News Nation Logo
Banner

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने UP की जनता से किया वादा, कहा- हर जिले में खुलेगा मेडिकल कॉलेज

कांग्रेस सदस्य ने प्रश्न उठाते हुए आरोप लगाया था कि बांदा मेडिकल कॉलेज में असाध्य रोगों, हृदय संबंधी दिक्कतों और हेड-इंजुरी के मरीजों के इलाज के लिए सुविधाएं उपलब्ध नहीं हैं.

News Nation Bureau | Edited By : Sushil Kumar | Updated on: 26 Feb 2020, 09:09:01 AM
योगी आदित्यनाथ

योगी आदित्यनाथ (Photo Credit: न्यूज स्टेट)

लखनऊ:

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने कहा कि प्रदेश में नए मेडिकल कॉलेजों को खोलने के साथ उनमें शिक्षकों की कमी दूर करने के लिए तेजी से प्रयास कर रही है. प्रदेश के हर जिले में एक मेडिकल कॉलेज खोलने का प्रयास किया जा रहा है. योगी ने परिषद में कांग्रेस सदस्य नसीमुद्दीन सिद्दीकी द्वारा बांदा मेडिकल कॉलेज (Banda medical College) में उपलब्ध सुविधाओं से जुड़े एक सवाल के जवाब में कही. कांग्रेस सदस्य ने प्रश्न उठाते हुए आरोप लगाया था कि बांदा मेडिकल कॉलेज में असाध्य रोगों, हृदय संबंधी दिक्कतों और हेड-इंजुरी के मरीजों के इलाज के लिए सुविधाएं उपलब्ध नहीं हैं.

यह भी पढ़ें- बालाकोट में एयर स्‍ट्राइक के बाद देश में नहीं हुआ कोई बड़ा आतंकी हमला: बीएस धनोवा

बांदा मेडिकल कॉलेज में विशेषज्ञों और तकनीशियनों मौजूद नहीं

सिद्दीकी ने कहा कि बांदा मेडिकल कॉलेज में विशेषज्ञों और तकनीशियनों मौजूद नहीं है. उनके सवाल पर चिकित्सा शिक्षा राज्यमंत्री संदीप सिंह ने कहा कि संविदा पर भर्ती के साथ 694 पदों पर नियुक्ति के लिए प्रस्ताव उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग के पास भेजा जा चुका है और कुछ मामलों में इश्तेहार भी जारी किए गए थे. उन्होंने सदन को बताया कि कुछ पदों पर इंटरव्यू करके उनमे आगे की कार्यवाही की जा रही है. जब कांग्रेस सदस्य ने दोबारा कहा कि बांदा मेडिकल कॉलेज में एक्स-रे और अल्ट्रासाउंड मशीनें रेडियोलॉजिस्ट उपलब्ध न होने के कारण नहीं चल रही हैं, तब मुख्यमंत्री में कमान संभाली.

यह भी पढ़ें- उत्तर प्रदेश : मनचलों को सबक सिखाएगा मिर्ची बुलेट उगलने वाला झुमका

बांदा मेडिकल कॉलेज में मेडिसिन विभाग काम कर रहा है

योगी ने कहा कि बांदा मेडिकल कॉलेज में मेडिसिन विभाग काम कर रहा है, ईसीजी और ट्रेडमिल टेस्ट की मशीनें भी चल रही हैं. वहां हृदय संबंधी रोगों की प्रारंभिक जांच भी की जा रही है. उन्होंने कहा कि फैकल्टी की कमी है, लेकिन उसको दूर करने के लिए मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया से परमिशन ली गई है कि कैसे प्रांतीय चिकित्सा सेवा के डॉक्टरों को उनकी डिग्री और अनुभव के साथ मेडिकल कॉलेजों में रखा जाए. इस पर भी विचार किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि एमसीआई ने भी इस संबंध में कुछ नए दिशा निर्देश जारी किए हैं.

यह भी पढ़ें- EPFO ने पेंशन से जुड़े इस नियम में दी बड़ी छूट, 6.3 लाख पेंशनर्स को होगा फायदा

लोक सेवा आयोग नई भर्तियां करने की दिशा में तेजी से आगे बढ़ रहा है

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में पहली बार मेडिकल कॉलेजों से पढ़ाई करके निकलने वाले छात्रों से बांड भराया जाएगा, जिसके तहत उनको ग्रामीण इलाकों में भी अपनी सेवाएं देनी होंगी. जिन भी उपकरणों और विशेषज्ञों की जरूरत होगी, उसका इंतजाम सरकार कर रही है. उन्होंने कहा कि तकनीशियनों की कमी है, लेकिन उसको दो-तीन साल में पूरा नहीं किया जा सकता. पिछले 25-30 सालों में भर्तियां नहीं हुईं, इसी कारण से दिक्कत हो रही है. उन्होंने कहा कि लोक सेवा आयोग नई भर्तियां करने की दिशा में तेजी से आगे बढ़ रहा है.

यह भी पढ़ें- Delhi Violence Live Updates: दिल्ली में जारी दहशत का खेल, अब तक 17 लोगों की मौत

स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए टेलीमेडिसिन की व्यवस्था

योगी ने कहा कि प्रदेश में पहली बार प्राथमिक सेवा केंद्रों पर आरोग्य मेले हर रविवार को आयोजित किए जा रहे हैं, और अब तक 17 लाख लोगों को इससे फायदा मिला है. इसके अलावा ग्रामीण क्षत्रों में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए टेलीमेडिसिन की व्यवस्था की जा रही है, जिसमें पीजीआई और किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज के विशेषज्ञ द्वारा राय दी जा रही है. उन्होंने कहा कि 2016 से पहले प्रदेश में कुल 12 मेडिकल कॉलेज थे. इस सरकार में 29 नए मेडिकल कॉलेज खोलने की प्रक्रिया चल रही है, जिसमें से सात खुल भी गए हैं, और बाकी के निर्माण की प्रक्रिया चल रही है.

First Published : 26 Feb 2020, 09:06:58 AM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×