News Nation Logo

चीन को जवाब देने के लिए भारत अरुणाचल प्रदेश को रेल नेटवर्क से जोड़ेगा

चीन से लगी अरुणाचल प्रदेश की सीमा और सीमा पार हो रही गतिविधियों को ध्यान में रखते हुए भारत ने इस ओर अब ध्यान देने का मन बना लिया है। भारत अब सीमा सुरक्षा के लिए एक विशेष कदम उठाने जा रहा है।

News Nation Bureau | Edited By : Sankalp Thakur | Updated on: 05 Feb 2017, 07:33:33 PM
भारत अरुणाचल प्रदेश को रेल नेटवर्क से जुड़ेगा

भारत अरुणाचल प्रदेश को रेल नेटवर्क से जुड़ेगा

नई दिल्ली:

चीन से लगी अरुणाचल प्रदेश की सीमा और सीमा पार हो रही गतिविधियों को ध्यान में रखते हुए भारत ने इस ओर अब ध्यान देने का मन बना लिया है। भारत अब सीमा सुरक्षा के लिए एक विशेष कदम उठाने जा रहा है। लोगों की सहुलियत को देखते हुए भारत अब रेल नेटवर्क बिछाने पर काम कर रहा है। इसके लिए सरकार ने तवांग तक रेल नेटवर्क तैयार करने का ब्‍लू प्रिंट तैयार किया है।

इसके मद्देनज़र सर्वे का काम भी जल्‍द ही शुरू कर दिया जाएगा। शुरुआती चरण में यहां पर तीन ट्रैक तैयार करने की योजना है। रेल मंत्रालय के मुताबिक इस बड़े और अहम प्रोजेक्‍ट पर करीब 50 से 70 हजार करोड़ रुपये तक की लागत अनुमानित लागत आएगी।

और पढ़ें:33 विधायकों के पार्टी बदलने के बाद अरुणाचल में खिला कमल, बीजेपी शासन वाला 10वां राज्य बना

केंद्रीय रेल राज्य मंत्री राजन गोहेन ने इस मामले को लेकर बताया कि रक्षा मंत्रालय के साथ मिलकर हम सीमा तक रेल नेटवर्क के विस्तार की तैयार कर रहे हैं। नॉर्थ ईस्ट फ्रंटियर रेलवे के जनरल मैनेजर  एचके जग्गी ने कहा कि ट्रैक की ऊंचाई 500 से 9000 फीट तक की होगी।

रेलवे इस परियोजना के जरिए पूरे अरुणाचल प्रदेश को ही रेल नेटवर्क से जोड़ने की तैयारी में है। 1 फरवरी को पेश किए गए आम बजट में भी अरुण जेटली ने इसका ज़िक्र किया था। अब  डूमडूमा से सिमालगुड़ी, नामसाइ औक चौउखाम होते हुए वाकरो (96 किमी), डांगरी से रोइंग (60 किमी), लेखापानी से नामपोंग (75 किमी) लाइनों का सर्वे किया जाएगा।

और पढ़ें:अरुणाचल प्रदेश में गहराया राजनीतिक संकट, पीपीए के 33 विधायकों ने बीजेपी का दामन थामा

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

First Published : 05 Feb 2017, 06:32:00 PM

Related Tags:

ARUNACHAL PRADESH CHINA INDIA