News Nation Logo
Banner

आम आदमी पार्टी ने चारधाम यात्रा जल्द शुरू करने की मांग की

आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता नवीन पिरशाली ने मंगलवार को प्रदेश कार्यालय में एक प्रेसवार्ता को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने बीजेपी सरकार पर चार धाम यात्रा शुरू करने के प्रति उदासीन नजरिए को लेकर सवाल उठाया.

News Nation Bureau | Edited By : Vijay Shankar | Updated on: 06 Sep 2021, 06:14:57 PM
download

Aam Aadmi party (Photo Credit: News Nation)

highlights

चार धाम यात्रा सुचारु करने के साथ देवस्थानम बोर्ड भंग करे राज्य सरकार
आप प्रदेश प्रवक्ता ने सरकार के खिलाफ आंदोलन करने की चेतावनी
करोंडों का राजस्व नुकसान के लिए राज्य सरकार जिम्मेदार

देहरादून:

आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता नवीन पिरशाली ने मंगलवार को प्रदेश कार्यालय में एक प्रेसवार्ता को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने बीजेपी सरकार पर चार धाम यात्रा शुरू करने के प्रति उदासीन नजरिए को लेकर सवाल उठाया. उन्होंने प्रदेश में बंद पडी चारधाम यात्रा को लेकर प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि ये सरकार जनविरोधी सरकार है, जिसे जनता की तकलीफों से कोई सरोकार नहीं है. उन्होंने कहा कि, उत्तराखंड में बंद पड़ी चारधाम यात्रा ने प्रदेश की आर्थिक रूप से तोड़ कर रख दिया है. आर्थिक रूप से चारधाम यात्रा प्रदेश और हजारों लोगों महत्वपूर्ण है. जिसका अनुमानित कारोबार तकरीबन 12 हजार करोड़ रुपये है, लेकिन यात्रा बंद होने से लोगों के  साथ राज्य को भी भारी आर्थिक नुकसान उठाना पड रहा है. उन्होंने कहा कि, एक ओर बीजेपी पूरे प्रदेश में धूमधाम से जन आशीर्वाद यात्रा निकाल रही है, लेकिन दूसरी ओर उसने अभी तक चारधाम यात्रा पर कोई फैसला नहीं लिया है. इनके जन आशीर्वाद यात्रा के लिए कोई प्रतिबंध नहीं, कांग्रेस के परिवर्तन यात्रा के लिए भी कोई प्रतिबंध नहीं है. उन्होंने कहा, चार धाम यात्रा पिछले साल से नहीं खुलने पर हजारों लोगों के सामने रोजी रोटी का संकट पैदा हो गया है. चारधाम यात्रा उत्तराखंड की अर्थव्यवस्था की मजबूत रीढ़ है, प्रदेश  की कुल जीडीपी में पर्यटन क्षेत्र का योगदान 25 प्रतिशत से अधिक है और इसमें सबसे बड़ा योगदान चारधाम यात्रा का है. उत्तराखंड के 6 जिलों की आर्थिकी चारधाम यात्रा पर बहुत हद तक निर्भर है. इन जिलों में हरिद्वार, टिहरी, उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग, चमोली और पौड़ी जिले का कुछ क्षेत्र शामिल है. उन्होंने आगे कहा कि, ऐसा नहीं कि चारधाम यात्रा से सिर्फ गढ़वाल के क्षेत्रों में ही इसका असर पडता है, बल्कि, कुमाऊं मंडल की सीमा से भी बड़ी संख्या में लोग चारधाम यात्रा पर आते हैं, लिहाजा वहां के कारोबार पर भी इसका बड़ा प्रभाव पड़ता है.

यह भी पढ़ें : Chamoli में चारधाम यात्रा शुरु करने की मांग तेज


उन्होंने कहा, चारधाम यात्रा से जुडे ऐसे सैकड़ों कारोबार हैं, जिनके माध्यम से कई परिवारों की रोजी रोटी चलती है, लेकिन यात्रा सुचारु ना होने से इन परिवारों के सामने रोजगार से लेकर रोजी रोटी का संकट पैदा हो गया है.  उत्तराखंड के दस लाख से ज्यादा लोगों का रोजगार सीधे-सीधे चारधाम यात्रा से जुड़ा है। इनमें होटल, लॉज, ढाबा, दुकान, बस , टैक्सी चालक, टूर एंड ट्रैवल्स से जुड़े लोग, कंड़ी, पालकी, घोड़ा- खच्चर और चारों धामों में छोटी-बड़ी दुकानें चलाने वाले, फूला माला बेचने वाले, पूजा सामाग्री बेचने वाले, फोटोग्राफर, स्थानीय गाइड और पोर्टर जैसे तमाम लोग शामिल हैं. इनके अलावा बड़ी संख्या में पंडा समाज भी हैं, जिसका रोजगार भी पूरी तरह चारधाम यात्रा पर निर्भर है. यात्रा ना खुलने से सीधे सीधे इन तमाम लोगों पर इसका असर पड़ रहा है, लेकिन बीजेपी को सिर्फ अपनी जनआशीर्वाद यात्रा से मतलब है. उन्होंने कहा सरकार ने चार धाम यात्रा से जुड़े लोगों को आर्थिक सहायता की बात की थी लेकिन अभी तक सरकार की तरफ से कोई आर्थिक सहायता चार धाम से जुड़े लोगों को नहीं मिल पाई जो सीधे तौर पर कोराना में बेरोजगार लोगों के साथ खिलवाड़ है. उन्होंने आकंडे बताते हुए कहा कि होटल, लॉज, धर्मशाला, रेस्टोरेंट, ढाबे ,टूर एंड ट्रैवल  सेवा, बस, टैक्सी, कार के कारोबार से 5 लाख लोग सीधे जुड़े हैं, जबकि 10 हजार लोग घोड़ा- खच्चर और पालकी कारोबार से जुड़े हैं और 50 से ज्यादा हेली कंपनियां हैं जिसमें सैकडों स्थानीय युवकों को रोजगार मिला हुआ है. 

उन्होंने कहा कि एक ओर चारधाम यात्रा बंद पड़ी है, राज्य और यात्रा से जुडे लोगों को करोड़ों रुपयों का नुकसान हो रहा है तो दूसरी ओर सरकार ने देवस्थानम बोर्ड भंग ना करके पंडा समाज और हक हकूक धारियों के साथ खिलवाड़ करने का काम किया है. हक हकूक धारी काफी समय से देवस्थानम बोर्ड भंग करने की मांग कर रहे हैं, लेकिन सरकार ने इस पर अभी तक कोई भी फैसला नहीं लिया है. उन्होंने कहा कि, पूरा पंडा समाज इस बोर्ड के खिलाफ है और आप पार्टी पंडा समाज और हक हकूक धारियों का पूर्ण समर्थन करते हुए इस बोर्ड का विरोध करती है और ये मांग करती है कि इस बोर्ड को सरकार तुंरत भंग करे. उन्होंने कहा आप की सरकार आते ही पहली कलम से देवस्थानम बोर्ड को भंग किया जाएगा.

उन्होंने कहा कि जब बीजेपी चुनावी रैली हो सकती है तो आखिर चारधाम यात्रा क्यों नहीं हो सकती है. चारधाम यात्रा करोड़ों हिंदुओं की आस्था का प्रतीक है जिसे शुरू ना करते हुए सरकार करोड़ों हिंदुओं की आस्था से खिलवाड़ कर रही है. उन्होंने कहा कि जनता बीजेपी को कभी माफ नहीं करेगी और जनता की उम्मीदें तोड़ने के लिए  बीजेपी को अब प्रायश्चित यात्रा निकालनी पड़ेगी. उन्होंने कहा, ये सरकार संस्कृति और धर्म विरोधी सरकार है, जो धर्म को भी कानूनी शिंकजे में कैद करना चाहती है, लेकिन आप पार्टी ऐसा हरगिज नहीं होने देगी. अगर सरकार ने जल्द ही चारधाम यात्रा शुरु नहीं की और देवस्थानम बोर्ड भंग नहीं किया तो आप पार्टी प्रदेश में बडा  आंदोलन चलाएगी. 

First Published : 06 Sep 2021, 06:05:27 PM

For all the Latest States News, Uttarakhand News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.