News Nation Logo
Banner
Banner

पश्चिम बंगाल में 'राम' नाम पर बढ़ रहा रार, ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी ने BJP पर किया हमला

पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस और बीजेपी के बीच छिड़ा घमासान चुनाव के बाद भी जारी है. टीएमसी नेता और ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी ने बीजेपी पर हमला किया है.

News Nation Bureau | Edited By : Vineeta Mandal | Updated on: 05 Jun 2019, 10:06:27 AM

नई दिल्ली:

पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस और बीजेपी के बीच छिड़ा घमासान चुनाव के बाद भी जारी है. टीएमसी नेता और ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी ने बीजेपी पर हमला किया है. उन्होंने कहा, 'बीजेपी के 'जय श्री राम' के नारे से टीआरपी कम हो गई है और उन्होंने पार्टी को 'जय महाकाली' के नारे के साथ आने को कहा.' इसके साथ ही अभिषेक बनर्जी ने कहा, 'बीजेपी ने अपना नारा 'जय श्री राम' की जगह 'जय महाकाली' करने का फैसला किया है क्योंकि राम की टीआरपी कम हो गई है. वो (बीजेपी) धर्म को राजनीति के साथ मिला रहे हैं.'

बीजेपी नेता और पार्टी के पश्चिम बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने कहा था, 'बंगाल में हमारा नारा 'जय श्री राम' और 'जय महाकाली' होगा. बंगाल महाकाली की धरती है और हमें भगवान के आशीर्वाद की जरूरत है. बता दें कि लोकसभा चुनावों में बीजेपी ने पश्चिम बंगाल में 42 में से 18 सीटें जीती हैं.

बता दें कि पश्चिम बंगाल से सीएम ममता बनर्जी के दो वीडिया सामने आए थे जिसमें वो राम का नाम लेने वाले लोगों पर गुस्सा रही थी. साथ ही बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले में कांचरापाड़ा क्षेत्र में तृणमूल कांग्रेस की बैठक से पहले प्रदर्शन कर 'जय श्री राम' के नारे लगाने वाले बीजेपा के कार्यकर्ताओं को खदेड़ने के लिए पुलिस ने लाठी चार्ज कर दिया था. इन दोनों घटना के बाद बीजेपी ने 'Get Well Soon' के मैसेज भेजने की बात कही थी.

ये भी पढ़ें: पश्‍चिम बंगाल की सरकार शायद ही अपना कार्यकाल पूरा कर पाए, कैलाश विजयवर्गीय ने कही ये बात

वहीं ममता बनर्जी ने इस मामले पर अपने फेसबक पोस्ट के जरीए बयान जारी कर कहा था, 'जय सिया राम, जय राम जी की, राम नाम सत्य है आदि धार्मिक और सामाजिक धारणाएं हैं. हम इन भावनाओं का सम्मान करते हैं. लेकिन बीजेपी धर्म को राजनीति के साथ मिलाकर धार्मिक नारे जय श्री राम का अपने पार्टी के नारे के रूप में गलत तरीके से इस्तेमाल कर रही है." उन्होंने कहा, "हम तथाकथित आरएसएस के नाम पर दूसरों पर राजनीतिक नारों को थोपने का सम्मान नहीं करते जिसे बंगाल ने कभी स्वीकार नहीं किया. यह बर्बरता और हिंसा के माध्यम से नफरत की विचारधारा को बेचने का एक जानबूझकर किया जा रहा प्रयास है जिसका हमें विरोध करना चाहिए.'

First Published : 05 Jun 2019, 10:06:27 AM

For all the Latest States News, West Bengal News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.