logo-image
लोकसभा चुनाव

Kashi Vishwanath के 100 बार दर्शन करने वाले पहले मुख्यमंत्री बने योगी आदित्यनाथ

Yogi Adityanath at Kashi Vishwanath Temple : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को रिकॉर्ड 100वीं बार बाबा विश्वनाथ की पूजा अर्चना की. इसके साथ ही वो बतौर मुख्यमंत्री काशी के कोतवाल कहे जाने वाले काल भैरव के दरबार में भी पहुंचे...

Updated on: 18 Mar 2023, 06:28 PM

highlights

  • योगी आदित्यनाथ काशी में पहुंचे 113वीं बार
  • 100 बार बाबा विश्वनाथ के दर्शन करने वाले पहले सीएम
  • काल भैरव के भी कर चुके हैं 100 बार दर्शन

वाराणसी:

Yogi Adityanath at Kashi Vishwanath Temple : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को रिकॉर्ड 100वीं बार बाबा विश्वनाथ की पूजा अर्चना की. इसके साथ ही वो बतौर मुख्यमंत्री काशी के कोतवाल कहे जाने वाले काल भैरव के दरबार में भी पहुंचे. ऐसा करने वाले वो यूपी के पहले मुख्यमंत्री हैं. वैसे, बतौर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का ये 113वां वाराणसी दौरा रहा. इस बारे में योगी आदित्यनाथ ने अतीत में कहा भी है कि वो बतौर मुख्यमंत्री जब काशी आते हैं, तो उत्तर प्रदेश की समस्त जनता के कल्याण की कामना करते हैं. वो पूरे देश और समस्त धरा के कल्याण की भी कामना करते हैं. 

पहले कार्यकाल में 74 बार किये थे बाबा विश्वनाथ के दर्शन

योगी आदित्यनाथ शुक्रवार-शनिवार को दो दिवसीय दौरे पर वाराणसी पहुंचे. उन्होंने शनिवार को बाबा विश्वनाथ के दर्शन किये. शुक्रवार को उन्होंने काशी के विकास कार्यों की समीक्षा की थी. लेकिन इस बार का उनका बाबा के दरबार में पहुंचना एक उपलब्धि लेकर आया. उन्होंने 100वीं बार बाबा के दरबार में बतौर मुख्यमंत्री हाजिरी लगाई है. योगी आदित्यनाथ ने अपने पहले कार्यकाल में 74 बार बाबा विश्वनाथ के दर्शन किये थे. इस दूसरे कार्यकाल में अभी तक वो 26 बार बाबा विश्वनाथ के दर्शन कर चुके हैं. अकेले इसी साल वो अब तक 7 बार बाबा के दरबार में हाजिरी लगा चुके हैं. 

ये भी पढ़ें : India-Bangladesh Friendship Pipeline का पीएम मोदी-शेख हसीना ने किया उद्घाटन, जानें खासियत

काल भैरव मंदिर में भी 100वीं बार दर्शन पूजन 

योगी आदित्यनाथ काशी के कोतवाल बाबा काल भैरव के दरबार में 100 बार हाजिरी लगाने वाले मुख्यमंत्री भी बन गये. मुख्यमंत्री ने शनिवार को सुबह बाबा काल भैरव मंदिर में विधि-विधान से दर्शन पूजन और आरती की. इस दौरान मंदिर के बाहर डमरू बजा रहे एक बालक को देख मुख्यमंत्री ने रुककर प्यार से उसका नाम पूछा और उससे उसकी पढ़ाई को लेकर जानकारी ली.