक हैं."  

बहुत से अफ़गानों को लगेगा कि उनके पास तालिबान की बात पर संदेह करने का अच्छा कारण है. 2015 में, समूह ने अपने संस्थापक नेता मुल्ला उमर की मृत्यु के दो साल से अधिक समय तक कवर करने के लिए स्वीकार किया, इस दौरान उन्होंने उनके नाम पर बयान जारी करना जारी रखा था.

सूत्रों का कहना है कि बरादर के काबुल लौटने की उम्मीद थी और वे कैमरे के सामने इस बात से इनकार कर सकते हैं कि कोई बहस हुई थी. तालिबान के सर्वोच्च कमांडर हिबतुल्लाह अखुंदज़ादा को लेकर अटकलें बनी हुई हैं, जिन्हें कभी भी सार्वजनिक रूप से नहीं देखा गया है. वह तालिबान के राजनीतिक, सैन्य और धार्मिक मामलों के प्रभारी हैं.

इस बीच, अफगानिस्तान के कार्यवाहक विदेश मंत्री ने मंगलवार को अंतर्राष्ट्रीय दानदाताओं से सहायता फिर से शुरू करने का आह्वान करते हुए कहा कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को उनकी सहायता का राजनीतिकरण नहीं करना चाहिए.

First Published : 15 Sep 2021, 11:43:38 AM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.