News Nation Logo
Banner

पंचशीर में तालिबान ने कब्जे का किया दावा तो नॉर्दर्न एलायंस ने किया खारिज

तालिबान ने पहले भी कई मौकों पर पंशीर पर जीत का दावा किया था, लेकिन तालिबान के दावों को नॉर्दर्न एलायंस ने खारिज कर दिया था .

News Nation Bureau | Edited By : Pradeep Singh | Updated on: 10 Sep 2021, 06:45:02 PM
taliban

तालिबान (Photo Credit: News Nation)

highlights

  • तालिबान ने पूर्व उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह के भाई की हत्या कर दी है
  • पूर्व उपराष्ट्रपति और पंजशीर प्रतिरोध के नेता अमरुल्ला सालेह के देश से भागने की बात
  • तालिबान और नॉर्दर्न एलायंस के बीच चल रहे युद्ध में दोनों पक्षों को हुआ भारी नुकसान

नई दिल्ली:

पंजशीर में तालिबान ने पूर्व उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह के भाई की हत्या कर दी है. तालिबान ने यह दावा किया है कि उसने पंजशीर में अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति अमरूल्ला सालेह के घर पर कब्जा भी कर लिया है. लेकिन अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हुई है. कई रिपोर्ट्स में यह आशंका जताई गई है कि तालिबान ने अमरूल्ला सालेह के भाई की हत्या कर दी है. वहीं यह कहा जा रहा है कि पिछले पांच दिनों से अमरुल्ला सालेह भी गायब हैं. अफगानिस्तान के पूर्व उपराष्ट्रपति और पंजशीर प्रतिरोध के नेता अमरुल्ला सालेह के देश से भागने की खबरों के बीच  हाल ही में पंजशीर से एक वीडियो जारी करते हुए दावा किया कि वह वहीं हैं और देश छोड़कर नहीं गये हैं.

अफगानिस्तान की पंजशीर घाटी में अभी भी भारी संघर्ष चल रहा है. तालिबान का दावा  है कि उसने अमरुल्लाग सालेह के बड़े भाई रोहुल्लाह सालेह को मार दिया है. सूचना के मुताबिक अमरूल्ला सालेह के भाई पंजशीर से काबुल जा रहे और उसी दौरान उन्हें पकड़ लिया गया था. कई रिपोर्टों में कहा जा रहा है कि अमरूल्ला सालेह के बड़े भाई की हत्या से पहले काफी यातनाएं दी गई. तालिबान ने एक तस्वीर जारी किया है, जिसमें उसका आतंकी उसी जगह बैठा हुआ है, जहां से अमरूल्ला सालेह ने पिछले महीने एक वीडियो जारी किया था कि वह अभी भी पंजशीर में हैं. सोशल मीडिया पर कहा गया है कि तालिबान ने उस जगह के पुस्तकालय पर कब्जा कर लिया है जहां अमरुल्ला सालेह रहा करते थे. हालांकि, अभी तक हम दावे की पुष्टि नहीं कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें:तालिबानी हुकूमत की क्रूर हकीकत

तालिबान ने पहले भी कई मौकों पर पंशीर पर जीत का दावा किया था, लेकिन तालिबान के दावों को नॉर्दर्न एलायंस ने खारिज कर दिया था और स्वतंत्र स्रोतों का कहना है कि पंजशीर की घाटी में अभी भी काफी तेज लड़ाई चल रही है. कुछ रिपोर्ट्स में कहा गया है कि तालिबान के खिलाफ लड़ने वाले प्रतिरोध मोर्चा ने पंजशीर परिवारों को प्रांत छोड़ने के लिए तीन दिन का समय दिया . क्योंकि वे एक और दौर की लड़ाई की तैयारी कर रहे थे. तालिबान ने भी कथित तौर पर पंजशीर के निवासियों को सुरक्षित मार्ग की अनुमति देने पर सहमति व्यक्त की है.

तालिबान और नॉर्दर्न एलायंस के बीच चल रहे युद्ध में दोनों पक्षों को भारी नुकसान हुआ है. वहीं नॉर्दर्न एलायंस ने कहा है कि पाकिस्तानी वायुसेना भी तालिबान के साथ लड़ रही है. पंजशीर की घाटी में एक पाकिस्तानी एयरफोर्स का एक हेलीकॉप्टर की तस्वीर भी सामने आई थी और रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान वायुसेना ने पंजशीर की घाटी में नॉर्दर्न एलायंस के ऊपर हमला किया था और उसी के बात तालिबान के आतंकी पंजशीर में दाखिल होने में कामयाब रहे थे. पिछले रविवार को नेशनल रेजिस्टेंस फ्रंट के पूर्व प्रवक्ता फहीम दश्ती की हत्या कर दी गई थी. पिछले कुछ दिनों से जंग तेज होने के बाद लोग पंजशीर से जा रहे हैं. जो लोग काबुल भाग गए हैं उन्होंने टोलो न्यूज को बताया कि पंजशीर में लोग भूख से मरेंगे, क्योंकि तालिबान ने प्रांत में सभी मानवीय सहायता को रोक दिया है.

अफगानिस्तान के पूर्व उपराष्ट्रपति और पंजशीर प्रतिरोध के नेता अमरुल्ला सालेह के देश से भागने की बात की जा रही है. पाकिस्तान ने जिस रात पंजशीर पर हमला किया था, उसके बाद से अमरूल्ला सालेह की कोई खबर नहीं मिल पाई है. वहीं, तालिबान द्वारा अंतरिम सरकार की घोषणा के एक दिन बाद बुधवार को, ताजिकिस्तान में अपदस्थ अफगान सरकार के राजदूत ने पुष्टि की थी कि, मसूद और अमरुल्ला सालेह दोनों अफगानिस्तान में ही हैं, ना कि ताजिकिस्तान में.

First Published : 10 Sep 2021, 05:25:45 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.