logo-image
लोकसभा चुनाव

रूस में राष्ट्रपति पुतिन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन, 250 प्रदर्शनकारी गिरफ्तार

रूस में भ्रष्टाचार विरोधी प्रदर्शनों को लेकर सोमवार को प्रमुख विपक्षी नेता अलेक्सी नावलनी समेत करीब 250 प्रदर्शनाकारियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

Updated on: 13 Jun 2017, 11:31 AM

नई दिल्ली:

रूस में भ्रष्टाचार विरोधी प्रदर्शनों को लेकर सोमवार को प्रमुख विपक्षी नेता अलेक्सी नावलनी समेत करीब 250 प्रदर्शनाकारियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

स्थानीय मीडिया के मुताबिक सेंट पीटर्सबर्ग में हजारों लोगों की रैली में कोई 150 लोगों को गिरफ्तार किया गया, जबकि मॉस्को में कम से कम 97 लोगों को हिरासत में लिया गया। यहां भीड़ ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के खिलाफ नारे लगाए थे।

तस्वीरों में हथियारों से पूरी तरह लैस पुलिस अधिकारियों के समूह प्रदर्शनकारियों को हाथ व पैर पकड़कर दूर ले जाते दिख रहे हैं।

वहीं, नावलनी की पत्नी जूलिया ने ट्वीट किया कि उनके पति सबसे बड़ी रैली में भाग लेने के लिए मॉस्को स्थित अपने घर से जैसे ही निकले, उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। उन्होंने पुलिस कार्रवाई की चेतावनी के बावजूद रैली का स्थान एक दिन पहले ही बदल दिया था।

नावलनी की प्रवक्ता कीरा यार्मिश ने कहा कि उनके कार्यालय की बिजली अधिकारियों ने काट दी।

नावलनी रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के घोर आलोचक हैं और 2018 के राष्ट्रपति चुनाव के संभावित उम्मीदवार भी हैं। उन्होंने रविवार रात एक वीडियो जारी किया, जिसमें उन्होंने अपने समर्थकों से शहर के अधिकारियों द्वारा आवंटित पूर्वोत्तर इलाके की जगह मध्य मॉस्को में एकत्र होने का आग्रह किया था।

नावलनी ने कहा, 'हम सखारोवा स्ट्रीट पर अपनी रैली को रद्द करते हुए इसे शांतिपूर्वक तरीके से तेवरसकाया में स्थानांतरित कर रहे हैं।'

फ्रांस संसदीय चुनावः मैक्रों को उम्मीद उनकी पार्टी को मिलेगी बहुमत

मॉस्को के प्रॉसिक्यूटर कार्यालय ने कहा था, 'हम चेतावनी देते हैं कि मॉस्को में अवैध तरीके से प्रदर्शन का कोई भी प्रयास कानून का सीधा उल्लंघन होगा।' कार्यालय द्वारा यह चेतावनी दी गई थी कि सार्वजनिक सुरक्षा के लिए खतरा बन रही किसी भी कार्रवाई को रोकने के लिए सभी आवश्यक उपाय किए जाएंगे।

एक स्थानीय रेडियो स्टेशन को एक बयान में मॉस्को के पुलिस प्रमुख व्लादिमीर चर्निकोव ने चेतावानी देते हुए कहा कि अधिकारी तख्तियों और नारों के साथ शांति भंग करने वाले किसी भी व्यक्ति को गिरफ्तार कर सकते हैं।

लंदन में भारत-दक्षिण अफ्रीका का मैच देखने पहुंचे माल्या को देख भारतीय दर्शकों ने लगाए चोर-चोर के नारे

अधिकारियों की चेतावनी को अनसुना करते हुए नवलनी ने अपने समर्थकों को 26 मार्च को किए गए प्रदर्शन की तरह प्रदर्शन पर जोर दिया, जिसमें अनधिकृत विपक्ष की रैली में सैकड़ों लोगों को गिरफ्तारी के लिए प्रेरित किया। इसमें नवलनी ने भी गिरफ्तारी दी थी।

नवलनी ने पुतिन के आतंरिक कुनबे में फैले भ्रष्टाचार के खिलाफ जमीनी अभियान का नेतृत्व कर चुके हैं। मार्च में किए गए विरोध प्रदर्शन प्रधानमंत्री दमित्री मेदवेदेव के इस्तीफे की मांग को लेकर किए गए थे।

मनोरंजन: OMG रजनीकांत-अक्षय कुमार की फिल्म '2.0' हुई लीक!

कारोबार से जुड़ी और ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें