News Nation Logo
Banner

भारतीय तटरक्षक बल ने चक्रवात सितरंग में 20 बांग्लादेशीओं की जान बचाई

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 26 Oct 2022, 04:39:03 PM
Co-ordinated SAR

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

कोलकाता:  

भारतीय तटरक्षक बल (आईसीजी) ने चक्रवात सितरंग के मद्देनजर बंगाल की खाड़ी में 20 बांग्लादेशी मछुआरों की जान बचाई, जिसने पड़ोसी देश में कम से कम 35 लोगों की जान ले ली और करोड़ों की संपत्ति को नष्ट कर दिया. आईसीजी के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, भारत और बांग्लादेश के बीच अंतर्राष्ट्रीय समुद्री सीमा रेखा (आईएमबीएल) के पास मंगलवार को डोर्नियर ने मछुआरों को देखा.

यह सागर द्वीप से लगभग 90 समुद्री मील (लगभग 167 किमी) की दूरी पर था. इस तरह की सेनिटाइसेशन उड़ानें यह जांचने के लिए शुरू की जाती हैं कि क्या चक्रवात के बाद कोई नाविक या मछुआरे संकट में हैं. मछुआरे पानी में तैर रहे थे और नावों के उलट जाने से मलबे में फंस गए थे.

अधिकारी ने कहा, हमारे डोर्नियर ने तुरंत उनके पास एक लाइफ राफ्ट गिरा दिया और सुनिश्चित किया कि सभी उस पर चढ़ गए थे और फिर उस इलाके के एक व्यापारी जहाज एमवी नंता भुम को उन्हें लेने का निर्देश दिया. एमवी नंता भुम मलेशिया के पोर्ट क्लैंग से कोलकाता बंदरगाह की ओर जा रहा था. आईसीजी डोर्नियर्स ने फिर यह सुनिश्चित करने के लिए दो और उड़ानें भरीं कि सहायता की आवश्यकता वाले लोग नहीं हैं.

खोज और बचाव कार्यो में सहायता के लिए आईसीजी जहाजों विजया, वरद और सी-426 को भी क्षेत्र की ओर मोड़ दिया गया. बाद में 20 बांग्लादेशियों को आईसीजीएस विजया ने अपने कब्जे में ले लिया. जहाज पर उनका चिकित्सकीय परीक्षण किया गया और उन्हें भोजन और पानी उपलब्ध कराया गया. बांग्लादेशी अधिकारियों को भी सूचित कर दिया गया है और मछुआरों को इसके और आईसीजी के बीच एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) के अनुसार बांग्लादेश तटरक्षक बल को सौंप दिया जाएगा.

First Published : 26 Oct 2022, 04:39:03 PM

For all the Latest States News, West Bengal News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.