सूर्य नमस्कार की पहली मुद्रा

प्रणाम आसन- योग विज्ञान में इस मुद्रा का प्रयोग शरीर को रिचार्ज करने, वॉर्मअप करने और कठिन योगासनों

Photo Credit : Social Media

सूर्य नमस्कार की दूसरी मुद्रा

हस्तउत्तानासन- हस्तउत्तानासन करने से हमारा मन शांत होता है जिससे हमारी यादयाश्त तेज होती है

Photo Credit : Social Media

सूर्य नमस्कार की तीसरी मुद्रा

हस्तपाद आसन- ये आसन पीठ, हिप्स, पिंडली और टखनों को अच्छा स्ट्रेच देता है.

Photo Credit : Social Media

सूर्य नमस्कार की चौथी मुद्रा

अश्व संचालन आसन- योग विज्ञान की भाषा में अश्व संचालनासन को संतुलन आसन की श्रेणी में रखा गया है। यह श

Photo Credit : Social Media

सूर्य नमस्कार की पांचवी मुद्रा

दंडासन- इस आसन को करने से शरीर की शक्ति और क्षमता दोनों बढ़ती है. फेफड़ों की क्षमता में सुधार होता है

Photo Credit : Social Media

सूर्य नमस्कार की छठी मुद्रा

अष्टांग नमस्कार- यह आसन पीठ की स्वस्थ के लिए लाभदायक योग है. मांसपेशियों को पर्याप्त खिंचाव मिलता है

Photo Credit : Social Media

सूर्य नमस्कार की सातवीं मुद्रा

भुजंग आसन- भुजंगासन से हृदय स्वस्थ रहता है. बेडौल कमर को पतली-सुडौल व आकर्षक बनाता है

Photo Credit : Social Media

सूर्य नमस्कार की आठवीं मुद्रा

पर्वत आसन- यह आपके शरीर का कायाकल्प करता है. कमर दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है.

Photo Credit : Social Media

सूर्य नमस्कार की नौवीं मुद्रा

अश्वसंचालन आसन- इसके अभ्यास से जंघाओं और शरीर में लचीलापन आता है. यह छाती और हिप्स के लिए अच्छा है

Photo Credit : Social Media

सूर्य नमस्कार की दसवीं मुद्रा

हस्तपाद आसन- ये योगासन किडनी और लिवर को सक्रिय करता है और जांघों-घुटनों को भी मजबूत बनाता है.

Photo Credit : Social Media

सूर्य नमस्कार की ग्यारहवी मुद्

हस्तउत्थान आसन- हस्त उत्तानासन दिमाग को शांत करता है. मांसपेशियों का संकुचन और विस्तार करता है

Photo Credit : Social Media

सूर्य नमस्कार की बारहवीं मुद्र

ताड़ासन- योग को करने से लंबाई बढ़ती है. साथ ही पाचन तंत्र मजबूत होता है,रक्त संचार सही से होता है

Photo Credit : Social Media