News Nation Logo

पाकिस्तान: गरीबी के कारण 25 सालों से पेड़ों की पत्तियां खाकर जिंदा है ये पाकिस्तानी शख्स

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में रहने वाला एक व्यक्ति अत्यंत गरीबी के कारण पिछले 25 सालों से पेड़ों की पत्तियां और टहनियां खाकर जिंदगी गुजार रहा है। मगर हैरान करने वाली बात ये है कि इससे उसके शरीर पर किसी तरह का बुरा असर नहीं पड़ा है और वह पूरी तरह से फिट बताया जा रहा है। इस इंसान की फिटनेस देखकर खुद डॉक्टर्स भी सकते में हैं।

News Nation Bureau | Edited By : Desh Deepak | Updated on: 23 Apr 2017, 11:44:02 AM
गुजरावालां जिले के महमूद बट्ट पेड़ों की पत्तियां खाते हुए

नई दिल्ली:  

इस दुनिया में जीवित रहने के लिए भले ही आपको भोजन की जरूरत होती होगी, मगर एक शख्स ऐसा भी है, जो भोजन तो करता है, मगर उसका भोजन आम इंसानों से थोड़ा अलग होता है। मगर क्या आप विश्वास करेंगे कि इस दुनिया में एक शख्स ऐसा भी है, जो सिर्फ और सिर्फ पेड़ पौधों की पत्तियां खाकर ही अपना गुजर-बसर करता है।

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में रहने वाला एक व्यक्ति अत्यंत गरीबी के कारण पिछले 25 सालों से पेड़ों की पत्तियां और टहनियां खाकर जिंदगी गुजार रहा है। मगर हैरान करने वाली बात ये है कि इससे उसके शरीर पर किसी तरह का बुरा असर नहीं पड़ा है और वह पूरी तरह से फिट बताया जा रहा है। इस इंसान की फिटनेस देखकर खुद डॉक्टर्स भी सकते में हैं।

और पढ़ें: अमेरिकी मीडिया का दावा, पाकिस्तान के कराची में छुपा है अल कायदा सरगना जवाहिरी, ISI कर रही हिफाजत

द न्यूज इंटरनेशनल की रिपोर्ट के मुताबिक, गुजरावालां जिले के महमूद बट्ट के पास कोई काम नहीं था और उसके पास खाना जुटाने तक के लिए पैसे नहीं थे, इसलिए उसने जीवित रहने के लिए पत्तियां खानी शुरू कर दी। हैरानी की बात यह है कि वह इतने सालों से पत्तियां खाने के बावजूद कभी बीमार नहीं पड़ा।

पत्तियां खाकर जिंदगी जीने वाले महमूद बट्ट ने कहा, 'मेरा परिवार बेहद गरीब है। मेरे लिए खाना जुटाना भी बेहद मुश्किल था, इसलिए मैंने सोचा कि सड़क पर भीख मांगने से बेहतर है कि मैं पत्तियां और टहनियां खाकर ही गुजारा कर लूं।'

और पढ़ें: पाकिस्तान: क्वेटा में 434 आतंकवादियों ने किया आत्मसमर्पण

बट्ट ने कहा, 'लकड़ी और पत्तियां खाना अब मेरी आदत में शुमार है।' बट्ट के पड़ोसियों ने कहा कि अब वह हर रोज 600 पाकिस्तानी रुपये कमाता है, लेकिन वह हर जगह ताजी पत्तियों और टहनियों की तलाश में रहता है।

महमूद बट्ट के पड़ोसी गुलाम मोहम्मद ने कहा, 'वह किसी भी समय सड़क किनारे अपनी गधा गाड़ी रोककर पेड़ की ताजी टहनियां खाने लगता है।'

First Published : 23 Apr 2017, 11:30:00 AM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.