logo-image
लोकसभा चुनाव

बांग्लादेशियों ने भारतीय पर्यटकों को पत्थरों से बनाया निशाना, सामने आया खौफनाक वीडियो!

सोशल मीडिया पर कब क्या देखने को मिल जाए कुछ कहा नहीं जा सकता है. कई बार ऐसे वीडियो सामने आते हैं, जो लोगों को सोचने पर मजबूर कर देते हैं.

Updated on: 20 Apr 2024, 04:16 PM

नई दिल्ली:

सोशल मीडिया की दुनिया में हर दिन एक से बढ़कर एक वीडियो सामने आते हैं. कुछ वीडियो ऐसे होते हैं जो अपने आप में हैरान कर देने वाले होते हैं. आज हम आपके साथ एक ऐसा ही वीडियो शेयर करने जा रहे हैं, जिसे देखने के बाद आप चौंक जाएंगे. दरअसल, एक वीडियो सामने आया है. वीडियो को लेकर दावा किया जा रहा है कि ये वीडियो बांग्लादेश का है. बताया जा रहा है कि भारतीय पर्यटकों पर हमला किया गया है. इस हमले के पीछे बांग्लादेशी नागरिकों का हाथ है.

आखिर क्यों कर रहे हैं पत्थरबाजी

वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि यह किसी नदी के किनारे का सीन है, जहां पर्यटकों की भीड़ देखी जा सकती है. वीडियो में देखा जा सकता है कि कई लोग पथराव कर रहे हैं. एक महिला का कहना है कि बांग्लादेशी लोग पत्थर फेंक रहे हैं लेकिन हमें सुरक्षा देने के लिए यहां कोई बीएसएफ का जवान नहीं है. लोग कैमरे के सामने आकर अपनी बात भी रखते हैं. इसी दौरान एक स्थानीय व्यक्ति भी आता है, वह राजवंशी यानी स्थानीय भाषा में कहता है कि दूसरी तरफ से पत्थर फेंके जाते हैं.  

वो अपनी हरकत से मजबुर हैं

उन्हें समझाने के बाद भी वे नहीं समझते हैं, वे यहां आते हैं, हम उन्हें अपने देश में रहने के लिए कहते हैं लेकिन वे नहीं सुनते. वीडियो में आप देख सकते हैं कि सैकड़ों की संख्या में पर्यटक मौजूद हैं. वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि युवकों द्वारा पथराव किया जा रहा है. हालांकि हमारे सपास वीडियो संबंधित स्पष्ट जानकारी नहीं है. इसलिए वीडियो की पुष्टि नहीं कर सकते हैं. 

ये भी पढ़ें- इस महिला पुलिस को देख अपराधी तुरंत कर देते हैं आत्मसमर्पण, हो रहा है तेजी वीडियो वायरल!

वीडियो देख लोगों ने क्या कहा? 

इस वीडियो एक्स यूजर ने वॉयस ऑफ बंग्लादेश हिंदू ने शेयर किया है. सोशल मीडिया पर वीडियो सामने आने के बाद लोगों ने अपनी गुस्सा जाहिर की है. एक यूजर ने लिखा कि अगर वाकई में ऐसी घटना हो रही है तो बॉर्डर पुलिस को वहां पर होना चाहिए, एक यूजर ने लिखा कि पत्थर फेंकने की आदत नहीं छूट सकती है. एक यूजर ने लिखा कि आज की तारीख में बंग्लादेश बॉर्डर पर सख्त नियम की जरुरत है.