News Nation Logo

Alert: जरा संभलकर करें क्यूआर कोड स्कैन, अकाउंट हो रहे खाली

News Nation Bureau | Edited By : Sunder Singh | Updated on: 18 Nov 2022, 09:40:47 PM
qr coad photo

सांकेतिक तस्वीर (Photo Credit: News Nation)

highlights

  • SBI भी कर चुका है क्यूआर कोड स्कैनिंग को लेकर अलर्ट
  • साइबर सेल में भी पहुंच रही क्यूआर कोड से जु़ड़ी शिकायतें

नई दिल्ली :  

Qr Code Scanning: आजकल ज्यदातर लोगों ने पॅाकेट में पैसा रखना बंद कर दिया है. क्योंकि केले बेचने वाले से लेकर कार बेचने वाले तक सभी के पास क्यूआर कोड (Qr Code)लगा होता है. जिसे स्कैन करके आप पैमेंट कर देते हैं. लेकिन क्यूआर कोड भी जरा संभलकर ही स्कैन करें. क्योंकि साइबर सेल (cyber cell)में रोजाना दर्जनों ऐसी शिकायतें पहुंच रही हैं. जिनमें क्यूआर कोड की वजह से लोगों को लाखों रुपए तक का चूना लग चुका है. इसी साल भारत का सबसे बड़ा बैंक एसबीआई भी इसको लेकर अलर्ट जारी कर चुका है. आइये जानते हैं कैसे चूना लगाते हैं  डिजटली ठग.

यह भी पढ़ें : PM Kisan yojna: 30 नवंबर तक इन किसानों के खाते में क्रेडिट होंगे 2000 रुपए, सरकार ने बताई वजह

एसबीआई के मुताबिक किसी भी अनजान क्यूआर  कोड पर स्कैन न करें , अन्यथा आपको चूना लग सकता है. इसलिए छोटे-छोटे सामान को खरीदने के लिए क्यूआर का इस्तेमाल न करें. हो सकता है आप तब तक घऱ पहुंचें. आपकी मेहनत की कमाई खाली हो जाए. नोएडा साइबर सेल पर आए शिकायतकर्ता रजनीश बताते हैं कि उन्होने दिल्ली में एक रेवडी-गजक बेचने वाले को क्यूआर कोड से पैसे दिये थे. लेकिन घर आया तो खाते से 13 हजार रुपए गायब हो गए. यही नहीं क्यूआर कोड से जुड़ी कई अन्य शिकायतें भी साइबर सेल में पहुंच रही हैं.

ऐसे लगाते हैं चूना 
एक्सपर्ट के मुताबिक क्यूआर कोड को स्कैन करने से पहले सोचें. यदि आपको व्हाट्सप पर क्यूआर कोड स्कैन करने के बदले पैसे देने या प्रलोभन का मैसेज आता है तो उसे खोलना भी मुश्किल में डाल सकता है. इसलिए अज्ञात, असत्यापित क्यूआर कोड को स्कैन न करें. खासकर ऐसे मैसेज पर बिल्कुल भी भरोसा न करें. जिन्हें स्कैन करने पर मोबाइल फोन या अन्य किसी गिफ्ट का प्रलोभन दिया गया हो.  ज्यादा जानकारी के लिए आप निकटवर्ती बैंक में जाकर भी संपर्क कर सकते हैं.

First Published : 18 Nov 2022, 09:40:47 PM

For all the Latest Utilities News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.