logo-image

EPFO से घर बनाने के लिए भी मिलते हैं पैसे, जानें क्या है पात्रता

EPFO Advance for House Construction: शायद ही आपको पता हो कि ईपीएफओ से घर बनाने के लिए पैसा मिलता है. यदि नहीं तो ये खबर आपके काम की हो सकती है.

Updated on: 01 May 2024, 12:38 PM

highlights

  • धनराशि आपके प्रतिमाह कंट्रीब्यूट के आधार पर होती है काउंट
  • कुछ शर्तों के आधार पर दिया जाता है पैसा, अकाउंट निल होने पर नहीं  होती मदद
  • कुल खर्च का 70 फीसदी तक पैसा मिलने का प्रावधान

नई दिल्ली :

EPFO Advance for House Construction:  शायद ही आपको पता हो कि ईपीएफओ से घर बनाने के लिए पैसा मिलता है. यदि नहीं तो ये खबर आपके काम की हो सकती है. क्योंकि ईपीएफओ (EPFO) घर बनाने के लिए सब्सक्राइबर्स को पैसे मुहैया कराता. लेकिन इसके लिए निवेशक को कुछ शर्त पूरा करना होता है. स्कीम की खास बात ये है कि ये पैसा आपको तब भी मिल सकता है जब आपके खाते में कम बैलेंस हो.  लेकिन खाता एक्टीव होना बहुत जरूरी है. यानि प्रतिमाह उसमें कंट्रब्यूशन जरूरी है. अन्यथा आप स्कीम के लिए अपात्र माने जाएंगे. इसलिए घर रिनोवेट कराने के लिए तभी आवेदन करें, तब आपका खाता एक्टीव मोड़ में हो... 

यह भी पढे़ं : 1st May : 1 May से बैंक की कई सर्विस हुई महंगी, एटीएम, चेक बुक सहित लेन-देन पर बढ़ा शुल्क

ये शर्त करनी होंगी पूरी
ईपीएफओ से घर बनाने या रिनोवेट कराने के लिए सिर्फ उन लोगों को पैसा दिया जाता है जिनके पास जमीन पहले से उपलब्ध हो.. साथ ही अप्लाइ करने वाला सदस्य पिछले पांच सालों से ईपीएफओ का खाता धारक हो और निरंतर कंट्रीब्यूट कर रहा हो. इसके बाद यदि आपने एडवांस कई बार निकाला है तो भी आपको घर बनाने के लिए पैसे की मदद हो जाएगी. भले ही आपके ईपीएफओ अकाउंट में सिर्फ 1000 रुपए ही जमा हो. याद रहे अकाउंट यदि निल है तो आप घर बनाने के लिए एडवांस के लिए आवेदन नहीं कर सकते हैं. इसलिए खाते में मिनिमम 1000 रुपए होना जरूरी है... 

कितना मिलता है पैसा
आपको बता दें कि यदि आप घर बनाने के लिए ईपीएफओ से मदद चाहते हैं तो कई तरह के वेरिफिकेशन से आपको गुजरना होगा. जैसे ईपीएफओ देखता है कि आपकी प्रतिमाह सैलरी कितनी है.  साथ ही आप कितनी बार एडवांस निकाल चुके हैं. साथ ही खाते में कुल कितना पैसा जमा है. ईपीएफओ से आपसे वैलिड खर्च का ब्यौरा भी मांगता है. जिसके बाद कुल खर्च के 70 फीसदी तक पैसा ईपीएफओ आपको दे सकता है.  आपके खाते के हिसाब से आपको कितने प्रतिशत पैसा मिलना है ये तय किया जाता है...