News Nation Logo
CM Channi के गुरु नानक देव यूनिवर्सिटी पहुंचने पर अध्यापकों का ज़ोरदार प्रदर्शन अध्यापकों की मांग - 7वें पे कमीशन की सिफारिशें पंजाब हों लागू ओमिक्रोन के अलर्ट के बीच पटना में 100 विदेशियों की तलाश भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से हराकर टेस्ट मैच श्रृंखला 1-0 से जीती टीम इंडिया ने घर में लगातार 14वीं टेस्ट सीरीज जीती न्यूजीलैंड पर 372 रनों से जीत रनों के लिहाज से भारत की टेस्ट मैचों में सबसे बड़ी जीत है उत्तराखंड के चमोली में देवल ब्लॉक के ब्रह्मताल ट्रेक मार्ग पर बर्फबारी हुई रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने भारत के विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर के साथ नई दिल्ली में बैठक की बाबा साहब आंबेडकर का महापरिनिर्वाण दिवस आज. बसपा कर रही बड़ा कार्यक्रम नीट काउंसिलिंग में हो रही देरी के खिलाफ रेजिडेंट डॉक्टर्स आज ठप रखेंगे सेवा रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन आज आ रहे भारत. कई समझौतों को देंगे अंतिम रूप पंजाब के पूर्व सीएम अमरिंदर सिंह आज करेंगे अमित शाह-जेपी नड्डा से मुलाकात.

कर्ज न चुका पाने के कारण इस शख्स ने 17 वर्ष तक जंगल में काटे, जानिए क्या है पूरा सच 

मामूली कर्ज न चुका पाने के कारण कनार्टक के एक शख्स को बीते 17 वर्षों तक जंगल में बिताने पड़े. वह अपनी जर्जर हो चुकी सफेद एंबेसडर कार में जीने को मजबूर है .

News Nation Bureau | Edited By : Mohit Saxena | Updated on: 10 Oct 2021, 02:32:03 PM
Ambassador Car

चंद्रशेखर (Photo Credit: न्यूज़ नेशन)

highlights

  • वर्ष 2003 में उन्होंने एक सहकारी बैंक से 40,000 रुपये का कर्ज (एग्रीकल्चर लोन) लिया.
  • चंद्रशेखर के पास नेकराल केमराजे गांव में 1.5 एकड़ जमीन थी.
  • लोन न चुकाने पर बैंक ने उनके खेत नीलाम कर दिए.

 

नई दिल्ली:

मामूली कर्ज न चुका पाने के कारण कनार्टक के एक शख्स को बीते 17 वर्षों तक जंगल में बिताने पड़े. वह अपनी जर्जर हो चुकी सफेद एंबेसडर कार में जीने को मजबूर है। इस शख्स का नाम चंद्रशेखर गौड़ा है. इनकी उम्र 56 वर्ष है। दरअसल एक छोटे सा लोन न चुका पाने के कारण उन्होंने अपनी 1.5 एकड़ जमीन खो दी, जिसके बाद उन्हें घने जंगल के बीच अपनी कार में रहना पड़ रहा है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार चंद्रशेखर लंबे वक्त से दक्षिण कन्नड़ जिले सुलिया के पास घने जंगल में रह रहे हैं। उनसे मिलने के लिए जंगल में तीन से चार किलोमीटर तक का सफर तय करना होता है.

जंगल के बीच खड़ी है एंबेसडर कार

यहां पर उनकी एक जर्जर एंबेसडर कार खड़ी हुई है। हैरत की बात है कि इतने साल बीत जाने के बाद भी उनकी कार का रेडियो खराब नहीं हुआ। चंद्रशेखर का शरीर काफी दुर्बल हो चुका है. उनके सिर पर बहुत कम बाल हैं. काफी समय से उन्होंने अपनी दाढ़ी नहीं बनाई है। इस कारण यह काफी लंबी हो गई है। उनके पास तन को ढंकने के लिए कपड़े तक नहीं हैं. वह फटे हुए कपड़ों में जीने को मजबूर हैं. 

रिपोर्ट के अनुसार, चंद्रशेखर के पास नेकराल केमराजे गांव में 1.5 एकड़ जमीन थी. इस पर वह सुपारी की खेती करते थे. उस समय उनका जीवन काफी बेहतर चल रहा था। वर्ष 2003 में उन्होंने एक सहकारी बैंक से 40,000 रुपये का कर्ज (एग्रीकल्चर लोन) लिया. कई कोशिश के बाद भी वह उसे चुका नहीं पाया. ऐसे में बैंक ने उनके खेत नीलाम कर दिए. इस घटना ने चंद्रशेखर को अंदर से तोड़ दिया और उनकी जिंदगी ने अजीब सी करवट ली. 

बहन के परिवार से हो गया झगड़ा

बैंक ने उनकी जमीन जब्त कर ली और उनके के पास रहने को घर भी नहीं बचा. ऐसे में उन्होंने अपनी एंबेसडर कार ली और बहन के घर आ गए. मगर कुछ दिन बाद ही बहन के परिवार से उनकी अनबन शुरू हो गई. इसके बाद उन्होंने एकांत में रहने का मन बनाया.  ड्राइव कर वह दूर घने जंगल में निकल गए। यहां पर उन्होंने अपनी फेवरेट एंबेसडर कार को पार्क किया और धूप व बारिश से बचने को लेकर प्‍लास्टिक की शीट से ढक दिया.

चंद्रशेखर 17 साल से कार के अंदर एकांत में जीवन बीता रहे हैं. वह नदी में नहाते हैं और अपने चारों ओर पड़ी सूखी बेल से टोकरिया बुनकर उन्हें अदतले (Adtale) गांव की एक दुकान पर बेचते हैं, और बदले अनाज ले लेते हैं। उनकी सिर्फ एक ही तमन्ना है कि उन्हें अपनी जमीन वापस मिल जाए. इसके लिए उन्होंने अपने सभी दस्तावेजों को संभालकर रखा है.

First Published : 10 Oct 2021, 02:24:36 PM

For all the Latest Viral News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.