News Nation Logo
Banner

VIDEO: ऋषिकेश-बद्रीनाथ हाईवे पर लैंडस्लाइड, देख कांप जाएगी रूह

उत्तराखंड में टिहरी टिहरी गढ़वाल में लैंडस्लाइड की घटना सामने आई है. यह घटना ऋषिकेश-बद्रीनाथ राजमार्ग पर हुई है. रविवार सुबह भूस्खलन हुआ है. राहत की बात ये है कि किसी के हताहत होने की खबर नहीं है.

News Nation Bureau | Edited By : Sushil Kumar | Updated on: 23 Aug 2020, 04:31:24 PM
landslide

ऋषिकेश-बद्रीनाथ हाईवे पर लैंडस्लाइड (Photo Credit: ट्विटर ANI)

टिहरी गढ़वाल:

उत्तराखंड में टिहरी टिहरी गढ़वाल में लैंडस्लाइड की घटना सामने आई है. यह घटना ऋषिकेश-बद्रीनाथ राजमार्ग पर हुई है. रविवार सुबह भूस्खलन हुआ है. राहत की बात ये है कि किसी के हताहत होने की खबर नहीं है. हाईवे पर गाड़ियों की रफ्तार बनी हुई थी. धड़ल्ले से लोग इधर से उधर जा रहे थे. इसी बीच अचानक लैंडस्लाइड हो गया. गनीमत रही कि किसी की कोई हताहत नहीं हुई. लैंडस्लाइड इतनी भीषण हुई कि टूटा हुआ पहाड़ तास की तरह बिखर गया. हाईवे पर आवाजाही रोक दी गई है. मलबे को हटाने का काम चल रहा है. हाईवे पर गाड़ियों का चक्का जाम हो गया. लोगों को जाम के चलते काफी परेशानी का सामना करना पड़ा. 

यह भी पढ़ें -कांग्रेस नेताओं ने उठाए नेतृत्व पर सवाल, कहा- कोई फैसला नहीं ले पा रहे

केरल भूस्खलन में 48 लोगों की हुई थी मौत

वहीं इससे पहले केरल (Kerala) के इडुक्की जिले में आज 5 और लोगों से शवों को मलबे से निकाला गया, जिससे भूस्खलन से मरने वालों की संख्या बढ़कर अब 48 हो गई. केरल सरकार की ओर से यह जानकारी दी गई थी. इसके अलावा अभी भी कई लोगों के भूस्खलन के मलबे में दबे होने की आशंका. इडुक्की में राजमाला के पास भूस्खलन (landslide) में चाय बगान कर्मियों के मकान बह जाने के 3 दिन बाद भी विभिन्न एजेंसियों बचाव अभियान में शामिल थे. इससे पहले रविवार को 17 लोगों के शव बरामद किए गए थे. बता दें कि केरल के इडुक्की जिले में शुक्रवार को भीषण भूस्खलन हुआ था.

यह भी पढ़ें -राहुल गांधी सरकार से बोले- NEET और JEE परीक्षाओं को लेकर छात्रों की चिंताओं पर करें विचार 

मलबे में दबे अपने परिजनों को ढूंढ रहे हैं लोग

केरल में हो रही भारी बारिश के कारण भूस्खलन और मिट्टी सरकने से होने वाली मौतों के बीच मलबे में दबे अपने परिजनों को बाहर निकालने के लिये लोग बचाव और राहत कर्मियों से गुहार लगा रहे हैं. शुक्रवार को यहां हुए भूस्खलन के बाद 70 वर्षीय एक महिला के परिजनों का कोई अता-पता नहीं है.. एक-एक दिन बीतने के साथ ही करुपई अपने परिवार वालों से मिलने की उम्मीद खोती जा रही हैं. बचाव कर्मी जैसे ही कोई शव बाहर निकालते हैं वह दौड़ कर उसके पास यह सोचकर जाती हैं कि कहीं वह उनके किसी अपने का न हो.

First Published : 23 Aug 2020, 04:11:33 PM

For all the Latest States News, Uttarakhand News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो