News Nation Logo
Banner

अफगानिस्तान संकट: अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन कुछ देर में देश को करेंगे संबोधित

तालिबान के कब्जे वाले अफगानिस्तान में अराजकता का माहौल जारी है. इस बीच तालिबान ने अमेरिकी सेना को 31 अगस्त तक अफगानिस्तान छोड़ने को कहा था, लेकिन अमेरिका डेडलाइन से 24 घंटे पहले ही वहां से निकल गया

News Nation Bureau | Edited By : Mohit Sharma | Updated on: 31 Aug 2021, 11:40:16 PM
US President Joe Biden

US President Joe Biden (Photo Credit: DNA)

नई दिल्ली:

तालिबान के कब्जे वाले अफगानिस्तान में अराजकता का माहौल जारी है. इस बीच तालिबान ने अमेरिकी सेना को 31 अगस्त तक अफगानिस्तान छोड़ने को कहा था, लेकिन अमेरिका डेडलाइन से 24 घंटे पहले ही वहां से निकल गया. वहीं, अफगानिस्तान में जारी संकट को लेकर भी द​दुनियाभर से अमेरिका पर तमाम सवाल उठाए जा रहे हैं. माना जा रहा है कि अमेरिका की लचर नीति के कारण ही तालिबान के हौसले इतने बढ़े हुए हैं. इस बीच सबकी निगाहें अमेरिका के अगले कदम पर टिकी हैं. इन सबके चलते कुछ देर में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन भाषण देंगे. समझा जा रहा है कि अपने संबोधन के दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति कोई बड़ा ऐलान कर सकते हैं.

अमेरिका ने 2001 में 9/11 के आतंकवादी हमलों के बाद अफगान युद्ध शुरू किया था, लेकिन इसने 20 साल बाद गैर-जिम्मेदाराना तरीके से युद्ध समाप्त कर दिया. अब साल उठता है कि आखिर तालिबान की वापसी क्यों हुई और अब अफगानिस्तान का भविष्य क्या होगा? 30 अगस्त को, यूएस सेंट्रल कमांड के कमांडर जनरल केनेथ मैकेंजी ने घोषणा की कि अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी पूरी हो गई है, और अमेरिकी सैन्य कब्जे के 20 साल समाप्त हो गए हैं। यद्यपि यह अमेरिकी सेना के लिए एक मिशन पूरा है, लेकिन कई लोग इसे मिशन विफल के रूप में देखते हैं। जब से तालिबान ने काबुल पर कब्जा किया है, तब से होने वाली अराजकता के लिए मुख्य रूप से अमेरिका पर आरोप लगाया गया है। स्थिति इतनी तेजी से सामने आई कि अफगानिस्तान में सबसे तेज निर्णय लेने वालों को भी नहीं पता था कि कैसे प्रतिक्रिया दी जाए. कुछ ने तालिबान के सामने आत्मसमर्पण कर दिया और कुछ भाग गये.

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन द्वारा वापसी की समय सीमा घोषित करने के बाद, अनिश्चितता के बादल उन सभी पर मंडराने लगे जिन्हें संदेश मिला था. इस सारी गड़बड़ी में केवल एक ही बात निश्चित थी- अमेरिकी सैनिकों की गैर-जिम्मेदाराना वापसी. यह वही लोग हैं जिन्होंने तालिबान के खिलाफ लड़ने के लिए दो दशक पहले 9/11 के आतंकवादी हमलों के बाद युद्ध की घोषणा की थी. अमेरिका ने गड़बड़ी शुरू की और अफगानिस्तान में गड़बड़ी करके चले गये। राष्ट्र के पुनर्निर्माण और निवेश के लिए, सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण, तालिबान को इस गड़बड़ी को ठीक करने की आवश्यकता है। अफगानिस्तान को एक सुरक्षित और शांतिपूर्ण वातावरण की जरूरत है.

First Published : 31 Aug 2021, 11:40:16 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.