News Nation Logo
Banner

जिसके नाम पर आतंकी संगठन चल रहे हों, वो धर्मग्रंथ कैसे हो सकती है: विनोद बंसल 

Updated : 14 October 2020, 10:08 PM

सरकारी पैसे से मज़हबी शिक्षा कब तक? असम में 'मदरसा बंदी' की ज़रूरत क्यों पड़ी? कुरान की शिक्षा तो भगवद्गीता और बाइबिल क्यों नहीं? इस मुद्दे पर VHP प्रवक्ता विनोद बंसल ने कहा, ये सेक्युलिरिज्म का चोला ओढ़कर कम्युनिलिज्म बैठे हैं, जो अपनी बात आते ही पीछे हट जाते हैं. देश के 8 ऐसे राज्य हैं जिन पर इन्हें अल्पसंख्यक का दर्जा तो मिला है लेकिन वो वहां पर बहुसंख्यक हैं. गीता और महाभारत की तुलना आप कुरान से नहीं कर सकते हैं, ये बिलकुल अतार्किक बात है. गीता और कुरान में कहीं भी हिन्दू-मुस्लिम का जिक्र नहीं है. उसमें धर्म और ज्ञान की बातें हैं, लेकिन कुरान में तो लिखा है कि अगर आप मुसलमान नहीं हैं तो आपका कत्ल कर दिया जाना चाहिए. जिस ग्रंथ के नाम पर आतंकी संगठन चलाए जा रहे हो वो धर्मग्रंथ कैसे हो सकती है. मुहम्मद साहब के नाम पर आतंकी संगठन किसने चलाया, ये आपने बताया कभी. कुरान के नाम पर दुनिया भर में जो हत्यायें हो रहीं हैं उसका जिम्मेदार कौन है.

#WhyFundingMadarsa #DeshKiBahas

वीडियो