जन्माष्टमी व्रत की पूजा विधि

कृष्ण जन्माष्टमी के दिन श्री कृष्ण के बाल स्वरूप की पूजा की जाती है, इसलिए झूला बनाते हैं

Photo Credit : Social Media

जन्माष्टमी व्रत की पूजा विधि

इस दिन सुबह स्नान करने के बाद सभी देवताओं को नमस्कार करके व्रत का संकल्प लें.

Photo Credit : Social Media

जन्माष्टमी व्रत की पूजा विधि

फिर मध्यान्ह के समय काले तिलों को जल में छिड़क कर देवकी जी के लिए प्रसूति गृह बनाएं.

Photo Credit : Social Media

जन्माष्टमी व्रत की पूजा विधि

अब इस सूतिका गृह में सुन्दर बिछौना बिछाकर उस पर शुभ कलश स्थापित करें.

Photo Credit : Social Media

जन्माष्टमी व्रत की पूजा विधि

इस दिन भगवान श्रीकृष्ण के साथ माता देवकी जी की मूर्ति भी स्थापित करें.

Photo Credit : Social Media

जन्माष्टमी व्रत की पूजा विधि

देवकी, वासुदेव, बलदेव, नन्द, यशोदा और लक्ष्मी जी इन सबका नाम लेते हुए विधिवत पूजन करें.

Photo Credit : Social Media

जन्माष्टमी व्रत की पूजा विधि

यह व्रत रात में बारह बजे के बाद ही खोला जाता है. इस व्रत में अनाज का उपयोग नहीं किया जाता.

Photo Credit : Social Media

जन्माष्टमी व्रत की पूजा विधि

फलहार के रूप में कुट्टू के आटे की पकौड़ी, मावे की बर्फी और सिंघाड़े के आटे का हलवे का सेवन कर सकते हैं

Photo Credit : Social Media