News Nation Logo
Breaking

CAA: बीजेपी सांसद स्वप्न दास गुप्ता को बनाया था बंधक, तीन सदस्यीय कमेटी करेगी जांच

नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में पश्चिम बंगाल में हुई हिंसा के दौरान बीजेपी सांसद स्वप्न दास गुप्ता को विश्व भारती स्कूल में छात्रों के विरोध का सामना करना पड़ा था. अब इस मामले की जांच के लिए तीन सदस्यीय समिति बनाई गई है.

News Nation Bureau | Edited By : Kuldeep Singh | Updated on: 17 Jan 2020, 01:48:54 PM
बीजेपी सांसद स्वप्न दास गुप्ता

बीजेपी सांसद स्वप्न दास गुप्ता (Photo Credit: फाइल फोटो)

कोलकाता:  

पश्चिम बंगाल में नागरिकता कानून के खिलाफ हुए प्रदर्शन में विश्वभारती यूनिवर्सिटी में एक कार्यक्रम के दौरान बीजेपी सांसद स्वप्न दास गुप्ता को छात्रों ने बंधक बना लिया था. भीड़ ने उन्हें एक कमरे में बंद कर दिया. अब इस मामले की जांच के लिए विश्व भारती यूनिवर्सिटी ने तीन सदस्यीय कमेटी बनाई है. कमेटी एक महीने में अपनी रिपोर्ट देगी. इसके साथ ही कमेटी 15 जनवरी को छात्रों के दो गुटों के बीच हुई झड़प मामले की भी जांच करेगी.

बीजेपी सांसद को 8 जनवरी को विश्वविद्यालय के सामाजिक कार्य विभाग में नागरिकता संशोधन कानून पर लेक्चर देने के लिए आमंत्रित किया गया था, लेकिन जिस स्थान पर कार्यक्रम हो रहा था, उसके बाहर छात्रों के एक समूह ने बीजेपी सांसद की उपस्थिति के खिलाफ नारे लगाते हुए प्रदर्शन शुरू कर दिया. भीड़ ने सांसद को कमरे में बंद कर दिया.

यह भी पढ़ेंः पाकिस्तान को मुंहतोड़ जबाव देगा ये खतरनाक मिसाइल डिफेंस सिस्टम, जानें इसकी 7 खासियतें

इस घटना के बाद स्वपन दासगुप्ता ने ट्वीट किया कि सीएए पर एक शांतिपूर्ण बैठक में भीड़ का हमला करना कैसा लगता है? यह तब हुआ जब मैं विश्वभारती यूनिवर्सिटी में संबोधित कर रहा था. मुझे कमरे में बंद कर दिया गया.

राज्यसभा सांसद स्वपन दासगुप्ता सीएए-2019- अंडरस्टैंडिंग और इंटरप्रिटेशन कार्यक्रम में शामिल होने विश्वभारती यूनिवर्सिटी गए थे. लिपिका ऑडिटोरियम में उनका लेक्चर प्रस्तावित था. यह कार्यक्रम शाम 3 बजकर 30 मिनट पर होना था. उन्हें विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर विद्युत चक्रवर्ती सम्मानित करने वाले थे. जैसे ही बीजेपी सांसद कैंपस पहुंचे, छात्र उनके खिलाफ प्रदर्शन करने लगे.

First Published : 17 Jan 2020, 01:48:54 PM

For all the Latest States News, West Bengal News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.