logo-image
लोकसभा चुनाव

Alert:दिल्ली में बंद हुई पेट्रोल-डीजल गाड़ियों की Entry, केवल ये गाड़ियां ही कर पाएंगी प्रवेश

सावधान! दिल्ली सरकार ने राजधानी में पेट्रोल-डीजल की कॅामर्शीयल गाड़ियों पर पूरी तरह से रोक लगा दी है. बताया जा रहा है कि दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए ये फैसला सरकार ने लिया है.

Updated on: 26 Nov 2021, 04:26 PM

highlights

  • दिल्ली सरकार ने लगाया पेट्रोल-डीजल गाड़ियों की Entry पर रोक 
  • एनजीटी पहले ही कर चुका है बढ़ते पॅाल्यूशन को लेकर अलर्ट
  • सरकार ने सरकारी कर्मचारियों से पब्लिक ट्रांस्पोर्ट यूज करने की अपील की 
     

नई दिल्ली :

सावधान! दिल्ली सरकार ने राजधानी में पेट्रोल-डीजल की कॅामर्शीयल गाड़ियों पर पूरी तरह से रोक लगा दी है. बताया जा रहा है कि दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए ये फैसला सरकार ने लिया है. रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली में वायु प्रदूषण में बहुत ज्यादा सुधार नहीं हो रहा है. एनजीटी पहले ही सरकार को आगा कर चुका है कि किसी अनहोनी से निपटने के लिए सरकार को तैयार रहने की जरुरत है. बताया गया कि वायु गणवत्ता सूचकांक 'बहुत खराब' श्रेणी में 383 है. साथ ही एक्यूआई 400 के पार पहुंच गई है. हालाकि आज थोड़ी बहुत राहत भरी खबर है. 

यह भी पढें :Post Office की ये स्कीम कर देगी आपको मालामाल, जानें डिटेल्स

दिल्ली सरकार ने सरकारी कर्मचारियों से भी पब्लिक ट्रांस्पोर्ट यूज करने की अपील की है. बताया जा रहा है कि यदि स्तिथि नहीं सुधरी तो सभी पेट्रोल-डीजल गाड़ियों पर रोक लगा दी जाएगी. परिवहन मंत्री गोपाल राय ने कहा कि दिल्ली में केवल सीएनजी व इलेक्ट्रिक वाहनों की ऐंट्री पर ही छूट दी जाएगी. उन्होने कहा कि हमने हाल ही में निजी सीएनजी बसों को किराए पर लिया है. हमने सरकारी आवासीय कॉलोनियों जैसे गुलाबी बाग और निमरी कॉलोनी के कर्मचारियों को लाने के लिए उनका इस्तेमाल करने का फैसला किया है." सरकार अपने कर्मचारियों के लिए दिल्ली सचिवालय से आईटीओ और इंद्रप्रस्थ मेट्रो स्टेशनों के लिए शटल बस सेवा भी शुरू करेगी.

स्कूलों को खोलने का फैसला 
पिछले दो सप्ताह से दिल्ली के स्कूल प्रदूषण के चलते बंद कर दिये गये थे. जिन्हे अब 29 नवंबर तक खोलने का फैलला लिया है. आपको बता दें कि दिल्ली सरकार ने 13 नवंबर को स्कूल-कॉलेज को बंद करने के साथ-साथ सरकारी दफ्तरों के कर्मचारियों या अधिकारियों को घर से काम करने का आदेश दिया गया था. वहीं मजदूरों की समस्या को देखते हुए सरकार ने बाद में कंस्ट्रक्शन के काम की अनुमति दे दी थी.